taaja khabar....अपग्रेड होगा PM मोदी का विमान, लगेगा मिसाइल से बचने का सिस्टम.....पाकिस्तान में चुनाव नजदीक, अंतरराष्ट्रीय सीमा पर फायरिंग 400% बढ़ी....भारत, पाकिस्‍तान और चीन ने बढ़ाया परमाणु हथियारों का जखीरा....अगले चीफ जस्टिस कौन? कानून मंत्री बोले, सरकार की नीयत पर संदेह न करें....बातचीत को तैयार आप सरकार और आईएएस अफसर, अब उप राज्यपाल के पाले में गेंद....लखनऊ रेलवे स्टेशन के पास बने होटेल में भीषण आग, 5 लोगों की मौत, कई गंभीर....बिहार: रोहतास में डीजे में बजाया- हम पाकिस्तानी, 8 गिरफ्तार....प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राहुल गांधी को जन्मदिन पर दी बधाई.....भीमा कोरेगांव हिंसा: हथियार के लिए नेपाली माओवादियों के संपर्क में थे नक्सली....केजरीवाल के धरने का नौंवा दिन, क्या अफसरों-LG से बनेगी बात?....
नॉटिंघम,वनडे रैंकिंग की नंबर-1 टीम इंग्लैंड ने इतिहास रच दिया है. इग्लैंड ने पुरुषों के वनडे क्रिकेट में सर्वोच्च स्कोर का नया रिकॉर्ड बनाते हुए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ छह विकेट पर 481 रन बना डाले. एलेक्स हेल्स ने जाय रिचर्डसन को 46वें ओवर में छक्का लगाकर टीम को 444 के पिछले रिकॉर्ड के पार पहुंचाया. पिछला रिकॉर्ड भी इंग्लैंड के ही नाम था, जिसने 2016 में पाकिस्तान के खिलाफ ट्रेंट ब्रिज में ही 444/3 रन बनाए थे. हेल्स ने 92 गेंद में 147 (16 चौके और पांच छक्के) और जॉनी बेयरस्टो ने 92 गेंद में 139 रन (15 चौके और पांच छक्के) बनाए. दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 151 रनों की साझेदारी की. इस साझेदारी से पहले बेयरस्टो ने जेसन रॉय के साथ पहले विकेट के लिए 159 रन जोड़े थे. रॉय ने भी आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को जमकर धोया. जेसन रॉय ने 61 गेंदों में सात चौके और चार छक्के की मदद से 82 रन बनाए. कप्तान इयोन मॉर्गन ने भी 30 गेंदों में 67 रनों की तूफानी पारी खेली, जिसमें छह छक्के और तीन चौके शामिल हैं. वनडे के टॉप-3 सर्वाधिक स्कोर 1. इंग्लैंड 481/6 रन- विरुद्ध ऑस्ट्रेलिया- नॉटिंघम (2018) 2. इंग्लैंड 444/3 रन- विरुद्ध पाकिस्तान- नॉटिंघम (2016) 3. श्रीलंका 443/9 रन- विरुद्ध नीदरलैंड्स- एम्सटेलवीन (2006) अतुलनीय लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलियाई टीम 37 ओवरों में 239 रनों पर सिमट गई. इंग्लैंड ने 242 रनों से यह मुकाबला जीता. इसके साथ ही मेजबान टीम ने 5 वनडे मैचों की सीरीज में 3-0 से अपराजेय बढ़त हासिल कर ली.
नई दिल्ली भारतीय पुरुष फुटबॉल टीम को जकार्ता में होने वाले आगामी एशियाई खेलों में खेलने की अधिकारिक पुष्टि मिल गई है। हालांकि महिला टीम को अब भी हरी झंडी का इंतजार है। पुरुष टीम के राष्ट्रीय कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन ने कुछ दिन पहले इंटरकॉन्टिनेंटल कप के दौरान सरकार से टीम को इन खेलों में भेजने की अपील की थी। एआईएफएफ से जुड़े एक करीबी सूत्र ने कहा, 'अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ ने अधिकारिक पुष्टि की है। पुरुष टीम निश्चित रूप से खेलों में भाग लेने जा रही है, लेकिन महिला टीम को अब भी हरी झंडी का इंतजार है।' कांस्टेनटाइन ने कहा था, 'हमें ज्यादा से ज्यादा मैच खेलने चाहिए और अगर सरकार सुन रही है, तो हमें एशियाई खेलों के लिए भेज दीजिए। यह अंडर- 23 का टूर्नमेंट है और हमारी इस टीम में 11 खिलाड़ी ऐसे हैं, जो 23 साल से कम उम्र के हैं। खिलाड़ियों को एशियाई खेलों में खेलने से काफी फायदा होगा।' कांस्टेनटाइन जुलाई में शिविर लगाएंगे। इंटरकॉन्टिनेंटल कप का आयोजन 2019 एएफसी एशियाई कप की तैयारियों के लिए किया गया था। भारत को इस महाद्वीपीय टूर्नमेंट में ग्रुप ए में मेजबान संयुक्त अरब अमीरात, थाइलैंड और बहरीन के साथ रखा गया है, जो 5 जनवरी से 1 फरवरी तक 8 केंद्रों में खेला जाएगा।
