taaja khabar....संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा- नागपुर से नहीं चलती सरकार, कभी नहीं जाता फोन...जॉब रैकिट का पर्दाफाश, कृषि भवन में कराते थे फर्जी इंटरव्यू...हिज्बुल का कश्मीरियों को फरमान, सरकारी नौकरी छोड़ो या मरो...एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी बीएसपी को चाहिए ज्यादा सीटें...अगस्ता डील के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल का दुबई से जल्द हो सकता है प्रत्यर्पण....PM मोदी की पढ़ाई पर सवाल उठाकर फंसीं कांग्रेस की सोशल मीडिया हेड स्पंदना, हुईं ट्रोल...
दिल्ली में पूर्वांचल महाकुंभ रैली के जरिए चुनावी बिगुल फूंकेंगे शाह
नई दिल्ली, बीजेपी की ओर से दिल्ली के रामलीला मैदान में 23 सितंबर को एक बड़ी रैली आयोजित की जा रही है. इसे पूर्वांचल महाकुंभ नाम दिया गया है. रैली में पूर्वांचल से ताल्लुक रखने वाले कईं केंद्रीय मंत्री, सांसद और पार्टी के बड़े पूर्वांचली नेता भी शामिल होंगे. इस रैली में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आगामी लोकसभा चुनाव के लिए शंखनाद करने वाले हैं. पूर्वांचली वोटर्स को लुभाने की कोशिश दिल्ली में पूर्वांचली वोटर्स की संख्या अच्छी खासी है, इन वोटर्स का असर लोकसभा की सीटों पर भी पड़ता है. इसी वजह से बीजेपी इसकी शुरुआत पूर्वांचल महाकुंभ से शुरू कर रही है. बीजेपी अपने परंपरागत वोट बैंक को बनाए रखने के साथ ही नए लोगों को साथ जोड़ने की रणनीति पर भी काम कर रही है. बीजेपी की नजर दिल्ली की चुनावी सियासत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले पूर्वांचल के मतदाताओं पर हैं. यही कारण था पार्टी ने भोजपुरी सुपरस्टार और सांसद मनोज तिवारी को दिल्ली बीजेपी का अध्यक्ष बनाया है. इससे झारखंड, बिहार और उत्तर प्रदेश के लोगों के बीच जनाधार और बढ़ाया जा सके. पूर्वांचल के नेता होंगे शामिल इस रैली में भीड़ जुटाकर बीजेपी लोगों में ये संदेश देने की कोशिश करेगी कि पूर्वांचल वोटर्स बीजेपी के साथ है. इस रैली में दिल्ली बीजेपी के नेता तो शामिल होंगे. इसके साथ ही मोदी सरकार के सभी मंत्री जो पूर्वांचल इलाके से सांसद हैं वो भी इस महाकुंभ में जुटेंगे. इन नेताओं में कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद, कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह, रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा के अलावा गिरिराज सिंह, अश्वनी चौबे, शिव प्रताप शुक्ल और मनोज तिवारी शामिल होंगे. सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी भी इस रैली में जुड़ सकते हैं क्योंकि वो भी पूर्वांचल इलाके से सांसद हैं. फिलहाल अभी उनकी अनुमति नहीं मिली है. सफल बनाने में जुटे बीजेपी कार्यकर्ता इस रैली को सफल बनाने के लिए बीजेपी कार्यकर्ता जुट गए हैं. इसी के तहत रैली स्थल पर पहुंचने वालों के लिए 1500 बस प्रमुखों की नियुक्ति की गई है. बस प्रमुखों और अन्य नेताओं से संपर्क करने के लिए प्रदेश कार्यालय में कॉल सेंटर भी बनाया गया है. इस रैली के बाद दिल्ली में भाजपा युवा मोर्चा और अनुसूचित जाति मोर्चा की भी रैली होगी. दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने रैली के बारे में कहा, ''हमारा मकसद लोगों को साथ जोड़ने का है.'' बता दें कि बीजेपी आने वाले दिनों में एससी, युवा मोर्चा और महिला मोर्चा की रैलियां भी आयोजित करेगी.''

Top News

http://www.hitwebcounter.com/