taaja khabar..भारत में बड़ा आतंकी हमला करने की फिराक में है इस्लामिक स्टेट, रूस ने साजिश रच रहे आत्मघाती हमलावर को हिरासत में लिया..भाजपा का सिसोदिया पर पलटवार, कहा- केजरीवाल जिसे देते हैं ईमानदारी का सर्टिफिकेट वो जरूर जाता है जेल..शहनवाज हुसैन को सर्वोच्च न्यायालय से मिली बड़ी राहत, हाई कोर्ट के आदेश पर लगी रोक..आबकारी घोटाले में 'टूलकिट माड्यूल' की जांच, स्टैंडअप कामेडियन और हैदराबाद से जुड़े शराब के व्यापारी भी रडार पर..प्रधानमंत्री 24 अगस्त को हरियाणा और पंजाब में अस्पतालों का उद्घाटन करेंगे..आबकारी नीति मामला: भाजपा की दिल्ली इकाई का केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन..

प्रदेश में नशे पर नियंत्रण के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध, एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स का शीघ्र किया जाएगा गठन - मुख्य सचिव

हनुमानगढ़/जयपुर, 25 जुलाई। मुख्य सचिव श्रीमती उषा शर्मा ने कहा कि प्रदेश के लोगों और युवाओं को नशे की गिरफ्त से बचाने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नशे पर नियंत्रण के लिए शीघ्र ही एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स (एएनटीएफ) का गठन किया जाएगा। यह टास्क फोर्स विशेष रूप से नशे के कारोबार पर नियंत्रण करने का कार्य करेगी। मुख्य सचिव आज सोमवार को शासन सचिवालय में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो, गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा आयोजित चौथी राज्यस्तरीय एनकोर्ड (नारको कोऑर्डिनेशन) बैठक की अध्यक्षता कर रहीं थीं। बैठक में श्रीमती शर्मा ने गृह विभाग को नशे के प्रति जागरूकता लाने के लिए शीघ्र ही राज्य स्तरीय जागरूकता रणनीति तैयार करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने युवाओं में बढ़ते मेडिसिनल नशे पर नियंत्रण के लिए प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत प्रदेश में 12 से 15 अगस्त तक स्कूली बच्चों के लिए आयोजित कार्यक्रमों में नशा नहीं करने की शपथ दिलवाई जाए और इस शपथ को प्रदेश में अगस्त माह के अंत में प्रस्तावित ग्रामीण ओलंपिक्स का हिस्सा बनाया जाए जिसमें बड़ी संख्या में युवा भाग लेंगे। बैठक में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के डिप्टी डायरेक्टर जनरल (एनआर) श्री ज्ञानेश्वर सिंह ने नशे के नियंत्रण में राज्य की भूमिका पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रस्तुतीकरण दिया। बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह विभाग श्री अभय कुमार उपस्थित थे।

Top News