taaja khabar....दुनियाभर में खुले नए बैंक खातों में से 55 प्रतिशत भारत में खुले...ट्रंप की नई नीति से मिलिटरी ड्रोन की खरीद होगी आसान, भारत को होगा फायदा....महाभियोग पर कांग्रेस के भीतर विरोध बढ़ा, पूर्व कानून मंत्री अश्विनी कुमार ने कहा- मैं नहीं करता साइन....सीजफायर उल्लंघन के जवाब में पाक के साथ एलओसी दबाव बनाना जारी रखेगी सेना....प्रधानमंत्री मोदी ने जर्मन चांसलर मर्केल से बर्लिन में की मुलाकात...सूरत रेप केस: बंधुआ मजदूरी के लिए 35 हजार में खरीदी गई थी बच्ची और उसकी मां.....नाबालिगों से रेप मामले में मौत की सजा पर आज लग सकती है कैबिनेट की मुहर....PIL से नाराज सुप्रीम कोर्ट ने वकील से पूछा- क्या आपके रिश्तेदार से हुआ रेप?...विपक्ष के महाभियोग को हथियार बना एक तीर से दो निशाने साधने की तैयारी में BJP....
श्रीविश्वकर्मा पलम्बर श्रमिक संघ की मासिक बैठक सम्पन्न
श्रीगंगानगर, 16 अप्रेल 2018: भारतीय मजदूर संघ से सम्बद्ध श्रीविश्वकर्मा पलम्बर श्रमिक संघ, भवन निर्माण श्रमिक संघ, पी.ओ.पी. श्रमिक संघ, विश्वकर्मा इलेक्ट्रिक ट्रेड श्रमिक संघ की बैठक जिलाध्यक्ष हेमराज चौधरी की अध्यक्षता में इन्दिरा वाटिका में सम्पन्न हुई। जिला संगठन मंत्री प्रदीप पंडित ‘कश्मीरी’ ने बताया कि इस बैठक में ‘बेटी बचाओ - बेटी पढ़ाओ’ अभियान पर चर्चा की गई। वक्ताओं ने कहा कि यह अभियान सिर्फ कागजों तक ही सीमित है। बेटियों को किसी भी तरह की कोई भी नाममात्र सुविधा भी नहीं मिलती है। इसका ज्वलंत उदाहरण मीरा चौक स्थित एक निजी स्कूल में अध्ययनरत दो बालिकायें हैं, जिन्हें पहले फीस ना होने की वजह से पेपरों में बैठने देने पर आना-कानी की गई और उसके बाद उन्हें अभी तक रिजल्ट की कॉपी नहीं दी गई है और स्कूल में प्रवेश नहीं दिया गया है, जबकि उस परिवार के पास विद्यालय में जमा करवाने के लिए पैसे तक नहीं है। वक्ताओं ने कहा कि इस बारे में बार-बार जिला शिक्षा अधिकारी को भी अवगत करवाया गया है, लेकिन किसी के कान पर कोई जूं तक नहीं रेंगी। इस स्थिति में बेटी बचाओ - बेटी पढ़ाओ अभियान कहाँ तक कारगर सिद्ध है, यह प्रशासन अच्छी तरह जानता है। भारतीय मजदूर संघ मांग करता है कि प्रशासन बेटी बचाओ - बेटी पढ़ाओ अभियान के अन्तर्गत जो बालिकायें निजी स्कूलों में अध्ययनरत हैं, उनके बारे में सोचकर बेटी बचाओ - बेटी पढ़ाओ अभियान को सफल बनाये, महज कागजों तक सीमित करके अपनी इतिश्री ना कर ले, तभी इस अभियान की सार्थकता है। पलम्बर श्रमिक संघ के अध्यक्ष नरेन्द्र योगी व उनकी कार्यकारिणी ने श्रमिकों के हितों में निर्णय लिया है कि श्रमिकों की समस्याओं के निराकरण के लिए एक शिष्टमण्डल एक सप्ताह के अन्दर-अन्दर श्रम मंत्री से मिलकर श्रमिकों के मुद्दों का निवारण करने की मांग करेगा। पीओपी श्रमिक संघ के महामंत्री रफीक मोहम्मद ने कहा कि बाहर से आने वाले श्रमिकों को श्रीगंगानगर जिले में किसी भी तरह का कार्य नहीं करने दिया जायेगा। अन्यथा उसकी जिम्मेवारी बाहर से आने वाले श्रमिक की खुद की होगी। भवन निर्माण श्रमिक संघ के अध्यक्ष इन्द्रजीत कारगवाल ने श्रमिक कार्ड बनाने में आ रही बाधाओं का जिक्र करते हुए कहा कि लगभग दो साल से श्रमिक कार्ड श्रमिकों के लम्बित पड़े हैं। इससे श्रमिकों को भारी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है तथा श्रमिकों को केन्द्र व राज्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल रहा है। इसलिये इस समस्या का निराकरण करके शीघ्र श्रमिकों के श्रमिक कार्ड बनाये जायें। बैठक के पश्चात् श्रीविश्वकर्मा पलम्बर श्रमिक संघ, भवन निर्माण श्रमिक संघ, पी.ओ.पी. श्रमिक संघ, विश्वकर्मा इलेक्ट्रिक ट्रेड श्रमिक संघ का एक शिष्टमण्डल भारतीय मजदूर संघ के अध्यक्ष हेमराज चौधरी के नेतृत्व में श्रम उपायुक्त से मिला तथा उन्हें श्रमिकों की विभिन्न समस्याओं से अवगत करवाते हुए, शीघ्र निराकरण की मांग की। उप श्रम आयुक्त एवं उनकी टीम श्रमिकों के हित में कार्य कर रही है, इसके लिए उप श्रम आयुक्त की सराहना भी की गई। इस अवसर पर ज्योतिषकुमार छोटे, जाकिर बाबा, दीनदयाल बिरथलिया, इकबाल खान, प्रेम गेदर, रणवीर सिंह, गोविन्द कुमार, अजहर, मान सिंह, रविन्द्र टाक, रमेश चन्द्र, रामेश्वर कुमार, प्रदीप पंडित कश्मीरी, गुरूनानक बस्ती महिला श्रमिक, यूआईटी के पीछे झोपड़ बस्ती पर रहने वाली महिला श्रमिकों सहित अनेक पदाधिकारी व सदस्य उपस्थित थे।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/