taaja khabar....फ्रांस ने भारत से आधे दाम में राफेल का ऑर्डर देने का किया खंडन, कहा- यह मौजूदा विमानों के अपग्रेडेशन की लागत...कर्नाटक का नाटक जारी, निर्दलियों के बाद कुछ कांग्रेस विधायक भी बदल सकते हैं पाला...पंजाब: आम आदमी पार्टी को एक और झटका, विधायक मास्टर बलदेव ने छोड़ी पार्टी...सुप्रीम कोर्ट जज ने कलीजियम के यू-टर्न के खिलाफ CJI गोगोई को लिखा खत...सेना में जाति-आधारित नियुक्ति पर हाई कोर्ट ने मांगा सेना-सरकार से जवाब...JNU केस: पुलिस के पास तीन तरह के सबूत...कांग्रेस की छत्तीसगढ़ सरकार ने ठुकराई केंद्र की 'आयुष्मान भारत' योजना...निजी शिक्षण संस्थाओं में आरक्षण के लिए नया बिल ला सकती है सरकार...
हंगामे के बीच सीएम केजरीवाल ने किया सिग्नेचर ब्रिज का उद्घाटन, श्रेय को लेकर भिड़े AAP-BJP कार्यकर्ता
नई दिल्ली यमुना नदी पर बहुप्रतीक्षित सिग्नेचर ब्रिज का रविवार शाम को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उद्घाटन किया। हालांकि, AAP और BJP के बीच श्रेय लेने की होड़ ने उद्घाटन से पहले बदसूरत मोड़ ले लिया। उद्घाटन स्थल पर उस वक्त हंगामा हो गया, जब स्थानीय सांसद मनोज तिवारी के पहुंचने पर AAP और बीजेपी कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। दरअसल स्थानीय सांसद और दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी 'बिना निमंत्रण' के वहां पहुंच गए। इस दौरान बीजेपी और APP के कार्यकर्ता एक दूसरे के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। उद्घाटन स्थल पर धक्कामुक्की भी देखने को मिली, जिसे पुलिस ने रोकने की कोशिश की। तिवारी ने जहां आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं और पुलिस पर धक्कामुक्की और बदसलूकी का आरोप लगाया है, वहीं AAP ने तिवारी और उनके समर्थकों पर मारपीट और हुड़दंग का आरोप लगाया है। तिवारी की पुलिसवालों को धमकी, 4 दिन में बताऊंगा... दरअसल, मनोज तिवारी के उद्घाटन स्थल पहुंचने के थोड़ी देर बाद हंगामा शुरू हो गया। तिवारी के समर्थकों और आप कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। मौके पर मौजूद पुलिस ने स्थिति को संभालने का काम किया। हालांकि तिवारी का कहना है कि उन्हें उद्घाटन समारोह के लिए न्योता मिला है। हंगामे के बाद मनोज तिवारी ने कहा, 'पुलिस के जिन लोगों ने मुझसे धक्का-मुक्की की है, उनकी शिनाख्त (पहचान) हो गई है। मैं इन सबको पहचान चुका हूं और 4 दिन में इनको बताऊंगा कि पुलिस क्या होती है।' तिवारी का आरोप, AAP कार्यकर्ताओं और पुलिस ने की बदसलूकी हंगामे के बाद मनोज तिवारी ने कहा, 'मुझे आमंत्रित किया गया है। मैं यहां से सांसद हूं फिर दिक्कत क्या है? मैं क्या कोई अपराधी हूं? मुझे पुलिस ने क्यों घेरा? मैं यहां उनके (केजरीवाल) स्वागत के लिए हूं। मेरे साथ पुलिस और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने बदसलूकी की।' बता दें कि शनिवार को तिवारी ने ट्वीट कर दिल्ली सरकार पर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि उद्घाटन के मौके पर वह उपस्थित रहेंगे और वहां से सांसद होने के नाते मुख्यमंत्री का स्वागत करेंगे। मनोज तिवारी ने कहा, 'कई साल तक इस ब्रिज का काम रुका हुआ था। मैंने इसे दोबारा शुरू करवाया लेकिन उद्घाटन अरविंद केजरीवाल कर रहे हैं।' AAP का आरोप, बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की मारपीट दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी ने मनोज तिवारी और उनके समर्थकों पर AAP कार्यकर्ताओं से मारपीट और हुड़दंग करने का आरोप लगाया है। आम आदमी पार्टी के नेता दिलीप पांडे ने कहा कि तिवारी बिना न्योते के उद्घाटन स्थल पर पहुंच गए और हंगामा किया। हंगामे पर पांडे ने कहा, 'यहां हजारों लोग जुटे हैं, जो बिना किसी न्योते के आए हैं और इस जश्न में शामिल हो रहे हैं। लेकिन सांसद (मनोज तिवारी) खुद को वीआईपी समझ रहे हैं। वह हुड़दंग कर रहे हैं। बीजेपी के लोगों ने AAP के वॉलंटिअर्स और स्थानीय लोगों को पीटा। जख्मी लोग अस्पताल में भर्ती हैं।' श्रेय को लेकर जंग बता दें कि डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा था कि बीजेपी ने सिग्नेचर ब्रिज का काम रुकवाने के लिए हर संभव कोशिश की। सिसोदिया ने ट्वीट में कहा कि नाकारा अफसरों को इंचार्ज बनाकर एक साल फाइलें नहीं हिलने दीं। अफसरों को डराया धमकाया। हमने लड़ लड़कर फाइलें क्लियर करवाईं। हर हफ्ते निरीक्षण किया।...आखिर सपना पूरा हुआ। उन्होंने मनोज तिवारी को जवाब देते हुए कहा कि यह पुल बीजेपी के लिए शर्मनाक हो सकता है, दिल्ली के लिए गर्व का अवसर है। कई बार डेडलाइन मिस होने के बाद आखिरकार 14 साल में बना ब्रिज यह ब्रिज नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली और बाहरी दिल्ली को जोड़ रहा है। करीब 14 साल पहले सिग्नेचर ब्रिज का प्लान किया गया था। यह प्रोजेक्ट 2004 में मंजूर हुआ था और इसे 2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए तैयार किया जाना था। मार्च 2010 में इस प्रोजेक्ट पर तेजी से काम शुरू हुआ और बाद में इसकी डेडलाइन दिसंबर 2013 कर दी गई। सोमवार से इस ब्रिज पर वाहनों का आवागमन भी शुरू हो जाएगा। जब यह प्रोजेक्ट बनाया गया था तब इसकी लागत सिर्फ 464 करोड़ रुपये थी। ब्रिज की लागत बढ़ती गई और विभागों के बीच आपसी खींचतान भी बढ़ती गई। रिवाइज एस्टिमेट्स को लेकर फाइलें चलती रहीं।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/