taaja khabar....अब शिकंजे में आएगा भगोड़ा मेहुल चोकसी! रेड कॉर्नर नोटिस जारी.....राफेल-राम मंदिर पर लोकसभा में भारी हंगामा, राज्यसभा की कार्यवाही भी स्थगित...कांग्रेस नेता कर्ण सिंह का योगी को पत्र, 'अयोध्या में राम की मूर्ति का साइज कम कर सीता की भी लगाएं मूर्ति'....राजस्थान, मध्य प्रदेश में कांग्रेस सीएम के नाम पर घमासान, उलझा पेच, बैठकों का दौर...केंद्र में नहीं जाऊंगा, एमपी में जिऊंगा, एमपी में ही मरूंगा: शिवराज सिंह चौहान...तीन राज्यों में सीएम के नाम के ऐलान से पहले कांग्रेस समर्थकों में मची होड़, सचिन पायलट के समर्थकों ने किया सड़क जाम...राजस्‍थान: सीएम रेस में अशोक गहलोत आगे, पायलट समर्थक भी झुकने को तैयार नहीं...
शहर से लेकर गांवों तक लाभान्वित करेगी मोबाइल डेंटल वैन
- जिले में आयोजित होंगे शिविर, मुख व दांतों का होगा निःशुल्क उपचार हनुमानगढ़। राज्य सरकार की ओर से संचालित मोबाइल डेंटल वैन के जरिए आज नोहर सीएचसी में कैम्प आयोजित किया गगा। इस दौरान आरबीएसके के तहत चिन्हित बच्चों के दांतों व मुख की निःशुल्क जांच की गई, साथ ही उन्हें निःशुल्क उपचार व दवा भी दी गई। शिविर के साथ-साथ आमजन को मुंह व दांतों के प्रति जागरूक किया गया। उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व भी जिले में शिविर लगाए जा चुके हैं। सीएमएचओ डॉ. अरूण कुमार ने बताया कि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आरबीएसके) के तहत जिले को एक माह के लिए मोबाइल डेंटल वैन मिली है, जिसके जरिए जिले में दंत शिविर लगाए जाएंगे। आज नोहर सीएचसी में लगाए गए शिविर में मुख एवं दंत रोग की निःशुल्क जांच, निःशुल्क दवाएं और बीमारियों के प्रति जागरूक किया गया। वहीं दांतों में मसाला भर, दांतों के कीड़े निकाल, दांतों की सफाई, हिलते हुए दांतों को निकाल एवं उन्हें सुरक्षित रखने का उपचार किया गया। अत्याधुनिक व्यवस्थाओं सुसज्जित इस वैन में दांतों का एक्सरे की भी सुविधा उपलब्ध रहेगी। वहीं रूट कैनाल, फिलिंग, स्केलिंग, डेंटल एक्सट्रेक्शन एंड इंफेक्शन सहित अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध है। जिला आईईसी समन्वयक मनीष शर्मा ने बताया कि 10 व 11 को हनुमानगढ़ की सीएचसी फेफाना, 13 व 14 अगस्त को सीएचसी रावतसर, 17 व 18 अगस्त पीएचसी लखूवाली, 20 व 21 अगस्त को सीएचसी धोलीपाल, 23 व 24 अगस्त को सीएचसी सांगवाड़ा, 28 व 29 अगस्त को सीएचसी टिब्बी और 30 व 31 अगस्त को सीएचसी गोलूवाला में मोबाइल डेंटल वैन के जरिए शिविर लगाए जाएंगे। इन शिविरों में मुख्यतः आरबीएसके के तहत चिन्हित बच्चों का उपचार किया जाता है।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/