बेंगलुरु भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन टेस्ट मैच के पहले ही सेशन में सेंचुरी लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं। बेंगलुरु में अफगानिस्तान के खिलाफ जारी टेस्ट मैच के पहले दिन उन्होंने यह उपलब्धि हासिल की। लंच तक वह 104 रन बनाकर नाबाद लौटे। वहीं मुरली विजय 41 रन बनाकर नाबाद लौटे। भारत का स्कोर बिना विकेट के 158 रन बना लिए थे। धवन ने राशिद खान की गेंद पर चौका लगाकर अपने टेस्ट करियर का 7वां शतक पूरा किया। अपने शतक के लिए धवन ने 87 गेंदों का सामना किया और 18 चौके व 3 छक्के लगाए। टेस्ट क्रिकेट में अब तक छह बल्लेबाज ऐसे हैं जिन्होंने टेस्ट मैच के पहले ही सेशन में यह मुकाम हासिल किया है। ऑस्ट्रेलिया के विक्टर ट्रम्पर (103*) पहले बल्लेबाज थे जिन्होंने टेस्ट मैच के पहले दिन के पहले सेशन में ही सेंचुरी लगाई हो। उन्होंने 1902 में इंग्लैंड के खिलाफ यह कारनामा किया था। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के ही चार्ली मार्कटनी (112*) ने 1926 में इंग्लैंड के खिलाफ शतक लगाया। डॉन ब्रैडमैन (105*) तीसरे बल्लेबाज थे जिन्होंने इस लिस्ट में अपना नाम दर्ज करवाया। उन्होंने लीड्स में इंग्लैंड के खिलाफ मैच के पहले ही सेशन में सेंचुरी लगायी। पाकिस्तान के माजिद खान (108*) पहले एशियाई बल्लेबाज थे जिन्होंने टेस्ट मैच के पहले दिन के पहले ही सेशन में सेंचुरी लगाई। उन्होंने 1976-77 में न्यू जीलैंड के खिलाफ कराची टेस्ट में शतक लगाया। इसके बाद अगले 40 साल तक कोई बल्लेबाज इस लिस्य में शामिल नहीं हो सका। ऑस्ट्रेलिया के डेविड वॉर्नर (100*) ने पाकिस्तान के खिलाफ 2016-17 में सिडनी टेस्ट के पहले दिन के पहले ही सेशन में शतक लगाया। भारत की ओर से टेस्ट मैच के पहले दिन के पहले सेशन में सबसे ज्यादा रन बनाने का रेकॉर्ड वीरेंदर सहवाग के नाम था। सहवाग ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ 2006 में लंच से पहले 99 बनाए थे।
नई दिल्ली, भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर अपने बेबाक अंदाज के लिए जाने जाते हैं. मंगलवार को उन्होंने भारत के पूर्व खिलाड़ियों बिशन सिंह बेदी और चेतन चौहान को अपने निशाने पर लिया है. दरअसल, सोमवार को बीसीसीआई की चयन समिति ने तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की जगह नवदीप सैनी को अफगानिस्तान के खिलाफ बेंगलुरु में होने वाले एकमात्र टेस्ट के लिए शामिल किया है. इसके बाद गौतम गंभीर ने दिल्ली और जिला क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) के सदस्यों बेदी और चौहान पर हमला किया है, जिन्होंने दिल्ली की रणजी ट्रॉफी टीम में सैनी के चयन पर आपत्ति जताई थी और उन्हें हरियाणा का होने के कारण 'बाहरी व्यक्ति' कहा था. उनकी टिप्पणियों पर कटाक्ष करते हुए गंभीर ने ट्विटर पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया जताई है. गंभीर ने पूर्व कप्तान बिशन सिंह बेदी और चेतन चौहान को टैग करते हुए ट्वीट किया, 'मैं 'बाहरी व्यक्ति' नवदीप सैनी के भारतीय टीम में चयन होने पर डीडीसीए के कुछ सदस्यों के प्रति शोक जताता हूं. मुझे बताया गया है कि काले 'आर्म बैंड (बांह पर लगाई जाने वाली काली पट्टी)' बेंगलुरु में भी 225 रुपये प्रति रोल उपलब्ध हैं. महोदय, बस याद रखें नवदीप पहले भारतीय हैं और फिर बाद में उनका डोमिसाइल आता है.' बेदी और चौहान ने जताया था विरोध लगभग पांच साल पहले बिशन सिंह बेदी ने तत्कालीन डीडीसीए अध्यक्ष अरुण जेटली को एक पत्र लिखा था, जिसमें विदर्भ के खिलाफ रणजी ट्रॉफी मैच के लिए दिल्ली की टीम में सैनी के शामिल होने पर सवाल उठाया गया था. बेदी ने लिखा था, 'रणजी टीम को अंतिम रूप देने के लिए आज की बैठक में एक बाहरी व्यक्ति करनाल के एक तेज गेंदबाज नवदीप सैनी का चयन किया गया है. इस लड़के ने पिछले साल दिल्ली में कोई क्रिकेट नहीं खेला है ऐसे में कुछ लोगों को बाहर से लाना अनुचित है और बहुत अच्छे लड़के दिल्ली का प्रतिनिधित्व करने की प्रतीक्षा कर रहे हैं.' चयन के लिए सैनी ने गंभीर को दिया श्रेय सोमवार को भारतीय टीम में चयन के बाद नवदीप सैनी ने बताया कि उन्हें लाल एसजी गेंद से गेंदबाजी करने का कोई अनुभव नहीं था, लेकिन गौतम गंभीर ने उनकी मदद की थी. अधिकारियों के विरोध के बावजूद सैनी दिल्ली की टीम में जगह बनाने में कामयाब रहे. अधिकारी उन्हें हरियाणा का और बाहरी बताकर विरोध करते रहे लेकिन गंभीर ने डीडीसीए अधिकारियों से लड़कर उन्हें टीम में शामिल कराया. सैनी ने कहा,‘मुझे हर बात पता है. मुझे मालूम है कि गौतम भैया को चयनकर्ताओं को मनाने में कितनी मेहनत करनी पड़ी. आशीष नेहरा, मिथुन मन्हास और सुमित नरवाल सभी ने मेरे लिए मेहनत की.’ दिल्ली की ओर से 31 प्रथम श्रेणी मैच खेल चुके 25 साल के नवदीप ने 96 विकेट चटकाए हैं. इस बार आईपीएल के लिए हुई नीलामी में नवदीप को रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने 3 करोड़ रुपये में खरीदा था, लेकिन उन्हें एक भी मैच में खेलने का मौका नहीं मिला.
