taaja khabar....राफेल डील पर नई रिपोर्ट का दावा, नियमों के तहत रिलायंस को मिला ठेका.....सीबीआई को पहली कामयाबी, भारत लाया गया विदेश भागा भगोड़ा मोहम्मद याह्या.....राजस्थान विधानसभा चुनाव की बाजी पलट कर लोकसभा के लिए बढ़त की तैयारी में BJP.......GST के बाद एक और बड़े सुधार की ओर सरकार, पूरे देश में समान स्टैंप ड्यूटी के लिए बदलेगी कानून....UNHRC में भारत की बड़ी जीत, सुषमा स्वराज ने जताई खुशी....PM मोदी के लिखे गाने पर दृष्टिबाधित लड़कियों ने किया गरबा.....मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस के साथ नहीं एसपी-बीएसपी, बीजेपी को हो सकता है फायदा....गुरुग्रामः जज की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी ने उनकी पत्नी, बेटे को बीच सड़क गोली मारी, अरेस्ट....बेंगलुरु में HAL कर्मचारियों से मिले राहुल गांधी, बोले- राफेल आपका अधिकार....कैलाश गहलोत के घर से टैक्स चोरी के सबूत मिलेः आईटी विभाग.....मेरे लिए पाकिस्तान की यात्रा दक्षिण भारत की यात्रा से बेहतर: सिद्धू....घायल रहते 2 उग्रावादियों को किया ढेर, शहादत के बाद इंस्पेक्टर को मिलेगा कीर्ति चक्र....छत्तीसगढ़: कांग्रेस को तगड़ा झटका, रामदयाल उइके BJP में शामिल....
रोहिंग्याओं की झुग्गी में मिला 30 लाख कैश, पुलिस भी रह गई दंग
जम्मू- रोहिंग्या शरणार्थियों को लेकर दुनिया भर में मचे बवाल के बीच जम्मू-कश्मीर में चौंकाने वाली घटना सामने आई है. मिली जानकारी के अनुसार, जम्मू के चन्नी हिम्मत इलाके में रोहिंग्याओं की झुग्गी बस्ती से पुलिस ने 30 लाख रुपये कैश बरामद किये हैं. इतनी बड़ी रकम रोहिंग्याओं के पास कैसे आई और इसका क्या इस्तेमाल होने वाला था इस बारे में फिलहाल जांच जारी है. पुलिस के मुताबिक, उन्हें यह टिप मिली थी कि रोहिंग्याओं की एक झुग्गी में बड़ी मात्रा में कैश है. जब पुलिस ने छापा मारा तो 30 लाख रुपये कैश मिला. यह पूरा कैश एक कचरे के ढेर के नीचे कंटेनर और एक सूट केस में रखा था. कैश मिलने के बाद पुलिस ने पूछताछ के लिए तीन लोगों को हिरासत में लिया है. सूत्रों का कहना है कि हिरासत में लिए गए आरोपी इस्माइल और नूर आलम की उम्र 19 और 21 वर्ष क्रमशः है. दोनों कुछ दिन पहले ही बांग्लादेश से लौटे हैं. हालांकि, पूछताछ में दोनों युवक यह नहीं बता पाए कि बिना पासपोर्ट के वो भारत में इतनी बड़ी रकम लेकर कैसे पहुंचे. सूत्रों का तो यह तक कहना है कि दोनों पिछले 6 साल से जम्मू में रह रहे हैं. शक जताया जा रहा है कि क्या इतनी बड़ी रकम का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों और ह्यूमन ट्रैफिकिंग में तो नहीं हो रहा था. मालूम हो कि म्यांमार से निकाले जाने के बाद रोहिंग्या दुनिया भर में ठिकाना खोज रहे हैं. कुछ समय पहले इन्हें लेकर देश की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े हुए थे. जम्मू चेंबर ऑफ़ कॉमर्स, जम्मू एंड कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी समेत कई राजनीतिक दल रोहिंग्याओं को देश के लिए खतरा बताते हुए उन्हें बाहर निकालने की मांग कर चुके हैं.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/