taaja khabar....अपग्रेड होगा PM मोदी का विमान, लगेगा मिसाइल से बचने का सिस्टम.....पाकिस्तान में चुनाव नजदीक, अंतरराष्ट्रीय सीमा पर फायरिंग 400% बढ़ी....भारत, पाकिस्‍तान और चीन ने बढ़ाया परमाणु हथियारों का जखीरा....अगले चीफ जस्टिस कौन? कानून मंत्री बोले, सरकार की नीयत पर संदेह न करें....बातचीत को तैयार आप सरकार और आईएएस अफसर, अब उप राज्यपाल के पाले में गेंद....लखनऊ रेलवे स्टेशन के पास बने होटेल में भीषण आग, 5 लोगों की मौत, कई गंभीर....बिहार: रोहतास में डीजे में बजाया- हम पाकिस्तानी, 8 गिरफ्तार....प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राहुल गांधी को जन्मदिन पर दी बधाई.....भीमा कोरेगांव हिंसा: हथियार के लिए नेपाली माओवादियों के संपर्क में थे नक्सली....केजरीवाल के धरने का नौंवा दिन, क्या अफसरों-LG से बनेगी बात?....
मुख्य सचिव से मारपीट: मनोज तिवारी ने केजरीवाल से पूछे ये 5 सवाल
नई दिल्ली दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ कथित मारपीट की घटना के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जनता के कामों की कई जरूरी फाइलें अटकी हुई हैं। अफसरों को कुछ कह दो तो उन्हें बुरा लगता है। 'अंदर बैठकर मैं जनता के लिए रोज लड़ता हूं। कभी अफसरों से लड़ता हूं तो कभी बीजेपी और कांग्रेस से।' इसके बाद दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने केजरीवाल से 5 सवाल पूछे हैं। मनोज तिवारी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके ये सवाल पूछे हैं। मनोज दिवारी ने अरविंद केजरीवाल से पहला सवाल पूछा है, 'वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए आपने आधी रात में आपातकालीन बैठक क्यों नहीं बुलाई?' दूसरा सवाल- 'जब व्यापारी सीलिंग की समस्या से जूझ रहे थे तो किसी अधिकारी को थप्पड़ क्यों नहीं मारा?' तीसरा सवाल- 'दिल्ली सरकार में स्वास्थ्य संबंधी सुधार के लिए किसी अधिकारी को धमकी क्यों नहीं दी गई?' चौथा सवाल- 'अनियमित कॉलोनियों के नियमन के लिए आपके लोगों ने किसी नौकरशाह के साथ बुरा व्यवहार क्यों नहीं किया?' पांचवा सवाल, 'दिल्ली में पब्लिक ट्रांसपॉर्ट की समस्या पर केजरीवाल ने किसी नौकरशाह पर हमला क्यों नहीं किया?' बता दें कि दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके साथ आम आदमी पार्टी के विधायकों ने मारपीट की। मेडिकल रिपोर्ट में भी चेहरे पर सूजन और चोट लगने की पुष्टि हुई थी। इसके बाद आप विधायक अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जरवाल को गिरफ्तार कर लिया गया था। शुक्रवार शाम एलजी हाउस में सीएम और एलजी के बीच हुई मुलाकात बिल्कुल शांत माहौल में हुई। हालांकि मीटिंग ज्यादा देर नहीं चली और 8 से 10 मिनट में सीएम और एलजी ने अपनी-अपनी बात कह दी। सीएम ने एलजी से कहा कि आप प्रयास करें कि ऑफिसर्स मीटिंग में शामिल हों और सरकार भी पूरा सहयोग करेगी। इसके जवाब में एलजी ने सीएम से कहा कि चुनी हुई सरकार और कर्मचारियों के बीच अविश्वास को दूर किया जाए और सरकार भी अपनी ओर से सभी जरूरी कदम उठाए। हालांकि सूत्रों का कहना है कि जिस तरह से शुक्रवार को राजनीतिक घटनाक्रम घटा और दिल्ली पुलिस के अधिकारी जांच के लिए सीएम हाउस पहुंच गए, उसे देखते हुए माना जा रहा था कि यह विवाद अभी नहीं थमेगा।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/