taaja khabar....पाकिस्तान को अमेरिका की चेतावनी- अब भारत पर हमला हुआ तो 'बहुत मुश्किल' हो जाएगी ...नहीं रहे 1971 युद्ध के हीरो, रखी थी बांग्लादेश नौसेना की बुनियाद......मध्य प्रदेश: सट्टा बाजार में फिर से 'मोदी सरकार...J&K: होली पर पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, एक जवान शहीद, सोपोर में पुलिस टीम पर आतंकी हमला...लोकसभा चुनाव: बीजेपी की पहली लिस्ट के 250 नाम फाइनल, आडवाणी, जोशी का कटेगा टिकट?....प्लास्टिक सर्जरी से वैनुआटु की नागरिकता तक, नीरव ने यूं की बचने की कोशिश...हिंद-प्रशांत क्षेत्र: चीन के बढ़ते प्रभाव को रोकने की काट, इंडोनेशिया में बंदरगाह बना रहा भारत...समझौता ब्लास्ट में सभी आरोपी बरी होने पर भड़का पाकिस्तान, भारत ने दिया जवाब ...राहुल गांधी बोले- हम नहीं पारित होने देंगे नागरिकता संशोधन विधेयक ...
मस्जिद के सेक्रेटरी ने भी माना, सांप्रदायिक नारे लगाने वाले आप के नेता थे
नई दिल्ली, रामनवमी के दिन दिल्ली शाहदरा इलाके में जिस तरह से मस्जिद के बाहर जो नारे लगे, उसने अब राजनीतिक रूप ले लिया है. आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला ने उस घटना को बीजेपी की सजिश करार दिया तो वहीं बीजेपी ने आप के खिलाफ उस घटना के सबूत लाकर आम आदमी पार्टी की पोल खोल दी है. शाहदरा इलाके की मस्जिद में रामनवमी के दिन क्या कुछ हुआ, इस बारे में हमने शाहदरा स्थित मस्जिद के सेक्रेटरी वसीम से बात की तो उन्होंने माना कि रामनवमी के दिन मस्जिद के बाहर माहौल खबर करने की कोशिश की गई. एक समाज की भावनाओं को आहत किया गया. मस्जिद के बाहर गलत तरह के नारे लगाए गए. साथ ही मस्जिद के सेक्रेटरी ने ये भी माना कि जो तस्वीर मीडिया में सामने आ रही है, उस एक तस्वीर में मौजूद शख्स को उन्होंने इलाके के आम आदमी पार्टी के विधायक और विधानसभा के अध्यक्ष राम निवास गोयल के साथ देखा है. मस्जिद के सेक्रेटरी का ये बयान आम आदमी पार्टी के लिए किसी नई मुसीबत से कम नहीं है, क्योंकि जो आरोप आम आदमी पार्टी बीजेपी पर लगा रही है, उसे मस्जिद के सेक्रेटरी वसीम का बयान खारिज कर रहा है और सरकार के आरोपों को कहीं ना कहीं झुठला दिया है. हालांकि कई लोगों ने उनको पहुंचने से मना भी किया. कौन थे वो लोग इलाके के आरडब्लूए के अध्यक्ष राजेश तिवारी की मानें तो जो लोग रामनवमी के दिन जलूस में आए, उन्होंने 15 मिनट तक मस्जिद के बाहर तलवारें दिखाईं और सांप्रदायिक नारे भी लगाए, जो कि इलाके के माहौल को खराब करने वाला था. वहां रहने वाले लोगों ने ये भी माना कि जब भी देश में या कहीं भी हिन्दू-मुसलमान के बीच कोई विवाद होता है, उस वक्त भी इस इलाके में कुछ नहीं होता. इलाके के लोगों का कहना है कि दिल्ली में राजनीतिक पार्टियां जो इस जुलूस को लेकर राजनीति कर रही हैं, वो गलत है.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/