नई दिल्ली शुक्रवार को आईपीएल के दूसरे क्वॉलिफायर मैच में सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) ने कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) को 14 रन से हराकर टूर्नमेंट से बाहर कर दिया। SRH ने राशिद खान की उम्दा बैटिंग के चलते KKR को 175 रन का टारगेट दिया था। लेकिन इसके जवाब में KKR निर्धारित 20 ओवर में 160/9 रन ही बना सकी। इस हार के बाद नाइट राइडर्स आईपीएल ट्रोफी जीतने की रेस से बाहर हो गई। मैच खत्म होने के बाद इस टीम के सह-मालिक शाहरुख खान ने अपनी एक मुस्कुराती हुई तस्वीर पोस्ट की है। भले ही KKR टूर्नमेंट से बाहर हो गई, लेकिन शाहरुख खान अपनी टीम के प्रदर्शन से निराश नहीं हैं। उन्होंने मैच खत्म होने के बाद माइक्रो ब्लॉगिंग वेबसाइट टि्वटर पर अपनी मुस्कुराती हुई तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा, 'काश ऐसा न होता। अब मुझे अपनी फ्लाइट टिकट रद्द करनी होगी लेकिन शाबाश केकेआर। आपने अपने आपको गौरवान्वित किया। आप सभी ने बहुत-बहुत अच्छा किया। आपको खूब प्यार और हां मैं खुश हूं। इतना मनोरंजन और कई सारे शानदार पल देने केलिए शुक्रिया। हम एक बेहतरीन टीम हैं!' बता दें कि शाहरुख खान फिलहाल मुंबई से बाहर हैं और उन्हें उम्मीद थी कि उनकी टीम फाइनल में पहुंचकर मुंबई में चेन्नै सुपर किंग्स (CSK) ट्रोफी के लिए दो-दो हाथ करेगी। अगर केकेआर फाइनल में पहुंचती, तो शाहरुख अपनी टीम को चीयर करने मुंबई में पहुंचते। लेकिन सनराइजर्स से हारकर केकेआर का सफर कोलकाता में ही समाप्त हो गया। इसके बाद शाहरुख ने यह ट्वीट किया। इस बार कोलकाता नाइट राइडर्स ने अपना सफर तीसरे स्थान पर खत्म किया। प्लेऑफ में तीसरे स्थान पर पहुंची केकेआर ने टूर्नमेंट के एलिमिनेटर राउंड में राजस्थान रॉयल्स को हराकर क्वॉलिफाइयर 2 में एंट्री की थी, यहां यह टीम सनराइजर्स को हराकर फाइनल में एंट्री करने से चूक गई और उसका सफर यहीं खत्म हो गया। शाहरुख के इस प्रोत्साहन देने वाले ट्वीट टीम केओपनिंग बल्लेबाज क्रिस लिन ने भी रिप्लाई देने में देर नहीं लगाई। क्रिस लिन ने लिखा, 'पिछले 2 महीने के लिए धन्यवाद दोस्त। आप और जय (जय मेहता) से बेहतर टीम मालिक होने की कल्पना भी नहीं कर सकता। इसके अलावा केकेआर परिवार में कोच स्टाफ भी शानदार है। अगली बार और भी अच्छे और मजबूती से वापसी करेंगे।'
कोलकाता आईपीएल के एलिमेनेटर मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) ने राजस्थान रॉयल्स को 25 रन से हराकर टूर्नमेंट के दूसरे क्वॉलिफायर में प्रवेश कर लिया है। अब शुक्रवार को KKR इसी मैदान पर सनराइजर्स हैदराबाद से फाइनल में पहुंचने के लिए मुकाबला करेगी। कोलकाता की इस जीत के हीरो आंद्रे रसल रहे, जिन्होंने KKR की पारी अंतिम पलों में 25 रनों में नाबाद 49 रन बटोरकर रॉयल्स के सामने 170 रन की चुनौती रखने में बड़ी भूमिका अदा की। रसल को उनकी इस लाजवाब पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। 170 रनों का लक्ष्य लेकर उतरी रॉयल्स की टीम निर्धारित 20 ओवर में 144/4 रन ही बना सकी। KKR की ओर से गेंदबाजी में पीयूष चावला ने 2, जबकि प्रसिद्ध कृष्णा और कुलदीप यादव ने 1-1 विकेट अपने नाम किया। 170 रन का लक्ष्य लेकर उतरी राजस्थान रॉयल्स के लिए राहुल त्रिपाठी और अजिंक्य रहाणे की जोड़ी ने मैच में शानदार शुरुआत दी थी। दोनों ने मिलकर पहले विकेट के लिए 5 ओवर में 47 रन जोड़े। इसके बाद छठे ओवर की पहली बॉल पर पीयूष चावला ने त्रिपाठी (20) को कॉट एंड बोल आउट कर पविलियन भेज दिया। रॉयल्स के लिए लक्ष्य को हासिल करने के लिए यहां से भी कोई मुश्किल नहीं दिख रही थी। त्रिपाठी के आउट होने के बाद रहाणे (46) और संजू सैमसन की जोड़ी ने भी शानदार ढंग से क्रीज पर पांव जमा लिए थे और रॉयल्स का स्कोर 100 के पार पहुंचा दिया। दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 9 ओवर की बैटिंग में 63 रन जोड़े। दोनों बल्लेबाज परिस्थितियों को भांपते हुए खेल खेल रहे थे और बिना कोई जोखिम उठाए पारी को आगे बढ़ा रहे थे। इस बीच कमजोर बॉल मिलने पर दोनों ही बल्लेबाज बॉल को बाउंड्री लाइन के पार भी भेज रहे थे। इस बीच 109 रन के स्कोर पर रहाणे को कुलदीप ने अपनी फिरकी में फंसा लिया। कप्तान अजिंक्य रहाणे धीरे-धीरे अपनी फिफ्टी की ओर आगे बढ़ रहे थे कि कुलदीप ने उन्हें कॉट एंड बॉल आउट कर रहाणे की पारी का 46 के स्कोर पर अंत किया। रहाणे ने 41 बॉल की इस पारी में 4 चौके और 1 छक्का जमाया। जब रहाणे आउट हुए, तब रॉयल्स को 29 बॉल में 61 रन की दरकार थी। इस बीच रॉयल्स के भरोसेमंद बल्लेबाज संजू सैमसन ने 37 बॉल में फिफ्टी जड़ दी। लेकिन अब रॉयल्स पर लगातार बढ़ती रनरेट का दबाव बढ़ रहा