taaja khabar....भारत ने तीसरे टेस्ट में साउथ अफ्रीका को पारी और 202 रनों से हराया, सीरीज में क्लीन स्वीप....महाराष्ट्र-हरियाणा महाएग्जिट पोल: देवेंद्र फडणवीस और खट्टर की बंपर वापसी का अनुमान....केजरीवाल और उनके मंत्रियों के इलाज पर 4 साल में 50 लाख से ज्यादा खर्च....भारतीय शटलर पीवी सिंधु ने 'भारत की लक्ष्मी' अभियान को किया सपॉर्ट...दिल्ली पुलिस के ऑपरेशन लंगड़ा से मचेगी स्नैचरों में खलबली....पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद की धमकी, अबकी युद्ध में 4-6 दिन तोपें नहीं चलेंगी, सीधे परमाणु जंग होगी...कमलेश तिवारी मर्डर: हिंदू समाज पार्टी में घुसने के लिए अशफाक शेख ने चुराई थी हिंदू सहकर्मी की आईडी...महाराष्ट्र, हरियाणा के एग्जिट पोल्स क्यों दे रहे कांग्रेस को टेंशन, कश्मीर पर बदलेगी स्टैंड?....INX केस: गिरफ्तारी के 2 महीने बाद पी चिदंबरम को बेल, मगर जारी रहेगी जेल ...

राजस्थान कांग्रेस के हारे उम्मीदवार बोले- पार्टी नेताओं की गद्दारी से हारे लोकसभा चुनाव

नई दिल्ली, लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस में मंथन और समीक्षा का दौर जारी है. कांग्रेस के नेता हार के लिए एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं. राजस्थान कांग्रेस के हारे हुए उम्मीदावारों ने अपनी हार की सबसे बड़ी वजह पार्टी के नेताओं की गद्दारी बताया है. राजस्थान में कांग्रेस के सभी 25 लोकसभा प्रत्याशियों से दिल्ली में प्रदेश के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे ने मुलाकात की और हार के कारणों का फीडबैक लिया. अविनाश पांडे के साथ सहप्रभारी भी मौजूद रहे. इस दौरान एक-एक करके सभी लोकसभा प्रत्याशियों के साथ अकेले में चर्चा की गई और हार के कारणों की वजह पूछी गई. जिसमें उन्होंने बताया कि कांग्रेस के प्रत्याशियों की हार के लिए कांग्रेस के नेता ही जिम्मेदार हैं. इन्होंने अपने फीडबैक में कहा कि टिकट मिलने के बाद कांग्रेस के ज्यादातर पदाधिकारी घोषित उम्मीदवार के खिलाफ काम करते रहे और उन्हें हरवाने का काम किया है. उन्होंने आरोप लगाया कि पार्टी की तरफ से प्रत्याशियों को सहयोग नहीं मिला. इसके अलावा कांग्रेस के प्रत्याशियों ने यह कहा कि लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी का बूथ मैनेजमेंट जबरदस्त रहा. दिल्ली में कांग्रेस के वॉर रूम में प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे और सह प्रभारी विवेक बंसल पिछले 3 दिनों से सभी उम्मीदवारों के साथ मिलकर उनके फीडबैक को लिखित में दर्ज कर रहे हैं. कांग्रेस के प्रत्याशियों ने यह भी कहा कि गुटबाजी के अलावा कांग्रेस के चुनाव लड़ने की रणनीति फेल रही. राज्य सरकार ने चुनाव से पहले जो फैसले किए थे, उसे जनता के बीच सरकार के मंत्री, विधायक और कार्यकर्ता नहीं पहुंचा पाए. उम्मीदवारों ने बताया कि जिस तरह से राजस्थान सरकार ने किसानों की कर्ज माफी और बेरोजगारी भत्ता देने का फैसला किया, उसके बारे में जमीनी स्तर पर जनता को नहीं पता चला. उन्होंने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस बड़ी-बड़ी रैलियां करके सीमित रह गई, जबकि भारतीय जनता पार्टी एक-एक घर तक प्रचार के लिए पहुंची. इस फीडबैक की पूरी रिपोर्ट कांग्रेस आलाकमान को दी जाएगी. इस पूरे फीडबैक में कहीं भी हार के लिए नेतृत्व को किसी ने भी जिम्मेदार नहीं ठहराया है. आपको बता दें कि राजस्थान में लोकसभा की 25 सीटे हैं, जिनमें से कांग्रेस को एक भी सीट पर जीत नहीं मिली.

Top News