taaja khabar...रोहिंग्या की अवैध बस्तियों को बढ़ावा दे रहे तृणमूल कांग्रेस के नेता: एजेंसियां.....नरम पड़े चीन के तेवर? साझा सैन्य अभ्यास का दिया प्रस्ताव......चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को लेकर फिर सक्रिय हुए विपक्षी दल, आज बैठक.....लंदन में पीएम मोदी के सेशन से मिले साफ संकेत, क्या है बीजेपी का इलेक्शन प्लान?...कठुआ कांड के बाद किस करवट बैठेगी जम्मू-कश्मीर की सियासत?...
नई दिल्ली, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की आज 127वीं जयंती के मौके पर देश भर में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं. इसी दौरान पंजाब के फगवाड़ा में हिंसा की ख़बर सामने आई है. उधर, गुजरात में एक बीजेपी सांसद को बाबासाहब अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने से रोक दिया गया. जिसके बाद दलित नेता जिग्नेश मेवानी के कुछ समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. गृह मंत्रालय का अलर्ट अंबेडकर जयंती के अवसर पर सभी राजनीतिक दल दलितों को रिझाने की कोशिश में लगे हैं. इसी के चलते गृह मंत्रालय इस मौके पर किसी भी तरह के जातीय और सियासी बवाल को रोकने के लिए अलर्ट जारी किया है. जहां भी जयंती पर आयोजन किए जा रहे हैं, वहां भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किए जाने के निर्देश दिए गए हैं. सभी राज्य सरकारों को गृह मंत्रालय की तरफ से सर्तक रहने के लिए कहा गया है. पंजाब में अफवाह के बाद भड़की हिंसा कपूरथला जिले के फगवाड़ा में पेपर चौक पर संविधान स्थल पर डॉ. भीमराव अम्बेडकर की मूर्ति लगी है. बीती देर रात किसी ने अफवाह फैला दी कि कुछ लोग वहां तोड़फोड़ कर रहे हैं. यह अफवाह आग की तरह वहां फैल गई और भारी संख्या में दलित समुदाय के लोग वहां जमा हो गए. दूसरे तरफ से कुछ हिंदूवादी संगठनों के लोग भी आ गए. इसी दौरान दोनों पक्षों के बीच अचानक पत्थरबाजी शुरू हो गई. जो बाद में गोलीबारी में बदल गई. दोनों तरफ से फायरिंग हुई, जिसमें दो लोगों को गोली लग गई. जबकि 6 अन्य लोग घायल हो गए. सभी को उपाचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया. इससे पहले वहां कई वाहनों में भी तोड़-फोड़ की गई. शनिवार की सुबह कुछ बीजेपी के कुछ नेताओं ने संविधान स्थल की तरफ जाने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया. पुलिस ने बामुश्किल हालात को काबू में किया. इलाके में अब कर्फ्यू जैसे हालात बने हुए हैं. भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है. जिले के एसपी परमिंदर सिंह भण्डाल खुद मौके पर डेरा डाले हुए हैं. गुजरात में भी बवाल गुजरात में एक बीजेपी सांसद को बाबासाहब अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने से रोक दिया गया. जिसके बाद जिग्नेश के कुछ समर्थकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. जिग्नेश ने एक ट्वीट में कहा कि बीजेपी के नेताओ का विरोध करते वक्त आदिवासी नेता सुबोध परमार, भरत शाह, जगदीश चावड़ा, राजु वलवईकर और दलित पेंथर विपिन रॉय को सारंगपुर से हिरासत में लिया गया. बता दें कि दलित नेता जिग्नेश मेवानी कि धमकी के बाद आज बड़ी तादाद में बीजेपी के दलित नेता बाबा साहब आम्बेडकर कि प्रतिमा को फूल चढ़ाने पहुंचे तो, कुछ लोगों ने उनका विरोध किया. जिग्नेश मेवानी ने एलान किया था कि वो बीजेपी के किसी भी नेता को आम्बेडकर कि प्रतिमा को फूल चढ़ाने नहीं देंगे. वहीं, बीजेपी के नेता बड़ी तादाद में कार्यकर्ताओं के साथ अहमदाबाद में बाबासाहब अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण पर फूल मालाएं चढ़ाने के लिए पहुंते, तो उनका विरोध किया गया. इसी दौरान मौके पर मौजूद भारी पुलिस बल ने विरोध करने वालों को हिरासत में ले लिया. उधर, गुजरात के बड़ौदा से भी झड़प की ख़बरें आ रही हैं.