था और सैमसन ने पीयूष चावला की बॉल बड़ा शॉट खेलने का प्रयास किया। लेकिन लॉन्ग ऑन बाउंड्री पर जेवन सीरल्स ने उनका कैच पकड़ कर सैमसन की इस पारी अंत कर दिया। रहाणे और सैमसन के आउट होने का परिणाम यह हुआ कि बाद में आने वाले बल्लेबाज बढ़ते रनरेट का दबाव नहीं झेल पाए। रहाणे के आउट होने के बाद कोलकाता ने रनों पर अंकुश लगा दिया। कोलकाता की टीम अब जानती थी कि उसके बैंक में अभी रनों का काफी कोटा बाकी है, तो उसे विकेट न भी मिले, तो भी वह इस स्कोर को यहां बचा कर मैच अपने नाम कर लेगी और मैच के अंतिम पलों में हुआ भी कुछ ऐसा ही। इससे पहले आज मैच में पहले बैटिंग का न्योता मिलने के बाद कोलकाता की टीम ने दिनेश कार्तिक (52) की कप्तानी पारी और आंद्रे रसल (49*) की तूफानी पारी की बदौलत कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) ने राजस्थान रॉयल्स (RR) के सामने 170 रन की चुनौती रखी थी। रसल की तूफानी पारी का इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि अंतिम 6 ओवरों में नाइटराइडर्स ने 85 रन बटोरे। इससे पहले इस एलिमिनेटर मैच में शुरुआत से ही कोलकाता के पक्ष में कुछ भी जाता नहीं दिख रहा था। पहले बैटिंग का न्योता मिलने के बाद KKR की शुरुआत अच्छी नहीं रही। 51 रन के स्कोर तक पहुंचते-पहुंचते उसने अपने 4 विकेट गंवा दिए थे। यहां से कप्तान दिनेश कार्तिक ने पहले शुभमन गिल (28) के साथ मिलकर स्कोर को 100 पार पहुंचाया और बाद में रसल ने 25 बॉल में 49 रन बनाकर रॉयल्स के सामने 170 रन का चुनौतीपूर्ण टारगेट रखने में मदद की। रॉयल्स के लिए गौतम, आर्चर और लॉफलिन ने 2-2, जबकि श्रेयस गोपाल ने 1 विकेट लिया। मैच की पहली ही बॉल पर सुनील नरेन ने चौका जरूर जड़ा, लेकिन अगली ही बॉल पर कृष्णप्पा गौतम ने उन्हें चकमा देते हुए विकेटकीपर हेनरिक क्लासेन के हाथों स्टंप आउट कर पविलियन भेज दिया। रॉबिन उथप्पा (3) एक बार फिर फ्लॉप हो गए और गौतम ने उन्हें अपने दूसरे ओवर में कॉट एंड बॉल आउट किया। इससे पहले नीतिश राणा (3) क्रिस लिन के साथ टीम की पारी पारी को संभालते कि इस बार जोफरा आर्चर ने राणा को मिड ऑन पर खड़े जयदेव उनादकत के हाथों आउट कर कोलकाता को तीसरा झटका दे दिया। केकेआर का स्कोर यहां अभी 24 ही हुआ था और यहां से कोलकाता की टीम बैकफुट पर आ चुकी थी। कप्तान दिनेश कार्तिक ने यहां आकर पारी को संभालने की कोशिश की। उन्होंने क्रिस लिन के साथ मिलकर कुछ अच्छे शॉट लगाए और स्कोर को 50 के पार पहुंचा दिया। लेकिन 51 के स्कोर पर श्रेयस गोपाल ने भी अपना खाता खोल लिया और क्रिस लिन (18) को कॉट एंड बॉल आउट किया। लिन 22 बॉल की अपनी इस पारी में सिर्फ 2 चौके ही जड़ पाए। 5वें विकेट के लिए युवा बल्लेबाज शुभमन गिल (28) क्रीज पर उतरे। गिल और कार्तिक की जोड़ी ने 5वें विकेट के लिए 55 रन जोड़े। नाइट राइडर्स के लिए इस मैच में यह पहली बड़ी साझेदारी थी। दोनों ने मुश्किल में फंसी केकेआर को उबारने का अच्छा प्रयास किया। क्रीज पर सेट हो चुके शुभमन गिल अब तेजी से रन बटोरने का प्रयास कर रहे थे। इस बीच जोफरा आर्चर की एक बॉल पर वह विकेट कीपर क्लासेन को कैच दे बैठे और उनकी छोटी मगर महत्वपूर्ण पारी का यहीं अंत हो गया। गिल ने 17 बॉल की अपनी इस पारी में 3 चौके और 1 छक्का जड़ा। शुभमन के बाद क्रीज पर डेथ ओवर में बैटिंग के स्पेशलिस्ट आंद्रे रसल आए और उन्होंने मैच में इस अंदाज में बैटिंग की, कि केकेआर की सभी गलतियों की भरपाई हो गई। रसल और कार्तिक ने छठे विकेट के 11 बॉल में लिए 29 रन की साझेदारी की। इस बीच कार्तिक ने अपनी हाफ सेंचुरी पूरी कर ली। हालांकि हाफ सेंचुरी के बाद कार्तिक तेजी से रन बटोरने के प्रयास में बेन लॉफलिन का शिकार बने। कार्तिक ने 38 बॉल की अपनी इस पारी में 4 चौके और 2 छक्के जमाए। इसके बाद रसल ने मैच में पूरी तरह से अपनी छाप छोड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी। रसल ने इस मैच में सिर्फ 25 बॉल ही खेलीं, लेकिन इनमें 3 चौके और 5 छक्कों की मदद से उन्होंने नाबाद 49 रन बना डाले और अपनी टीम को 169 रन के स्कोर तक पहुंचा दिया। एक वक्त लग रहा था कि केकेआर रॉयल्स के सामने कोई खास चुनौती नहीं रख पाएगी, लेकिन रसल की तूफानी पारी ने मैच का रुख ही बदल दिया।
