taaja khabar..भारत में बड़ा आतंकी हमला करने की फिराक में है इस्लामिक स्टेट, रूस ने साजिश रच रहे आत्मघाती हमलावर को हिरासत में लिया..भाजपा का सिसोदिया पर पलटवार, कहा- केजरीवाल जिसे देते हैं ईमानदारी का सर्टिफिकेट वो जरूर जाता है जेल..शहनवाज हुसैन को सर्वोच्च न्यायालय से मिली बड़ी राहत, हाई कोर्ट के आदेश पर लगी रोक..आबकारी घोटाले में 'टूलकिट माड्यूल' की जांच, स्टैंडअप कामेडियन और हैदराबाद से जुड़े शराब के व्यापारी भी रडार पर..प्रधानमंत्री 24 अगस्त को हरियाणा और पंजाब में अस्पतालों का उद्घाटन करेंगे..आबकारी नीति मामला: भाजपा की दिल्ली इकाई का केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन..

हेलिकॉप्टर से भारी मशीनें, चीन सीमा पर तेज हुआ काम

पिथौरागढ़ भारत-चीन की सीमा पर हेलिकॉप्टरों ने भारत-चीन सीमा के पास मिलम से मुनस्यारी तक बनने वाली सड़क का निर्माण तेज कर दिया है। सड़क निर्माण जल्दी पूरा करने के लिए उत्तराखंड के जौहर घाटी के कठिन हिमालयी इलाके में हेलिकॉप्टर से भारी मशीनें उतारी गई हैं। इन मशीनों की मदद से सड़क बनाने के काम में तेजी लाई जाएगी। बीआरओ के मुख्य अभियंता बिमल गोस्वामी ने कहा कि 2019 में कई बार प्रयास के बाद भी उन लोगों को सफलता नहीं मिली थी। सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) इसी महीने हेलिकाप्टरों से भारी सड़क निर्माण उपकरण उतारने में सफल हो गया है और अब सड़क बनाने के काम में तेजी आएगी। उपकरणों की कमी से काम में हो रही थी देरी अभियंता ने बताया कि 65 किलोमीटर की सड़क के संरेखण स्थल के पास लासपा में भारी पत्थर काटने के उपकरणों की कमी थी। उपकरण न होने के कारण पत्थरों को काटने में देरी के चलते निर्माण में भी देरी हो रही थी। पिछले साल कई प्रयास हुए थे असफल राज्य के पिथौरागढ़ जिले में जौहर घाटी के उच्च हिमालयी क्षेत्र में बनने वाली मुनस्यारी-बोगडियार- मिलम सड़क भारत-चीन सीमा पर स्थित अंतिम चौकियों की एक कड़ी होगी। बीआरओ के अधिकारियों ने बताया, 'पिछले साल कई असफल प्रयासों के बाद, हम इस महीने में भारी मशीनों के साथ हेलिकॉप्टर उतारने में सफल रहे। अब हमें उम्मीद है कि यहां पर चुनौतीपूर्ण सड़क निर्माण का काम अब अगले तीन वर्षों में पूरा कर लिया जाएगा।' सीधा खड़ा 22 किमी का पहाड़ आ रहा था आड़े अधिकारियों ने बताया कि यहां पर 22 किलोमीटर के हिस्से में पहाड़ एकम सीधा है। उसकी कठोर चट्टानों को बिना भारी उपकरणों की सहायता के काटना बहुत चुनौतिपूर्ण था। अब इन चट्टानों को काटना आसान होगा क्योंकि भारी मशीनों को हेलीकॉप्टर से कार्यस्थल तक पहुंचाया जा सकता है। 40 किमी हिस्से पर कटाई का काम पूरा हुआ बीआरओ के मुख्य अभियंता ने कहा, 'सड़क का निर्माण 2010 में 325 करोड़ रुपये की लागत के साथ शुरू किया गया था। उन्होंने कहा कि सड़क का निर्माण दोनों छोर से किया जा रहा है और 22 किलोमीटर के कठिन हिस्से को छोड़कर, सड़क के 40 किमी हिस्से पर कटाई का काम पूरा हो चुका है।

Top News