चंडीगढ़ पंजाब की कैप्‍टन अमरिंदर सिंह सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अपने ही कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ रोड रेज एवं गैर इरादतन हत्या के मामले में तीन साल की सजा बरकरार रखने का समर्थन किया है। पंजाब सरकार के वकील ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि इस मामले में शामिल होने से इनकार करने वाला सिद्धू का बयान झूठा है और मामले में आरोपी के खिलाफ प्रत्‍यक्षदर्शी है, जिसपर भरोसा किया जाना चाहिए। इस बीच पीड़ित परिवार ने भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब सरकार के वकील से यह भी पूछा कि इस मामले में दूसरे आरोपी रुपिंदर सिंह सिद्धू को कैसे पहचाना गया, जबकि उसका नाम FIR में दर्ज नहीं था। आपको बता दें, वर्ष 1998 के रोड रेज के एक मामले में साल 2006 में हाईकोर्ट से सिद्धू को तीन साल की सजा मिली थी। इसके खिलाफ सिद्धू ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। इस याचिका पर सुनवाई के दौरान पंजाब सरकार के अधिवक्‍ता ने गुरुवार को कहा कि तीन साल की सजा को बरकरार रखा जाए। इस मामले की अगली सुनवाई मंगलवार को होगी। उस दौरान सिद्धू के वकील राज्य सरकार के वकील की दलीलों का जवाब देंगे। इससे पहले सिद्धू ने रोड रेज मामले को लेकर दायर एक नई याचिका का विरोध किया था। इस बीच मामले में पीड़ित पक्ष गुरनाम सिंह के परिवार ने पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की है। इस याचिका में कहा गया है कि सिद्धू को मिली तीन साल की सजा काफी नहीं है और इसे बढ़ाया जाना चाहिए। क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू ने इस याचिका को लेकर कहा कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले की सुनवाई पहले ही कर रहा है, लिहाजा इसे रेकॉर्ड पर नहीं रखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि अगर याचिकाकर्ता को याचिका दाखिल ही करनी है तो वह पहले निचली अदालत या हाई कोर्ट जाए। इससे पहले सिद्धू के खिलाफ एक नई याचिका दाखिल की गई थी। इसमें कहा गया है कि सिद्धू ने वर्ष 2010 में एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में माना था कि रोड रेज की घटना में उनकी भूमिका थी और उन्होंने यह माना था कि गुरुनाम सिंह को उन्होंने मारा था।
रोहतक हरियाणा के रोहतक में ऑटो में छेड़खानी का प्रयास कर रहे ट्रैफिक पुलिस के हवलदार की नैशनल लेवल कराटे चैंपियन ने जमकर धुनाई कर दी। ट्रैफिक हवलदार के खिलाफ यौन उत्पीड़न के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही उसके निलंबन की भी तैयारी हो रही है। रोहतक एसपी पंकज जैन ने मामले की जानकारी दी। हरियाणा की नेहा जांगरा ने पिछले साल दिसंबर में गोवा में दसवें नैशनल ओपन कराटे चैंपियनशिप 2017 में गोल्ड मेडल जीता था। गुरुवार को वह सात बजे के करीब कराटे अकैडमी की क्लास करने के बाद अपने घर जा रही थीं। घर जाने के लिए नेहा एक शेयरिंग ऑटो रिक्शा में बैठीं। अकेला पाकर परेशान करना शुरू किया इसके बाद यासीन नाम का एक पुलिसकर्मी भी ऑटो में बैठ गया। उसने नेहा को अकेला पाकर परेशान करना शुरू कर दिया। नेहा ने बताया, 'पुलिसकर्मी के रूप में अपनी ड्यूटी के लिए सजग रहने के बजाय वह मुझसे मेरा नंबर मांगने लगा। जब मैंने मना कर दिया तो उसने कहा कि वह सिर्फ दोस्ती के लिए पूछ रहा है और इसमें कुछ नहीं है।' नेहा ने आगे बताया,' यह सुनकर मुझे गुस्सा आ गया और मैंने उसे दो बार मारा और धक्का देकर ऑटो के कोने में कर दिया ताकि वह भाग न सके। जब हवलदार ने भागने की कोशिश की तो नेहा ने ऑटोरिक्शा ड्राइवर की मदद से उसे पास के वुमन पुलिस स्टेशन लेकर गई।' एसएचओ के रवैये से हैरानी नेहा ने बताया कि थाने में महिला एसएचओ ने उनसे मामले को तूल न देने को कहा लेकिन नेहा और उनके पिता ने धारा 354 के तहत मामला दर्ज करवाया। नैशनल लेवल की खिलाड़ी और उनके पिता उस वक्त स्तब्ध रह गए जब एसएचओ शिकायत लिखने के बजाय मामला सुलझाने का प्रयास करने लगीं। वह कहने लगीं कि इससे कॉन्स्टेबल का करियर और वैवाहिक जीवन प्रभावित होगा।