नई दिल्ली रविवार का दिन आईपीएल 2018 के प्लेऑफ के लिहाज से निर्णायक रहा। मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन का सफर इस टूर्नमेंट में समाप्त हो गया। इसके साथ ही टेबल की टॉप 4 टीमें भी तय हो गईं। इसमें पहले नंबर पर सनराइजर्स हैदराबाद, दूसरे पर चेन्नै सुपर किंग्स है। वहीं राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स ने भी प्लेऑफ में अपनी जगह पक्की कर ली है। सनराइजर्स हैदराबाद की टीम लीग मैचों के बाद 14 मैचों में 9 जीत के साथ टेबल में टॉप पर रही। उसका नेट रनरेट +.0284 रहा। चेन्नै सुपर किंग्स की टीम ने भी 9 मैचों में जीत हासिल की लेकिन नेट रनरेट के मामले में वह सनराइजर्स हैदराबाद से पिछड़ गई। रविवार को पहले मुकाबले में दिल्ली डेयरडेविल्स ने मुंबई इंडियंस को 11 रन से हराकर प्लेऑफ में पहुंचने का उसका सपना तोड़ दिया। दिल्ली ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 4 विकेट पर 174 रन बनाए जवाब में मुंबई की टीम 163 रनों पर ऑल आउट हो गई। इसके बाद दूसरे मैच में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम चेन्नै सुपर किंग्स के सामने आई। पंजाब के सामने चुनौती थी कि वह चेन्नै को 53 से ज्यादा रनों से हराए ताकि वह नेट रनरेट के मामले में राजस्थान को पीछे छोड़ दे। पंजाब की टीम 19.4 ओवर में 153 पर ऑल आउट हो गई वहीं चेन्नै ने रन बनाकर मैच जीत लिया। कब होंगे प्लेऑफ मैच प्लेऑफ मुकाबले मंगलवार से शुरू होंगे। पहले क्वॉलिफायर मैच में पहले स्थान पर रहने वाली सनराइजर्स हैदराबाद का मुकाबला टेबल में दूसरे पायदान पर रही चेन्नै सुपर किंग्स से होगा। यह मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में होगा। इस मैच को जीतने वाली टीम सीधा फाइनल में पहुंच जाएगी। बुधवार को एलिमिनेटर मैच होगा। इसमें तीसरे और चौथे स्थान पर रही कोलकाता नाइट राइडर्स और राजस्थान रॉयल्स आमने-सामने होंगी। यह मैच कोलकाता के ईडन गार्डंस में खेल जाएगा। इस मैच को हारने वाली टीम का सफर आईपीएल में समाप्त हो जाएगा। इसके बाद शुक्रवार 25 मई को क्वॉलिफायर 2 होगा। इस मैच में क्वॉलिफायर 1 में हारने वाली टीम और एलिमिनेटर में जीतने वाली टीम के बीच मुकाबला होगा। यह मैच भी कोलकाता में ही खेला जाएगा। रविवार को क्वॉलिफायर 1 और क्वॉलिफायर 2 मैच की विजेता टीमें रविवार 27 मई को वानखेड़े स्टेडियम में भिड़ेंगी। प्लेऑफ, एलिमिनेटर और फाइनल मुकाबले शाम को सात बजे शुरू होंगे।
नई दिल्ली दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में रविवार को खेले गए आईपीएल-11 के 55वें मुकाबले में दिल्ली डेयडेविल्स ने मुंबई इंडियंस को 11 रनों से हरा दिया। प्लेऑफ की रेस से पहले ही बाहर हो चुकी दिल्ली ने आखिरी लीग मैच जीतकर मुंबई को भी प्लेऑफ की रेस से बाहर कर दिया। इससे पहले टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली ने निर्धारित 20 ओवरों में 174 रन बनाए। जवाब में मुंबई इंडियंस 163 रनों पर ऑलआउट हो गई। दिल्ली की तरफ से अमित मिश्रा, हर्षल पटेल और संदीप लमिछाने ने 3-3 विकेट हासिल किए। मुंबई को आखिरी ओवर में जीत के लिए 18 रनों की जरूरत थी। हर्षल पटेल की पहली ही गेंद पर कटिंग ने छक्का जड़ा लेकिन अगली ही गेंद पर उनके आउट होने के साथ ही मुंबई की रही-सही उम्मीदें भी खत्म हो गई। पटेल ने अगली गेंद पर बुमराह को आउट कर मुंबई इंडियंस को 163 रनों पर समेट दिया और इस तरह इस आईपीएल में मुंबई का भी सफर थम गया। पहले ही ओवर में मुंबई को लगा झटका मुंबई इंडियंस को पहले ही ओवर में झटका लगा, जब सूर्यकुमार यादव 12 रन बनाकर लमिछाने के शिकार हो गए। विजय शंकर ने उनका कैच पकड़ा। यादव ने 4 गेंदों का सामना किया, जिसमें 1 चौका और 1 छक्का जड़ा। यादव के आउट होने के बाद लेविस और ईशान किशन के बीच दूसरे विकेट के लिए 45 रनों की साझेदारी हुई। किशन को 5 रन के व्यक्तिगत स्कोर पर अमित मिश्रा ने शंकर के हाथों कैच कराया। विजय शंकर ने उनका बाउंडरी पर शानदार कैच लपका। मुंबई की तरफ से लुइस ने बनाए सबसे ज्यादा रन इविन लुइस के रूप में मुंबई का तीसरा विकेट गिरा। 9वें ओवर की आखिरी गेंद में लुईस अमित मिश्रा की गेंद को आगे बढ़कर खेलने के चक्कर में स्टंप्ड आउट हो गए। उन्होंने 31 गेंदों का सामना कर 48 रन बनाए, जिसमें 3 चौके और 4 छक्के शामिल थे। लुईस के आउट होते ही मुंबई की पारी लड़खड़ा गई। अगले ही ओवर में संदीप लमिछाने ने पहले कायरन पोलार्ड (7) और उसके बाद क्रुणाल पंड्या को पविलियन का रास्ता दिखाया। नहीं चला कप्तान रोहित शर्मा का बल्ला मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा कुछ खास नहीं कर सके। वह 10 रन बनाकर हर्षल पटेल की गेंद पर ठीक उसी अंदाज में कैच हुए, जिस तरह कायरन पोलार्ड आउट हुए थे। शर्मा और पोलार्ड दोनों के ही एरियल शॉट को मैक्सवेल ने बाउंडरी पर पकड़ा, लेकिन संतुलन बिगड़ने की वजह से वापस मैदान की तरफ उछाला दिया। दोनों ही बार बोल्ट ने कैच कंपलीट करने में कोई गलती नहीं की। रोहित शर्मा के आउट होने के बाद अगले ही ओवर में हार्दिक पंड्या भी आउट हो गए। अमित मिश्रा की गेंद पर राहुल तेवतिया ने उनका कैच लपका। हार्दिक ने 17 