taaja khabar....रिकवरी रेट बढ़कर 80 प्रतिशत, अमेरिका को पीछे छोड़ टॉप पर भारत ...NCB से बोला राहिल- 'सैम' बनकर बांटता था सिलेब्‍स में ड्रग्‍स, बॉलिवुड से जुड़ा है मेरा 'बॉस' ...योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा बोले- साजिश के तहत फैलाया जा रहा लव जिहाद, जरूरत पड़ीं तो कानून लाएंगे ...कश्मीर में अमन बिगाड़ने की कोशिश में पाकिस्तान, सेना लगातार नाकाम कर रही मंसूबेः डीजीपी ...जम्मू-कश्मीर को 1350 करोड़ के आर्थिक पैकेज का तोहफा, पानी-बिजली बिल में भी 50% की छूट ...ड्रग्स मंडली पर एक्शन जारी, 14 दिन के लिए जेल भेजा गया सप्लायर राहिल विश्राम...केरल और बंगाल में NIA की रेड, अलकायदा से जुड़े 9 संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार...

महिलाओं में पोषण का अगर शुरू से ही ध्यान दिया जाए तो कुपोषित बच्चे पैदा ही नहीं होंगे- कलक्टर

हनुमानगढ़, 5 अगस्त। पोषण अभियान में चिकित्सा, शिक्षा समेत अन्य विभाग आपसी समन्वय से करें कार्य ताकि बच्चों का पोषण बढ़ सके। अगर महिलाओं में पोषण का शुरू से ही ध्यान देंगे तो कुपोषित बच्चे पैदा ही नहीं होंगे। ये कहना है जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन का। जो बुधवार को जिला परिषद सभागार में पोषण अभियान की समीक्षा बैठक ले रहे थे। त्रौमासिक समीक्षा बैठक में जिला कलक्टर ने कहा कि हालांकि पोषण अभियान के अंतर्गत कई विभागों का महत्वपूर्ण भूमिका है लेकिन शिक्षा और चिकित्सा विभाग को पोषण अभियान के अंतर्गत अच्छे से कार्य करने की जरूरत है ताकि बच्चों और महिलाओं को कुपोषण से बचाया जा सके। बैठक के बाद जिला कलक्टर के द्वारा सहजन के बीज महिला पर्यवेक्षकों को भेंट किए गए। इससे पहले महिला एवं बाल विकास विभाग के उपनिदेशक श्री प्रवेश सोलंकी ने पोषण अभियान के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए अभियान के उ्ददेश्य, के अलावा शिक्षा, चिकित्सा, पीएचईडी, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, पंचायतीराज, कृषि एव उद्यानिकी, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, आयोजन और सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की ओर से किए जाने वाले कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को आरबीएचके के अंतर्गत दिल के छेद, कटा होंठ इत्यादि का इलाज की जानकारी ग्रामीण क्षेत्रा में पहुंचाने, शिक्षा विभाग को बच्चों का स्वास्थ्य कार्ड बनवाने, आयरन की गोलियां वितरित करने,पीएचईडी को आंगनबाडी केन्द्रों पर पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करने,सामाजिक न्याय विभाग को स्वास्थ्य जांच शिविरों का आयोजन करने, सूचना एवं जनसंपर्क विभाग को प्रचार प्रसार करने कृषि विभाग को महत्वपूर्ण फल व सब्जी इत्यादि की जानकारी स्कूलों को देने, किचन गार्डन की जानकारी देने की बात कही। आखिर में जिला परिषद में आईईसी कॉर्डिनेटर श्री पदमेश सिहाग ने सहजन के पौधे के गुणों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि उन्होने एक संस्था के साथ मिलकर अब तक 6 हजार सहजन के पौधे लोगों को भेंट कर चुके हैं। लक्ष्य 10 हजार पौधे भेंट का है। कार्यक्रम में जिला कलक्टर श्री जाकिर हुसैन के अलावा एडीएम श्री अशोक असीजा, एसडीएम श्री कपिल यादव, पीआरओ श्री सुरेश बिश्नोई, सीएमएचओ डॉ. अरूण चमडि़या, डीएसओ श्री सुनील घोड़ेला, डीईओ माध्यमिक श्री हंसराज, एडीईओ श्री रणवीर शर्मा, बीडीओ हनुमानगढ़ श्री राधेराम रेवाड़, जिला सांख्यिकी अधिकारी श्री विनोद गोदारा, समेत महिला एवं बाल विकास विभाग के उपनिदेशक श्री प्रवेश सोलंकी और महिला पर्यवेक्षक उपस्थित थी।

Top News