taaja khabar..भारत में बड़ा आतंकी हमला करने की फिराक में है इस्लामिक स्टेट, रूस ने साजिश रच रहे आत्मघाती हमलावर को हिरासत में लिया..भाजपा का सिसोदिया पर पलटवार, कहा- केजरीवाल जिसे देते हैं ईमानदारी का सर्टिफिकेट वो जरूर जाता है जेल..शहनवाज हुसैन को सर्वोच्च न्यायालय से मिली बड़ी राहत, हाई कोर्ट के आदेश पर लगी रोक..आबकारी घोटाले में 'टूलकिट माड्यूल' की जांच, स्टैंडअप कामेडियन और हैदराबाद से जुड़े शराब के व्यापारी भी रडार पर..प्रधानमंत्री 24 अगस्त को हरियाणा और पंजाब में अस्पतालों का उद्घाटन करेंगे..आबकारी नीति मामला: भाजपा की दिल्ली इकाई का केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन..

लद्दाख में भारत चीन आमने-सामने, सेना अध्यक्षों से राजनाथ सिंह- चीन की हर हरकत का जवाब दें

नई दिल्ली लाइन ऑफ ऐक्चुल कंट्रोल (LAC) पर चीन की कोई भी एक गलती अब उसको बहुत भारी पड़ सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि रक्षा मंत्री राजनाथ ने सेना को फ्री हैंड दे दिया है। सेना को स्थिति के मुताबिक ऐक्शन लेने की छूट पहले भी दी गई थी, लेकिन अब राजनाथ सिंह ने साफ कह दिया है कि सेना चीन की हर हरकत का जवाब देने के लिए तैयार रहे। यह भी जानकारी मिली है कि चीन के साथ लगती सीमा की रक्षा के लिए भारत अब से अलग सामरिक तरीके अपनाएगा। रविवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लद्दाख मसले पर मीटिंग की थी। इसमें सीडीएस जनरल बिपिन रावत के साथ-साथ तीनों सेनाओं के प्रमुख (जल, थल और वायु) शामिल थे। चारों से राजनाथ सिंह ने लद्दाख की मौजूदा स्थिति पर चर्चा की। जानकारी के मुताबिक, बैठक में सेना को LAC पर पूर्ण स्वतंत्रता दे दी गई है। कहा गया है कि चीन की हर हरकत का जवाब देने के लिए सेना तैयार रहे। सेना प्रमुखों से चीन की हर हरकत पर पैनी नजर रखने को कहा गया है। राजनाथ सिंह ने शीर्ष सैन्य अधिकारियों को जमीनी सीमा, हवाई क्षेत्र और रणनीतिक समुद्री मार्गों में चीन की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए हैं। पैंगोंग झील पर बढ़ सकता है तनाव गलवान घाटी में मन की नहीं कर पाने के बाद चीन बौखला गया है। अब उसने पैंगोंग झील के 8 किलोमीटर इलाके को ब्लॉक किया है। ऐसे में एक्सपर्ट्स को आशंका है कि अगला विवाद पैंगोंग झील पर ही हो सकता है। यहां 5 और 6 मई को सेनाओं के बीच झड़प हो चुकी है। लेकिन अगर इसबार ऐसा हुआ तो वह धक्कामुक्की, पत्थरबाजी और डंडों तक सीमित रहना मुश्किल है। फिलहाल गलवान घाटी में भारतीय सेना भी पूरी तरह सतर्क है। थल और वायु सेना दोनों हाई-अलर्ट पर हैं। चीन की किसी भी गुस्ताखी का जवाब देने की सेना को मोदी सरकार ने पूरी छूट दी है।

Top News