गेंदों में 27 रन बनाए। उन्होंने 2 चौके और एक छक्का भी जड़ा। पंत और शंकर ने खेली तेजतर्रार पारी इससे पहले टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली ने ऋषभ पंत और विजय शंकर की तेजतर्रार पारियों की बदौलत निर्धारित 20 ओवरों में 4 विकेट के नुकसान पर 174 रन बनाए। इस तरह मुंबई के सामने जीत के लिए 175 रनों का लक्ष्य रखा। पंत ने इस आईपीएल में पांचवां अर्धशतक जड़ा दिल्ली की तरफ से ऋषभ पंत ने सबसे ज्यादा 64 रनों की पारी खेली। विजय शंकर 43 रन और अभिषेक शर्मा 10 रन बनाकर नाबाद रहे। शंकर ने 30 गेंदों का सामना किया जिसमें 3 चौके और 2 छक्के उड़ाए। मुंबई की तरफ से हार्दिक पंड्या, जसप्रीत बुमराह और मयंक मार्कंडेय ने 1-1 विकेट लिए। दिल्ली की तरफ से पृथ्वी शॉ और ग्लेन मैक्सवेल की जोड़ी ओपनिंग करने उतरी, लेकिन यह जोड़ी 30 रनों की ही साझेदारी कर सकी। पृथ्वी शॉ 12 के व्यक्तिगत स्कोर पर रन आउट होकर पविलियन लौट गए। इस सीजन में दिल्ली की तरफ से 10वीं बार कोई खिलाड़ी रन आउट हुआ है। स्कोर में अभी 8 रन ही और जुड़े थे कि जसप्रीत बुमराह ने ग्लेन मैक्सवेल को क्लीन बोल्ड कर दिया। मैक्सवेल ने 22 रन बनाए। 9वें ओवर की आखिरी गेंद पर दिल्ली को तीसरा झटका लगा, जब श्रेयस अय्यर बाउंडरी पर हार्दिक पंड्या को कैच थमा बैठे। मयंक मार्कंडेय की गेंद को अय्यर ने छक्के के लिए हवा में उछाला था लेकिन पंड्या ने एक दम बाउंडरी लाइन पर बढ़िया कैच लपका। अय्यर 10 गेंदों में सिर्फ 6 रन ही बना सके। ऋषभ पंत के रूप में दिल्ली का चौथा विकेट गिरा। क्रुणाल पंड्या की गेंद पर वह कायरन पोलार्ड को कैच थमा बैठे। उन्होंने 44 गेंदों में 64 रन बनाए, जिसमें 4 चौके और 4 ही छक्के शामिल हैं। जबरदस्त फॉर्म में चल रहे पंत की यह इस सीजन में पांचवीं फिफ्टी थी। इस मैच को मिलाकर आईपीएल में अब तक मुंबई और दिल्ली के बीच कुल 22 मैच खेले गए हैं जिनमें 11 बार मुंबई ने जीत दर्ज की है तो 11 मैचों में दिल्ली ने बाजी मारी। इस सीजन में दिल्ली ने मुंबई को उसी के घरेलू मैदान वानखेड़े स्टेडियम में भी 7 विकेट से मात दी थी।
जयपुर मौजूदा आईपीएल सीजन के 53वें मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स ने शनिवार को अहम मैच में कोहली की अगुआई वाली आरसीबी को 30 रनों से हरा दिया। इस जीत के साथ ही राजस्थान ने प्लेऑफ की उम्मीदें कायम रखी हैं, जबकि बैंगलोर प्लेऑफ की रेस से बाहर हो चुकी है। होम ग्राउंड में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए राजस्थान ने निर्धारित 20 ओवरों में 5 विकेट के नुकसान पर 164 रन बनाए। जवाब में आरसीबी की पूरी टीम 20वें ओवर में 134 रनों पर ढेर हो गई। राजस्थान की ओर से श्रेयस गोपाल ने सबसे ज्यादा चार विकेट लिए वहीं बेन लॉफ्लिन और जयदेव उनादकत ने दो-दो विकेट हासिल किए। बैंगलोर की ओर से सिर्फ एबी डि विलियर्स ही टिककर बल्लेबाजी कर सके। उन्होंने 53 रनों का योगदान दिया। बैंगलोर की ओर से तेज गेंदबाज उमेश यादव ने तीन बल्लेबाजों को पविलियन की राह दिखाई। गोपाल की घातक बोलिंग श्रेयस गोपाल की घातक गेंदबाजी ने आरसीबी के टॉप ऑर्डर की कमर तोड़ दी। रही सही कस लॉफलिन ने पूरी कर दी। उन्होंने 16वें ओवर में लगातार 2 गेंदों में 2 बल्लेबाजों को पविलियन का रास्ता दिखाया। गोपाल ने 4 ओवरों में सिर्फ 16 रन देकर 4 विकेट झटके, जिसमें एबी डि विलियर्स का अहम विकेट भी शामिल था। डि विलियर्स ने 35 गेंदों में 53 रन बनाए, जिसमें 7 चौके शामिल थे। खराब शुरुआत के बाद पटेल-डि विलियर्स ने संभाला 165 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी आरसीबी की पारी का आगाज कप्तान विराट कोहली और पार्थिव पटेल ने किया। टीम को तीसरे ही ओवर में पहला झटका लगा। गौतम ने ओवर की पांचवीं गेंद पर विराट कोहली को क्लीन बोल्ड कर दिया। उन्होंने सिर्फ 4 रन बनाए। इसके बाद पार्थिव पटेल और एबी डि विलियर्स ने आरसीबी की पारी को संभाला। दोनों के बीच 55 रनों की साझेदारी हुई। गोपाल ने एक ही ओवर में दिए दो झटके 9वें ओवर में श्रेयस गोपाल ने आरसीबी को 2 झटके दिए। पहले उन्होंने पार्थिव पटेल को आउट किया और ओवर की आखिरी गेंद पर मोईन अली को भी पविलियन का रास्ता दिखाया।पटेल 21 गेंदों में 33 रन बनाए। उन्होंने अपनी पारी में 3 चौके और 2 छक्के जड़े। पटेल के आउट होने के बाद उसी ओवर में मोईन अली भी पविलियन लौट गए। गोपाल ने अपनी ही गेंद पर उनका शानदार कैच पकड़ा। अली ने सिर्फ 1 रन बनाया। गोपाल ने अपने अगले ओवर में मंदीप सिंह को भी पविलियन का रास्ता दिखाया। उन्होंने सिर्फ 3 रन बनाया। ग्रेैडहोम भी नहीं खेल पाए बड़ी पारी मंदीप के आउट होने के बाद स्कोरबोर्ड में सिर्फ 11 रन ही जुड़े थे कि ग्रैंडहोम भी आउट हो गए। सोढ़ी की गेंद पर स्लिप में रहाणे ने उनका कैच लपका। ग्रैंडहोम ने सिर्फ 2 रन बनाए। 