taaja khabar....टीकाकरण को गति देने के लिए केंद्र देगा विदेशी कोविड वैक्सीन को झटपट अनुमति, प्रकिया होगी तेज...दार्जिलिंग में बोले शाह- दीदी ने भाजपा-गोरखा एकता तोड़ने का प्रयास किया, देना है मुंहतोड़ जवाब...और मजबूत हुई भारतीय वायुसेना, 6 टन के लाइट बुलेट प्रूफ वाहनों को एयरबेस में किया गया शामिल...इस साल मानसून में सामान्य से बेहतर होगी बारिश, स्काइमेट वेदर का पूर्वानुमान....सुशील चंद्रा ने देश के मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला...प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैसाखी त्योहार पर कड़ी मेहनत करने वालों किसानों की तारीफ की...Sputnik V को मंजूरी के बाद अब जल्द मिलेगी डोज, भारत में एक साल में बनेगी 85 करोड़ खुराक....'टीका उत्सव' के तीसरे दिन दी गईं 40 लाख से ज्यादा डोज, अब तक 10.85 करोड़ लोगों को लगी वैक्सीन....शरीर में नई जगह छिपकर बैठ रहा कोरोना, अब RT-PCR टेस्ट से भी नहीं हो रहा डिटेक्ट...

आर्टिकल 15 रिलीज, लोग बोले- आयुष्मान खुराना की एक और ब्लॉकबस्टर फिल्म

नई दिल्ली, 28 जून 2019,आयुष्मान खुराना की फिल्म आर्टिकल 15 रिलीज हो गई है. फिल्म की कहानी सच्ची घटनाओं पर आधारित है. अनुभव सिन्हा ने फिल्म को डायरेक्ट किया है. मूवी को सेलेब्स ने अच्छा रिस्पॉन्स दिया. वहीं सोशल मीडिया पर भी फिल्म की तारीफ की जा रही है. आयुष्मान खुराना के काम का सराहा जा रहा है. अनुभव सिन्हा के डायरेक्शन को भी पसंद किया जा रहा है. लोग फिल्म को 3.5 या उससे ज्यादा स्टार दे रहे हैं. एक यूजर ने लिखा- अनुभव सिन्हा ने एक ऐसी फिल्म ऑफर की है जो पावर, पैसे, माइंड सेट के खेल के साथ लड़ती है. शानदार तरीके से महत्वपूर्ण सोशल बुराईयों को हैंडल करता है. हमारे जातिवादी समाज के बहरे कानों के लिए लाउड बैंग फिल्म. दूसरे यूजर ने लिखा- एक बार फिर आयुष्मान खुराना अपने उल्लेखनीय और शानदार प्रदर्शन के साथ कई रिकॉर्ड तोड़ने के लिए तैयार हैं. अनुभव सिन्हा की आर्टिकल 15 एक साहसिक कदम है. हमें इस समय इसकी जरूरत है, क्योंकि फर्क पड़ता है. शानदार काम आयुष्मान खुराना. ''आउटस्टैंडिंग, मेगा सुपरहिट, शानदार, पैसा वसूल. आयुष्मान खुराना ने एक बार फिर शानदार परफॉर्मेंस दी. शानदार काम. बाकी सभी भी अच्छे हैं. अनुभव सिन्हा अद्भुत डायरेक्टर हैं. दोनों काम शानदार.'' वहीं कुछ लोग फिल्म के कंटेंट से खुश नहीं हैं. एक यूजर ने लिखा- आर्टिकल 15 ये फिल्म स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति नहीं है, बल्कि निर्माता की उदासीन सोच है. इस फिल्म ने हिंदू धर्म को बदनाम करने के लिए सारी हदें पार कर दीं. सरकार को इस फिल्म पर प्रतिबंध लगाना चाहिए. एकजुट होकर अपनी सनातन संस्कृति के लिए लड़ो.

Top News