taaja khabar....टीकाकरण को गति देने के लिए केंद्र देगा विदेशी कोविड वैक्सीन को झटपट अनुमति, प्रकिया होगी तेज...दार्जिलिंग में बोले शाह- दीदी ने भाजपा-गोरखा एकता तोड़ने का प्रयास किया, देना है मुंहतोड़ जवाब...और मजबूत हुई भारतीय वायुसेना, 6 टन के लाइट बुलेट प्रूफ वाहनों को एयरबेस में किया गया शामिल...इस साल मानसून में सामान्य से बेहतर होगी बारिश, स्काइमेट वेदर का पूर्वानुमान....सुशील चंद्रा ने देश के मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला...प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैसाखी त्योहार पर कड़ी मेहनत करने वालों किसानों की तारीफ की...Sputnik V को मंजूरी के बाद अब जल्द मिलेगी डोज, भारत में एक साल में बनेगी 85 करोड़ खुराक....'टीका उत्सव' के तीसरे दिन दी गईं 40 लाख से ज्यादा डोज, अब तक 10.85 करोड़ लोगों को लगी वैक्सीन....शरीर में नई जगह छिपकर बैठ रहा कोरोना, अब RT-PCR टेस्ट से भी नहीं हो रहा डिटेक्ट...

शरीर की इन बीमारियों का काल है जायफल, गठिया से लेकर डायबिटीज करे छू मंतर

भारतीय किचन में तरह-तरह के मसाले न केवल खाने का स्वाद बढ़ाते हैं, बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी अच्छे हैं। उन्हीं मसालों में से एक है जायफल। यह भोजन का स्वाद और सुगंध दोनों बढ़ाता है। यह मसाला पोषक तत्वों और औषधीय गुणों से भरपूर है, जो जायफल के पेड़ मिरिस्टिका फ्रेग्रेंस से मिलता है। मिरिस्टिका के बीज को जायफल कहा जाता है। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी कल इंफॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) (NCBI) की वेबसाइट पर प्रकाशित हुई एक शोध के अनुसार, जायफल को हजारों वर्षों से दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। जायफल का सेवन बहुत कम लोग करना पसंद करते हैं। क्योंकि इसका स्वाद गर्म और थोड़ा अखरोट जैसा होता है। लोग अक्सर इसका उपयोग डेसर्ट या करी में करते है। जायफल में ऐसे बहुत सारे यौगिक होते हैं, जो बीमारी को रोकने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको जायफल के विज्ञान आधारित स्वास्थ्य लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं। ​सूजन से दिलाए राहत जायफल एंटी इंफ्लेमेटरी यौगिकों से समृद्ध है, जिसे मोनोटेरेप्स कहा जाता है। इसमें साबिनिन, टेरपिनोल और पिनीन शामिल है । ये आपके शरीर में पुरानी सूजन वाली स्वास्थ्य स्थिति जैसे दिल के रोग, मधुमेह और गठिया से राहत दिलाने में कारगार है। एक अध्ययन में सूजन वाले चूहों को इंजेक्शन लगाया गया । उनमें से कुछ को जायफल का तेल दिया गया। तेल का सेवन करने वाले चूहों ने सूजन और सूजन संबंधी दर्द का कम अनुभव किया। ​एंटीऑक्सीडेंट में समृद्ध- जायफल में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जिसमें फेनोलिक यौगिक और प्लांट पिगमेंट्स शामिल हैं, जो सेल्यूलर डैमेज को रोककर पुरानी बीमारियों से आपका बचाव कर सकते हैं। दरअसल, जिन बीजों से जायफल निकाला जाता है, वे पौधों के यौगिक से भरपूर होते हैं, जो आपके शरीर में एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करते हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले सेल्यूलर डैमेज को रोकते हैं। ​सेक्स ड्राइव बढ़ाए जायफल आपकी सेक्स लाइफ को मजेदार बनाने में मदद करता है। इसे महिलाओं के लिए वियाग्रा के रूप में जानते हैं। क्लीनिकल इंवेस्टीगेशन्स से पता चला है कि जायफल का नियमित रूप से सेवन यौन गतिविधि को तेज करता है, जिससे निरंतर तरीके से सेक्स की इच्छा में वृद्धि होती है। पशु अनुसंधानों की एक रिसर्च में पता चला है कि नर चूहों को जायफल का अर्क की अच्छी खुराक देने से उनकी यौन गतिविधि में काफी वृद्धि हुई। आपको बता दें कि दक्षिण एशिया में यूनानी चिकित्सा पद्धति में यौन विकारों के इलाज के लिए जायफल का उपयोग महत्वपूर्ण रूप से किया जाता है। ​एंटीबैक्टीरियल गुणों का खजाना जायफल में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। कभी-कभी स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स और एग्रिगेटिबेक्टेरिन, एक्टिनोमाइसेटेमकोमिटन्स जैसे बैक्टीरिया मसूडों को खराब करते हैं। टेस्ट ट्यूब रिसर्च से पता चला है कि जायफल ई-कोलाई नामक बैक्टीरिया के विकास को रोकते हैं, जो मनुष्य में गंभीर बीमारी के साथ मौत का भी कारण बन सकता है। ​कई स्वास्थ्य स्थितियों में लाभकारी जायफल- जायफल दिल की सेहत को फायदा पहुंचा सकता है। पशु अध्ययन बताते हैं कि जायफल की खुराक लेने से दिल के रोग के जोखिम कारक कम हो जाते हैं। जायफल ब्लड शुगर कंट्रोल करने में फायदेमंद साबित होता है। चूहों में किए गए एक अध्ययन से इस बात का पता चला है कि अच्छी खुराक वाले जायफल के अर्क सेरक्त शर्करा का स्तर काफी कम हो जाता है। पशु अनुसंधान के अनुसार, जायफल मूड को बढ़ावा देने, रक्त शर्करा को नियंत्रित करने और हृदय रोगों के जोखिम कारकों को कम करने में मददगार है। इन संभावित स्वास्थ्य लाभों की जांच के लिए मनुष्यों में जांच की जरूरत है। गर्म ओर मीठा स्वाद होने की वजह से इसे अलग-अलग मीठे और नमकीन खाद्य पदार्थों के साथ मिलाया जाता है। इस लोकप्रिय मसाले को आप अकेले या फिर मसालों जैसे इलायची, दालचीनी और लौंग के साथ मिला सकते हैं। हल्की सी मिठास के कारण इसे पाई, केक, कुकीज, ब्रेड और कस्टर्ड में खासतौर से जोड़ा जाता है। जायफल को यदि स्टार्च वाली सब्जियों पर छिड़का जाए, तो स्वाद और भी दिलचस्प हो जाता है। यदि आप पूरे जायफल का उपयोग कर रहे हैं, तो बेहतर है कि इसे ग्राइंडर से पीस लें। डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें। ​जायफल के नुकसान कम मात्रा में जायफल का सेवन करने से कोई नुकसान नहीं है, लेकिन इसकी उच्च मात्रा आपको नुकसान पहुंचा सकती है। जायफल गंभीर लक्षण पैदा कर सकता है। जैसे दिल की धड़कन तेज होना,मतली और उल्टी महसूस होना। अन्य दवाओं के साथ लेने पर ये मौत का कारण भी बन सकता है। लंबे समय तक जायफल की ज्यादा खुराक से अंगों को नुकसान होता है। इन संभावित हानिकारक साइड इफेक्टस से बचने के लिए बड़ी मात्रा में जायफल का सेवन करने से बचें।

Top News