taaja khabar....पुलवामा अटैक पर बोले PM मोदी- जो आग आपके दिल में है, वही मेरे दिल में.....धुले रैली में पाक को पीएम मोदी की चेतावनी- हम छेड़ते नहीं, किसी ने छेड़ा तो छोड़ते नहीं.....पुलवामा हमला: मीरवाइज उमर फारूक समेत 5 अलगाववादियों की सुरक्षा वापस....भारत ने आसियान और गल्फ देशों के प्रतिनिधियों को दिए जैश-ए-मोहम्मद और पाक के लिंक के सबूत...पुलवामा हमला: बदले की कार्रवाई से पहले पाक को अलग-थलग करने की रणनीति....पुलवामा अटैक: पाकिस्तान क्रिकेट को बड़ा झटका, चैनल ने PSL को किया ब्लैकआउट..पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य कार्रवाई के डर से LoC के पास अपने लॉन्च पैड्स कराए खाली!...पाकिस्तान से आयात होने वाले सभी सामानों पर सीमाशुल्क बढ़ाकर 200 फीसदी किया गया: जेटली...पुलवामा अटैक: JeM सरगना मसूद अजहर पर अब विकल्प तलाशने में जुटा चीन....पुलवामा आतंकवादी हमले के लिए सेना जिम्‍मेदार: कांग्रेस नेता नूर बानो...
EVM में गड़बड़ी पर चुनाव आयोग की सफाई, DUSU चुनाव में हमारी मशीनें नहीं
नई दिल्ली, दिल्ली युनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनावों में ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की खबरों के बीच चुनाव आयोग ने सफाई दी है कि डूसू चुनाव कराने के लिए आयोग की तरफ से या राज्य चुनाव आयोग के तरफ से कोई मशीन नहीं दी गई. आयोग का कहना है कि युनिवर्सिटी प्रशासन ने यह मशीनें निजी स्तर पर मंगाई थीं. मुख्य चुनाव अधिकारी कार्यालय से जारी एक विज्ञप्ति में बताया गया है कि ईवीएम को लेकर कुछ सवाल खड़े किए गए हैं जिसे लेकर चुनाव आयोग यह बताने के लिए बाध्य है कि भारतीय निर्वाचन आयोग या फिर राज्य निर्वाचन आयोग की तरफ से दिल्ली यूनिवर्सिटी चुनाव कराने के लिए ईवीएम मशीनें नहीं दी गई हैं. आयोग ने कहा है कि उसे लगता है कि यह मशीनें विश्वविद्यालय प्रशासन ने निजी स्तर पर मंगाई थीं. आयोग की तरफ से कहा गया है कि दिल्ली विश्वविद्यालय प्रशासन से बात करने के बाद इस बाबत एक विस्तृत रिपोर्ट जल्द ही प्रस्तुत की जाएगी. गौरतलब है कि इससे पहले ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी होने पर डूसू की मतगणना कुछ घंटों के लिए रोक दी गई थी और विभिन्न छात्र संगठनों ने हंगामा किया था. मतगणना रुकने से पहले, शुरुआती रुझान में कांग्रेस समर्थित एनएसयूआई अध्यक्ष पद पर बढत बनाए हुए थी जबकि एबीवीपी उम्मीदवार उपाध्यक्ष पद पर आगे चल रही थी. बताया जा रहा है कि मतगणना रोकने तक एक ईवीएम में 10वें नंबर के बटन पर चालीस वोट पड़े थे. जबकि नोटा को मिलाकर कुल 9 ही उम्मीदवार थे. यानी 10वें नंबर का बटन काम नहीं करना चाहिए था इसके बाद भी उसमें वोट पड़े. हालांकि, इस पर अभी किसी तरह का आधिकारिक बयान नहीं आया है. तोड़फोड़ के दौरान ही ABVP के सचिव पद के उम्मीदवार के हाथ में चोट भी लग गई.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/