16वें ओवर में लाफलिन ने लगातार 2 गेंदों पर 2 विकेट झटककर मैच पर राजस्थान का शिकंजा पूरी तरह कस दिया। लाफलिन ने पहले सरफराज खान (7) और अगली ही गेंद पर उमेश यादव (0) को पविलियन भेजा। टॉस जीतकर राजस्थान ने चुनी बल्लेबाजी इससे पहले, होमग्राउंड पर राजस्थान रॉयल्स ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवरों में 5 विकेट के नुकसान पर 164 रन बनाए। राजस्थान की तरफ से ओपनर राहुल त्रिपाठी ने 80 रनों की नाबाद पारी खेली। वहीं आरसीबी की तरफ से उमेश यादव ने सबसे ज्यादा 3 विकेट झटके। शुरुआती झटके बाद त्रिपाठी-रहाणे के बीच हुई मजबूत साझेदारी राजस्थान को दूसरे ही ओवर में महज 2 रन के स्कोर पर पहला झटका लगा। जे.सी. आर्चर उमेश यादव की गेंद पर विकेट के पीछे कैच हुए। वह खाता तक नहीं खोल पाए। इसके बाद राहुल त्रिपाठी ने रहाणे का साथ मिलकर राजस्थान की पारी को आगे बढ़ाया। त्रिपाठी ने 38 गेंदों में अपना अर्शतक पूरा किया। रहाणे और त्रिपाठी के बीच दूसरे विकेट के लिए 99 रनों की साझेदारी हुई। रहाणे को उमेश यादव ने एलबीडब्लू आउट किया। उन्होंने 31 गेंदों में 33 रन बनाए। अगली ही गेंद पर संजू सैमसन भी बिना खाता खोले आउट हो गए। यादव की गेंद पर अली ने उनका कैच पकड़ा। क्लासेन का उपयोगी योगदान एच. क्लासेन ने 21 गेंदों में 32 रन बनाए, जिसमें 3 चौके और एक छक्का शामिल था। उन्हें मोहम्मद सिराज ने आउट किया। 20वें ओवर की आखिरी गेंद में गौतम रन आउट हुए। उन्होंने 5 गेंदों में 14 रन बनाए, जिसमें 2 छक्के शामिल थे।
नई दिल्ली, दिल्ली डेयरडेविल्स ने चेन्नई सुपर किंग्स को आईपीएल सीजन 11 के 52वें मुकाबले में 34 रन से हरा दिया है. दिल्ली के फिरोजशाह कोटला स्टेडियम में खेले गए इस मैच में टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम ने 20 ओवर में 5 विकेट गंवा कर 162 रन बनाए और चेन्नई सुपर किंग्स के सामने जीत के लिए 163 रनों का टारगेट रखा. जवाब में चेन्नई सुपर किंग्स 20 ओवर में 128 रन ही बना पाई और डेयरडेविल्स ने यह मैच जीत लिया. स्कोरबोर्ड सुपरकिंग्स की टीम अंबति रायडू (50) के अर्धशतक के बावजूद छह विकेट पर 128 रन ही बना सकी. रायडू के अलावा सिर्फ रवींद्र जडेजा (नाबाद 27) ही सुपरकिंग्स की ओर से 20 रन के आंकड़े को पार कर पाए. डेयरडेविल्स की ओर से अमित मिश्रा (20 रन पर दो विकेट) और संदीप लामिछाने (21 रन पर एक विकेट) की लेग स्पिन जोड़ी ने अपनी फिरकी का जादू दिखाया. ट्रेंट बोल्ट ने भी 20 रन देकर दो विकेट चटकाए जबकि हर्षल पटेल ने 23 रन देकर एक विकेट हासिल किए. सुपरकिंग्स के 13 मैचों में आठ जीत से 16 अंक हैं और टीम दूसरे स्थान पर बरकरार है. डेयरडेविल्स 13 मैचों में चार जीत से आठ अंक के साथ अंतिम पायदान पर है. शेन वॉटसन (14) और रायडू की जोड़ी ने सुपरकिंग्स को लक्ष्य का पीछा करते हुए सतर्क शुरुआत दिलाई. टीम ने पांच ओवर में 22 रन ही बना सकी. रायडू ने हालांकि छठे ओवर में आवेश खान को निशाना बनाते हुए उनके ओवर में तीन छक्के और एक चौके से 22 रन जुटाए. सुपरकिंग्स ने पावरप्ले में बिना विकेट खोए 44 रन बनाए. लेग स्पिनर मिश्रा ने वॉटसन को ट्रेंट बोल्ट के हाथों कैच कराके दिल्ली को पहली सफलता दिलाई. सुरेश रैना पहली ही गेंद पर भाग्यशाली रहे जब मिश्रा की गेंद पर पंत ने उनका कैच टपका दिया. सुपरकिंग्स के रनों का अर्धशतक आठवें ओवर में पूरा हुआ. रायडू ने मिश्रा की लगातार गेंदों पर चौके और छक्के के साथ रन गति में इजाफा करने की कोशिश की. उन्होंने पटेल पर चौके और फिर एक रन के साथ 28 गेंद में अर्धशतक पूरा किया. वह हालांकि इसी ओवर में गेंद को हवा में लहराकर बाउंड्री पर मैक्सवेल को कैच दे बैठे. उन्होंने 29 गेंद का सामना करते हुए चार छक्के और इतने ही चौके मारे. सुरेश रैना और धोनी ने इसके बाद पारी को आगे बढ़ाया. दोनों ने मैक्सवेल पर चौके जड़े. धोनी ने पारी के दौरान 10 रन बनाते ही टी-20 क्रिकेट में 6000 रन पूरे किए. वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले दुनिया के 18वें बल्लेबाज हैं. रैना हालांकि 15 रन बनाने के बाद लेग स्पिनर संदीप लामिछाने की गेंद पर विजय शंकर का कैच दे बैठे. मिश्रा ने इसके बाद सैम बिलिंग्स (01) की पारी का अंत करके चेन्नई का स्कोर चार विकेट पर 94 रन किया. सुपरकिंग्स को अंतिम पांच ओवर में जीत के लिए 69 रन की दरकार थी. रवींद्र जडेजा ने लामिछाने पर छक्के के साथ 16वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया. धोनी और जडेजा हालांकि रन गति में इजाफा करने में नाकाम रहे. टीम को अंतिम तीन ओवर में जीत के लिए 55 रन की दरकार थी