taaja khabar....अमेरिका ने भारत को हथियार क्षमता वाले गार्जियन ड्रोन देने की पेशकश की: सूत्र....अविश्वास प्रस्ताव: मोदी सरकार को मिलेगा विपक्ष पर निशाना साधने का मौका....संसद भवन पर हमले के लिए निकले हैं खालिस्तानी आतंकी: खुफिया इनपुट....धरती के इतिहास में वैज्ञानिकों ने खोजा 'मेघालय युग'....कठुआ केस में नया मोड़, पीड़िता के 'असल पिता' कोर्ट में होंगे पेश...निकाह हलाला: बरेली में ससुर पर रेप का केस, अप्राकृतिक सेक्‍स के लिए पति पर भी मुकदमा...मॉनसून सत्र: अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन नहीं करेगी शिवसेना?....देश के हर गांव को जाएगा कुंभ का न्योता, योगी पत्र लिख मुख्यमंत्रियों को बुलाएंगे....क्या अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दे पर मोदी सरकार के दांव में फंस गया विपक्ष?...लखनऊ में बड़े कारोबारी के यहां छापे, 89 किलो सोना-चांदी बरामद, 8 करोड़ कैश भी...
मस्जिद के सेक्रेटरी ने भी माना, सांप्रदायिक नारे लगाने वाले आप के नेता थे
नई दिल्ली, रामनवमी के दिन दिल्ली शाहदरा इलाके में जिस तरह से मस्जिद के बाहर जो नारे लगे, उसने अब राजनीतिक रूप ले लिया है. आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला ने उस घटना को बीजेपी की सजिश करार दिया तो वहीं बीजेपी ने आप के खिलाफ उस घटना के सबूत लाकर आम आदमी पार्टी की पोल खोल दी है. शाहदरा इलाके की मस्जिद में रामनवमी के दिन क्या कुछ हुआ, इस बारे में हमने शाहदरा स्थित मस्जिद के सेक्रेटरी वसीम से बात की तो उन्होंने माना कि रामनवमी के दिन मस्जिद के बाहर माहौल खबर करने की कोशिश की गई. एक समाज की भावनाओं को आहत किया गया. मस्जिद के बाहर गलत तरह के नारे लगाए गए. साथ ही मस्जिद के सेक्रेटरी ने ये भी माना कि जो तस्वीर मीडिया में सामने आ रही है, उस एक तस्वीर में मौजूद शख्स को उन्होंने इलाके के आम आदमी पार्टी के विधायक और विधानसभा के अध्यक्ष राम निवास गोयल के साथ देखा है. मस्जिद के सेक्रेटरी का ये बयान आम आदमी पार्टी के लिए किसी नई मुसीबत से कम नहीं है, क्योंकि जो आरोप आम आदमी पार्टी बीजेपी पर लगा रही है, उसे मस्जिद के सेक्रेटरी वसीम का बयान खारिज कर रहा है और सरकार के आरोपों को कहीं ना कहीं झुठला दिया है. हालांकि कई लोगों ने उनको पहुंचने से मना भी किया. कौन थे वो लोग इलाके के आरडब्लूए के अध्यक्ष राजेश तिवारी की मानें तो जो लोग रामनवमी के दिन जलूस में आए, उन्होंने 15 मिनट तक मस्जिद के बाहर तलवारें दिखाईं और सांप्रदायिक नारे भी लगाए, जो कि इलाके के माहौल को खराब करने वाला था. वहां रहने वाले लोगों ने ये भी माना कि जब भी देश में या कहीं भी हिन्दू-मुसलमान के बीच कोई विवाद होता है, उस वक्त भी इस इलाके में कुछ नहीं होता. इलाके के लोगों का कहना है कि दिल्ली में राजनीतिक पार्टियां जो इस जुलूस को लेकर राजनीति कर रही हैं, वो गलत है.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/