taaja khabar...लद्दाख में अब चीनी सैनिकों का 1962 जैसा पैंतराः बजा रहे पंजाबी गाने, PM मोदी के खिलाफ भड़का रहे ...पैंगोंग झील: भारत के ऐक्‍शन के बाद 33 साल में पहली बार सबसे ज्‍यादा अलर्ट पर चीनी सेना ...लद्दाख: राजनाथ सिंह के बयान पर चीनी मीडिया को लगी म‍िर्ची, दे डाली युद्ध की धमकी ...लद्दाख में चीन से लंबा चलेगा तनाव! देपसांग में ग्राउंड वाटर की संभावनाएं तलाश रही सेना...महाराष्ट्र सरकार ने बढ़ाई बच्चन फैमिली की सुरक्षा, बीजेपी बोली- सुशांत और कंगना को क्यों नहीं दी? ...योगी आदित्यनाथ ने 87 लाख गरीबों के खाते में ट्रांसफर की 1311 करोड़ रुपये पेंशन ...चीन से तनाव के बीच शाम 5 बजे सर्वदलीय बैठक, कांग्रेस उठाएगी LAC का मुद्दा...UP के बाहुबली MLA विजय मिश्रा पर कसा शिकंजा, पत्नी-बेटा नहीं हुए हाजिर तो संपत्ति होगी कुर्क...नवंबर तक भारत में आ जाएगा कोरोना का रूसी टीका! डॉ. रेड्डीज से हुआ करार ...सरकार किसानों को दे रही 80% सब्सिडी, ऐसे ले सकते हैं फायदा..तीन महीने का इंतजार और फिर ‘ऑपरेशन स्नो लेपर्ड’ चला सेना ने ऐसे दी चीन को मात...जया पर रवि किशन का पलटवार, 'जिस थाली में जहर हो उसमे छेद करना ही पड़ेगा'..

लद्दाख में तनाव के बीच उत्तराखंड सीमा पर भी हलचल, दिल्ली से भेजी गईं अतिरिक्त कंपनियां

नई दिल्ली, भारत और चीन के बीच बॉर्डर पर हालात सामान्य नहीं हैं. ऐसे में चीन की चालाकी को जवाब देने के लिए सेना हर मोर्चे पर सतर्क है. लद्दाख में जारी तनाव के बीच अन्य सीमाओं पर भी हलचल बढ़ गई है. गृह मंत्रालय की ओर से भारत-चीन, भारत-नेपाल और भारत-भूटान पर सुरक्षाबलों को सतर्क रहने को कहा गया है. सूत्रों के अनुसार, ITBP और SSB को अलर्ट पर रखा गया है. इसके तहत उत्तराखंड, अरुणाचल, हिमाचल, लद्दाख और सिक्किम बॉर्डर पर ITBP की निगरानी को और भी मजबूत किया गया है. उत्तराखंड के कालापानी इलाके में जहां पर भारत-चीन-नेपाल तीनों देशों का मेल है वहां भी सतर्कता बढ़ गई है. SSB की 30 कंपनी यानी 3000 जवानों को भारत-नेपाल बॉर्डर पर भेजा गया. इससे पहले इन कंपनियों की तैनाती कश्मीर और दिल्ली में थी. सूत्रों की मानें तो मंगलवार को गृह मंत्रालय में बॉर्डर मैनेजमेंट के सेक्रेटरी और ITBP, SSB के अधिकारियों के साथ बैठक हुई थी. इस बैठक के बाद चीन ,नेपाल, भूटान सहित दूसरे बॉर्डर पर सतर्कता बढ़ाने के निर्देश दिये गए हैं. आपको बता दें कि लद्दाख बॉर्डर पर चीन ने बीते तीन दिनों में घुसपैठ की कोशिश की है. इस दौरान हाथापाई की स्थिति भी आई लेकिन भारतीय सेना के जवानों ने चीन की हर कोशिश को नाकाम कर दिया. इससे पहले भी कई बार चीन लद्दाख सीमा के अलावा अरुणाचल और उत्तराखंड में हलचल करते आया है, ऐसे में भारत पहले से ज्यादा सतर्क है. अगर लद्दाख सीमा की बात करें तो भारत ने वहां पर अपने जवानों की संख्या को बढ़ा दिया है. साथ ही बॉर्डर से सटे क्षेत्र में अब टैंक की तैनाती भी है, दोनों देशों के टैंक आमने-सामने हैं और फायरिंग रेंज में मौजूद हैं. ताजा विवाद को निपटाने के लिए ब्रिगेड कमांडर लेवल की बातचीत हो रही है लेकिन चीन के पुराने रिकॉर्ड को देखते हुए उसपर भरोसा नहीं किया जा सकता है. इस वजह से हर तरह की सतर्कता बरती जा रही है.

Top News