taaja khabar...सुप्रीम कोर्ट से मोदी को राफेल पर बड़ी राहत, राहुल को झटका....मध्य प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री होंगे कमलनाथ, कांग्रेस ने किया ऐलान...हिमाचल विधानसभा में पारित हुआ गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा देने का प्रस्ताव...मुठभेड़ में मारे गए तीन लश्कर आतंकियों में हैदर मूवी में ऐक्टिंग करने वाला युवक भी शामिल...मिजोरम: पहली बार ईसाई रीति-रिवाजों के साथ होगा शपथ ग्रहण...पाकिस्तानियों को भारत में बसाने का विवादित कानून, SC ने उठाए सवाल...तीन राज्यों में हार के बाद 2019 के लिए मैराथन प्रचार में जुटेंगे पीएम मोदी, दक्षिण, पूर्व और पूर्वोत्तर पर नजर...बीजेपी का बड़ा दांव, गांधी परिवार के गढ़ से कुमार विश्वास को दे सकती है टिकट...छत्तीसगढ़ में हर तीसरे MLA पर आपराधिक केस, तीन-चौथाई करोड़पति...हार के बाद BJP ने 2019 के चुनाव के लिए भरी हुंकार, रणनीति तैयार...
कांग्रेस जिलाध्यक्षों से राहुल गांधी का सीधा संवाद, 2019 के लिए दिया जीत का मंत्र
लखनऊ: 2019 लोकसभा चुनाव की तैयारी कर रही कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने जिलाध्यक्षों और शहर अध्यक्षों से पार्टी को आरएसएस से अलग पहचान देने की बात कही. चुनावों से पहले अपने कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद करने में जुटे राहुल ने गुरुवार को देशभर के जिला और शहर अध्यक्षों के साथ की अपनी ऑडियो कॉफ्रेंसिंग में ये बात कही. सूत्रों के मुताबिक, राहुल गांधी ने आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा कि आप लोगों (जिला और शहर अध्यक्षों) को आम लोगों से बातचीत करनी चाहिए. अगर जनता से जुड़े नहीं रहेंगे तो आपके संगठन (कांग्रेस) में और आरएसएस में कोई अंतर नहीं रहेगा. इसके अलावा उन्होंने संगठन में अनुशासन, सभी की भागीदारी, संगठन की मजबूती और चुनाव जीतने के लिए सुझावों पर भी बात की. कांग्रेस अध्यक्ष की इस कोशिश पर बीजेपी ने कांग्रेस पर बीजेपी की पिछलग्गू होने का आरोप लगाया. बीजेपी प्रवक्ता चंद्रमोहन ने कहा कि “कांग्रेस बीजेपी की पिछलग्गू है. हमारे पीएम बूथ लेवल तक के कार्यकर्ताओं से बातचीत कर रहे हैं. ये अभी जिले में ही पहुंचे हैं. जो बीजेपी करेगी उसकी नकल करना चाहते हैं ये. संगठन बचा ही कहां है कांग्रेस का” वहीं, बीजेपी के इस आरोप का जवाब देते हुए कांग्रेस ने उल्टा बीजेपी पर नकल करने का आरोप लगाया. कांग्रेस प्रवक्ता बृजेंद्र सिंह ने कहा कि “हम बीजेपी की नकल कर रहे हैं या बीजेपी हमारी नकल कर रही है. 1937 से हमारी पार्टी है. इंदिरा जी सप्ताह में 3 दिन कार्यकर्ताओं से मिलती थीं. राहुल जी जब से अध्यक्ष बने हैं सीधे बात के कार्यक्रम कर रहे हैं. बीजेपी जो कहती है वो कहते रहे.” दरअसल, पीएम मोदी लगातार बीजेपी कार्यकर्ताओं से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए बात कर रहे हैं. वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल गांधी की ये इस तरह की पहली कोशिश है जहां वो कार्यकर्ताओं से सीधे तकनीकी माध्यम से संवाद कर रहे हों. इससे पहले भी उत्तर प्रदेश में बीजेपी के ओबीसी मोर्चे के सम्मेलन कराने के बाद कांग्रेस ने इस तरीके का सम्मेलन किया. मिस्ड कॉल मेंबरशिप अभियान के बाद कांग्रेस ने भी इस तरीके का अभियान चलाया है. ऐसे में बीजेपी लंबे समय से कांग्रेस पर रणनीति फॉलो करने का आरोप लगाती है.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/