taaja khabar....रिकवरी रेट बढ़कर 80 प्रतिशत, अमेरिका को पीछे छोड़ टॉप पर भारत ...NCB से बोला राहिल- 'सैम' बनकर बांटता था सिलेब्‍स में ड्रग्‍स, बॉलिवुड से जुड़ा है मेरा 'बॉस' ...योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा बोले- साजिश के तहत फैलाया जा रहा लव जिहाद, जरूरत पड़ीं तो कानून लाएंगे ...कश्मीर में अमन बिगाड़ने की कोशिश में पाकिस्तान, सेना लगातार नाकाम कर रही मंसूबेः डीजीपी ...जम्मू-कश्मीर को 1350 करोड़ के आर्थिक पैकेज का तोहफा, पानी-बिजली बिल में भी 50% की छूट ...ड्रग्स मंडली पर एक्शन जारी, 14 दिन के लिए जेल भेजा गया सप्लायर राहिल विश्राम...केरल और बंगाल में NIA की रेड, अलकायदा से जुड़े 9 संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार...

लद्दाख सीमा पर चीन ने फिर की घुसपैठ की कोशिश, रेजांग ला में सेना के सामने आए PLA के 40-50 जवान

लद्दाख,08 सितंबर 2020,लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के बीच तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है. सोमवार की घटना के बाद एक बार फिर भारत और चीन की सेना के सैनिक आमने-सामने आए हैं. पैंगोंग के पास रेजांग ला में करीब 40-50 सैनिक दोनों ओर से आमने-सामने आए. इस इलाके में भारतीय सेना के जवानों का कब्जा है, लेकिन चीनी सेना के 40-50 सैनिक इनके सामने आ गए. चीन की ओर से कोशिश की गई है कि भारतीय जवानों को हटाया जाए और उस रेजांग ला की ऊंचाई पर कब्जा कर लिया जाए. हालांकि, चीनी सेना इसमें सफल नहीं हो पाई है. आपको बता दें कि सोमवार की शाम को चीन की ओर से लद्दाख सीमा में घुसपैठ की कोशिश की गई थी, जब भारतीय जवानों ने उन्हें रोका तो PLA के जवानों ने फायरिंग की. हवाई फायरिंग कर भारतीय सेना को डराने की कोशिश की गई, लेकिन भारतीय सेना के जवानों ने संयम बरता और चीनी सैनिकों को वापस भेज दिया. 30 अगस्त की घटना के बाद से ही चीन कई बार घुसपैठ की कोशिश कर चुका है लेकिन हर बार उसे नाकामी मिली है. हर बार अपनी नाकाम कोशिश के बाद चीन की ओर से भारतीय सेना पर ही घुसपैठ का आरोप लगाया जाता है. सोमवार की घटना के बाद भी चीनी विदेश मंत्रालय, चीनी सेना और चीनी मीडिया ने भारत पर घुसपैठ का आरोप लगाया और फायरिंग की बात कही. लेकिन भारतीय सेना ने अपने बयान में चीन के इस झूठ का पर्दाफाश कर दिया. दरअसल, भारतीय सेना ने जब से काला टॉप, हेल्मेट टॉप और पैंगोंग 4 इलाके के कुछ हिस्से पर अपना कब्जा किया है तभी से ही चीन की हालत पतली है. क्योंकि ये इलाके युद्ध और किसी भी अन्य वक्त में रणनीतिक तौर पर काफी अहम हैं, ऐसे में चीन की कोशिश है कि इन्हें तुरंत वापस लिया जाए. जिसमें वो सफल नहीं हो पा रहा है.

Top News