taaja khabar....राफेल डील पर नई रिपोर्ट का दावा, नियमों के तहत रिलायंस को मिला ठेका.....सीबीआई को पहली कामयाबी, भारत लाया गया विदेश भागा भगोड़ा मोहम्मद याह्या.....राजस्थान विधानसभा चुनाव की बाजी पलट कर लोकसभा के लिए बढ़त की तैयारी में BJP.......GST के बाद एक और बड़े सुधार की ओर सरकार, पूरे देश में समान स्टैंप ड्यूटी के लिए बदलेगी कानून....UNHRC में भारत की बड़ी जीत, सुषमा स्वराज ने जताई खुशी....PM मोदी के लिखे गाने पर दृष्टिबाधित लड़कियों ने किया गरबा.....मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस के साथ नहीं एसपी-बीएसपी, बीजेपी को हो सकता है फायदा....गुरुग्रामः जज की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी ने उनकी पत्नी, बेटे को बीच सड़क गोली मारी, अरेस्ट....बेंगलुरु में HAL कर्मचारियों से मिले राहुल गांधी, बोले- राफेल आपका अधिकार....कैलाश गहलोत के घर से टैक्स चोरी के सबूत मिलेः आईटी विभाग.....मेरे लिए पाकिस्तान की यात्रा दक्षिण भारत की यात्रा से बेहतर: सिद्धू....घायल रहते 2 उग्रावादियों को किया ढेर, शहादत के बाद इंस्पेक्टर को मिलेगा कीर्ति चक्र....छत्तीसगढ़: कांग्रेस को तगड़ा झटका, रामदयाल उइके BJP में शामिल....
लवयात्री मूवी रिव्यू
कलाकारआयुष शर्मा,वरीना हुसैन निर्देशक अभिराज मीनावाला मूवी टाइपड्रामा,रोमांस अवधि1 घंटा 52 मिनट कहानी: सुश्रुत (आयुष शर्मा) वडोदरा में बच्चों को गरबा सिखाते हैं। इस बार का 9 दिन का नवरात्रि का त्योहार उनकी जिंदगी पूरी तरह बदल देता है। उन्हें मिशेल (वरीना हुसैन) से प्यार हो जाता है और उनका प्यार जीतने के लिए वह हर काम करते हैं। रिव्यू: सुश्रुत उर्फ 'सुसु' को एक ऐसा लड़का दिखाया गया है जिसकी कोई ख्वाहिशें नहीं हैं और वह केवल अपनी जिंदगी में डान्स करना चाहता है। उसके परिवार की तरफ से उस पर नौकरी ढूंढने का दबाव है जबकि वह वडोदरा में अपनी एक गरबा अकैडमी खोलना चाहता है। वहीं इंग्लैंड की मिशेल अपनी मातृभूमि भारत लौटना चाहती है और इस बात के लिए उसके पिता (रोनित रॉय) तैयार हो जाते हैं। अपनी फैमिली के कहने पर वह वडोदरा में नवरात्रि मनाने के लिए रुक जाते हैं। इसी त्योहार के दौरान सुसु को मिशेल से प्यार हो जाता है। 'लवयात्रि' केवल एक साधारण सी लव स्टोरी है। इससे ज्यादा फिल्म में कुछ भी नहीं है। डायरेक्टर अभिराज मीनावाला की यह पहली फिल्म है और उन्होंने बॉलिवुड के पुराने मसालों पर सेफ गेम खेलने की कोशिश की है। हालांकि फिल्म का स्क्रीनप्ले बहुत ज्यादा अच्छा नहीं लिखा गया है। फिल्म के कैरक्टर्स आपको पसंद आएंगे लेकिन कहानी आपको इतनी आकर्षक नहीं लगेगी। फिल्म के गाने खूबसूरती से फिल्माए गए है और वैभवी मर्चेंट की कोरियॉग्रफी भी अच्छी है। यह कहना सही होगा कि अपनी पहली फिल्म कर रहे आयुष और वरीना अभी ऐक्टिंग में कच्चे हैं। हालांकि स्क्रीन पर उनकी केमिस्ट्री अच्छी लगती है। आयुष बिल्कुल युवा लड़के के रूप में ठीक लगते हैं। सुसु के अंकल के रूप में राम कपूर ने और मिशेल के पिता के रूप में रोनित रॉय ने बेहतरीन काम किया है और उन्होंने इमोशनल और भारी-भरकम डायलॉग बोले हैं। 'लवरात्रि' उन लोगों के लिए अच्छी फिल्म है जो 90 के दशक की रोमांटिक फिल्मों के शौकीन हैं।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/