जो उसके लिए पहाड़ जैसा लक्ष्य साबित हुआ. बोल्ट ने धोनी (17) को अय्यर के हाथों कैच कराके सुपरकिंग्स की रही सही उम्मीद भी तोड़ी. दिल्ली ने चेन्नई को दिया 163 रनों का टारगेट टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम ने 20 ओवर में 5 विकेट गंवा कर 162 रन बनाए और चेन्नई सुपर किंग्स के सामने जीत के लिए 163 रनों का टारगेट रखा. दिल्ली के लिए इस मैच में सबसे ज्यादा रन ऋषभ पंत ने 26 गेंदों में तीन चौके और दो छक्कों की मदद से 38 रनों की पारी खेली. विजय शंकर 28 गेंदों में दो चौके और दो छक्कों की मदद से नाबाद 36 रन बनाए. हर्षल पटेल ने 16 गेंदों में चार छक्के और एक चौके की मदद से तेजी से नाबाद 36 रनों की पारी खेली. चेन्नई के लिए लुंगी नगीदी ने दो विकेट लिए. दीपक चहर, शार्दुल ठाकुर और रवींद्र जडेजा ने एक-एक विकेट लिया. दिल्ली की टीम 14वें ओवर में 97 रन पर पांच विकेट गंवाने के बाद संकट में थी जिसके बाद विजय शंकर (नाबाद 36) और पटेल (नाबाद 36) 5.2 ओवर में छठे विकेट के लिए 65 रन की अटूट साझेदारी करके टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया. पटेल ने 16 गेंद का सामना करते हुए चार छक्के और एक चौका मारा जबकि विजय शंकर ने 28 गेंद में दो छक्के और इतने ही चौके मारे. ऋषभ पंत ने भी 26 गेंद में तीन चौकों और दो छक्कों की मदद से 38 रन की पारी खेली. सुपरकिंग्स की ओर से तेज गेंदबाज लुंगी नगीदी ने तीन ओवर में 14 रन देकर दो विकेट चटकाए. रवींद्र जडेजा ने बेहद किफायती गेंदबाजी करते हुए चार ओवर में 19 रन देकर एक विकेट हासिल किया. दीपक चाहर (23 रन पर एक विकेट) और शार्दुल ठाकुर (27 रन पर एक विकेट) ने भी एक-एक विकेट हासिल किया. ड्वेन ब्रावो काफी महंगे साबित हुए और उन्होंने चार ओवर में 52 रन लुटाए. दिल्ली की शुरुआत धीमी रही. पारी का आगाज पृथ्वी शॉ (17) और कप्तान श्रेयस अय्यर (19) ने किया जो मौजूदा सत्र में दिल्ली की आठवीं सलामी जोड़ी है. दीपक चाहर ने अपनी स्विंग से इन दोनों को परेशान किया. पृथ्वी ने चाहर पर चौके से खाता खोला और फिर इस तेज गेंदबाज के अगले ओवर में छक्का भी मारा. पृथ्वी हालांकि 16 रन के स्कोर पर भाग्यशाली रहे जब रवींद्र जडेजा की गेंद पर शार्दुल ठाकुर ने उनका कैच टपका दिया. पृथ्वी हालांकि इसका फायदा नहीं उठा पाए और चाहर के अगले ओवर में लांग ऑन पर ठाकुर को ही कैच दे बैठे. अय्यर ने इसी ओवर में चाहर पर दो चौके मारे. दिल्ली की टीम ने पावरप्ले में एक विकेट पर 39 रन बनाए. पंत ने हरभजन सिंह पर चौके के साथ आठवें ओवर में टीम का स्कोर 50 रन के पार पहुंचाया. मौजूदा सत्र में डेयरडेविल्स के सबसे सफल बल्लेबाज पंत ने इस ऑफ स्पिनर के अगले ओवर में दो छक्के और एक चौका मारा. नगीदी ने इसके बाद गेंदबाजी में वापसी करते हुए अय्यर और पंत को चार गेंद के भीतर पवेलियन भेजकर दिल्ली को दोहरा झटका दिया. अय्यर नगीदी की अंदर आती गेंद को चूककर बोल्ड हुए जबकि पंत ने बड़ा शॉट खेलने की कोशिश में बाउंड्री पर ब्रावो को आसान कैच थमाया. अय्यर और पंत ने दूसरे विकेट के लिए 54 रन की साझेदारी की. पंत ने 26 गेंदबाज का सामना करते हुए दो छक्के और तीन चौके मारे. जडेजा ने ग्लेन मैक्सवेल (05) को बोल्ड करके दिल्ली को चौथा झटका दिया जबकि ठाकुर ने अभिषेक शर्मा (02) को हरभजन के हाथों कैच कराया. विजय शंकर ने ठाकुर पर चौके के साथ 15वें ओवर में मेजबान टीम के रनों का सैकड़ा पूरा किया. विजय शंकर ने इसके बाद ठाकुर जबकि हर्षल पटेल ने ब्रावो पर छक्का जड़ा. पटेल ने ब्रावो के पारी के अंतिम ओवर में तीन जबकि विजय शंकर ने एक छक्का जड़ा जिससे ओवर में 26 रन बने. चेन्नई ने टॉस जीतकर दिल्ली को दिया बल्लेबाजी का न्योता चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया है और दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया है. चेन्नई सुपर किंग्स की टीम में एक बदलाव किया गया है. डेविड विली की जगह लुंगी नगीदी को प्लेइंग इलेवन में मौका दिया गया है. जबकि दिल्ली की टीम में जेसन रॉय और जूनियर डाला की जगह ग्लेन मैक्सवेल और आवेश खान को शामिल किया गया है. प्लेइंग इलेवन: दिल्ली डेयरडेविल्स: श्रेयस अय्यर (कप्तान), ऋषभ पंत (विकेटकीपर), ग्लेन मैक्सवेल, विजय शंकर, ट्रेंट बोल्ट, अमित मिश्रा, पृथ्वी शॉ, आवेश खान, अभिषेक शर्मा, संदीप लामिछाने, हर्षल पटेल. चेन्नई सुपर किंग्स: महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान/विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा, सुरेश रैना, ड्वेन ब्रावो, शेन वॉटसन, अंबति रायडू, हरभजन सिंह, सैम बिलिंग्स, दीपक चाहर, लुंगी नगीदी, शार्दुल ठाकुर.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/