taaja khabar....PNB ने अन्य बैंकों को चिट्ठी लिख किया सचेत, 10 अधिकारी निलंबित.....PNB केस की INSIDE स्टोरी: 7 साल पहले हुआ था फ्रॉड, सरकार की सख्ती से खुलासा....बिहार के आरा में आतंकियों के कमरे में धमाका, बड़ी साजिश नाकाम, 4 फरार.....तीन दिन में तीन यात्राएं, चुनावी मोड में बीजेपी, निशाना 2019 पर...मोदी केयर' पर केंद्र ने राज्यों की बुलाई बैठक, ममता पहले ही झाड़ चुकी हैं पल्ला....
क्वालिटी एश्योरेंस कार्यक्रम के तहत सेवा प्रदाताओं का 3 दिवसीय जिला स्तरीय प्रशिक्षण शुरू
बीकानेर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से सरकारी अस्पतालों में आने वाले रोगियों व आमजन को गुणवत्तापूर्वक सेवाएं व सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए चलाए जा रहे क्वालिटी एंश्योरेंस कार्यक्रम के तहत शनिवार को होटल वृन्दावन रीजेंसी में सर्विस प्रोवाइडर का जिलास्तरीय तीन दिवसीय प्रशिक्षण शुरू हुआ। प्रशिक्षण 12 फरवरी तक चलेगा। प्रशिक्षण का उद्देश्य चिकित्सा संस्थानों का स्वच्छता को प्रोत्साहन और संक्रमण नियंत्रण करते हुए उच्च मानदंडों पर सेवाओं.सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करना है। राज्य स्तर से क्वालिटी एश्योरेंस व कायाकल्प कार्यक्रम के नोडल अधिकारी संयुक्त निदेशक परिवार कल्याण डाॅण् रामबाबू जयसवाल ने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान 2 अक्टूबर 2014 को माननीय प्रधानमंत्री द्वारा आरंभ किया गया जिसमें सभी सार्वजनिक स्थलों पर साफ.सफाई को बढावा देने पर ध्यान केन्द्रित किया गया है। इसके तहत मई 2015 से राजकीय चिकित्सालयों में कायाकल्प कार्यक्रम के तहत साफ.सफाईए स्वच्छता और संक्रमण नियंत्रण के लिये पुरस्कार देने की एक राष्ट्रीय पहल आरंभ की गई। डॉण् जायसवाल ने बताया कि कार्यक्रम के तहत 6 बिन्दुओं के आधार पर अस्पतालों का निरीक्षण व मूल्यांकन किया जावेगा. 1ण् अस्पताल का रखरखाव 2ण् सैनिटेशन एंड हाइजीन 3ण् अपशिष्ट निस्तारण ;बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंटद्ध 4ण् संक्रमण नियंत्रण 5ण् सपोर्ट सर्विस 6ण् हाइजीन प्रमोशन एनएचएसआरसी की सलाहकार अक्षिता सिंह द्वारा संस्थानों को दिए जाने वाले अंको व त्रिस्तरीय मूल्यांकन के बारे में बताया। सीएमएचओ डॉण् देवेन्द्र चौधरी ने हाल ही में कायाकल्प अवार्ड के तहत जिले के 11 संस्थानों के सम्मानित होने पर बधाई दी और आगे भी अधिकाधिक पुरस्कार जीतने के लिए जुट जाने को प्रेरित किया उन्होंने कहा कि स्वच्छता से 2 सीधे सीधे स्पष्ट लाभ होते हैंए एक तो इन्फेक्शन का नियंत्रण होता है दूसरा खुशनुमा वातावरण बनता है जिससे मरीज जल्दी ठीक होता है जिससे प्रति मरीज लागत कम होती है। प्रशिक्षण में डिप्टी परिवार कल्याण डॉण् राधेश्याम वर्माए बीसीएमओ बीकानेर डॉण् सुरेन्द्र चौधरीए डीपीएम सुशील कुमारए ग्रामीण चिकित्सा संस्थानों के प्रभारी अधिकारियों व स्टाफ ने भाग लिया।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/