चंडीगढ़ पंजाब सरकार ने 2 अप्रैल को दलित संगठनों द्वारा किए गए भारत बंद के आह्वान के मद्देनजर पब्लिक ट्रांसपॉर्ट सर्विस को सस्पेंड कर दिया है। इसके साथ ही राज्य के सभी शिक्षण संस्थान भी बंद रहेंगे और इंटरनेट सेवा भी बंद रहेगी। पंजाब सरकार ने आधिकारिक बयान जारी करते हुए बताया कि एससी-एसटी ऐक्ट में संशोधन के खिलाफ कई दलित संगठनों द्वारा सोमवार को संयुक्त तौर पर किए गए 'भारत बंद' के आह्वान को देखते हुए यह फैसला किया गया है। सरकार ने सभी शैक्षणिक संस्थानों के साथ ही साथ मोबाइल इंटरनेट सर्विस पर को भी बंद रखने का निर्णय लिया है। इस दौरान पीआरटीसी, पंजाब रोडवेज़ सहित अन्य परिवहन सेवाएं भी सड़कों से नदारद दिखेंगी।
जालंधर.स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने बड़ी कार्रवाई की है। टैक्स नहीं चुकाने के आरोप में सिद्ध के दो बैंक खाते सील कर दिए गए हैं। विभाग ने उन पर अपना 52 लाख रुपए बकाया बताया है। विभाग का दावा- 52 लाख बकाया डिपार्टमेंट के अनुसार सिद्धू ने 2014-15 के इनकम टैक्स रिटर्न में कपड़ों पर 28 लाख, यात्रा पर 38 लाख से ज्यादा, फ्यूल पर करीब 18 लाख, स्टाफ की सैलरी पर 47 लाख से ज्यादा का खर्च दिखाया, लेकिन जरूरत के हिसाब से उनके बिल जमा नहीं किए थे। विभाग ने इस बारे में उन्हें कई बार नोटिस भी भेजा, लेकिन उन्होंने जवाब नहीं दिया। इस पर कार्रवाई करते हुए विभाग ने उनके दो बैंक खाते सील कर दिए हैं। खर्च तो दिखाया, लेकिन कोई बिल जमा नहीं किया इनकम टैक्स डिपार्टमेंट दिल्ली की प्रवक्ता सुरभी अहलूवालिया नेबताया कि विभाग ने यह कार्रवाई फरवरी में की थी। सिद्धू ने कई खर्च तो दिखाए, लेकिन बिल नहीं जमा कराए। वहीं, सिद्धू ने कहा वह सभी नोटिसों का जवाब दे चुके हैं। उन्होंने सभी दस्तावेज जमा करवाए हैं। उन पर एक पैसा भी बकाया नहीं है।
चंडीगढ़, पंजाब में कांग्रेस सरकार के एक साल पर रविवार को जालंधर के गुरु गोबिंद सिंह एवेन्यू में बीजेपी ने 'बजाओ ढोल-खोलो पोल' रैली का आयोजन किया. इस मौके पर पंजाब बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष विजय सांपला और वरिष्ठ नेता अविनाश राय खन्ना, संगठन मंत्री दिनेश शर्मा सहित प्रदेश के सभी बीजेपी नेता और कार्यकर्ता पहुंचे. इस रैली में शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष और जलालाबाद से विधायक सुखबीर सिंह बादल भी शामिल हुए. पंजाब में कांग्रेस के एक साल एक तरफ जहां पंजाब में कांग्रेस सरकार का कहना है कि सरकार लोगों से किए वादे पूरे कर रही है. वहीं दूसरी तरफ विपक्ष अपनी भूमिका निभाने में लगी हुई है. इसी के चलते रविवार को जालंधर में भाजपा द्वारा 'बजाओ ढोल, खोलो पोल' नाम से रैली की गई. सो रही है कांग्रेस सरकार: सुखबीर सिंह इस रैली पर पंजाब के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने ट्वीट कर कहा कि पंजाबियों की तकलीफों से बेखबर और सो रही कांग्रेस सरकार को जगाने के लिए हमें ढोल बजाना ही था. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विजय सांपला ने रैली में शामिल हुए सभी लोगों को धन्यवाद देते हुए ट्वीट किया कि पंजाब की जनता कांग्रेस की सरकार से बहुत दुखी है, इसी कारण 'बजाओ ढोल-खोलो पोल' रैली कराई गई.
नई दिल्ली दिल्ली के मुख्यमंत्री के मानहानि के एक मामले में अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया से लिखित में माफी मांगने के मामले पर आम आदमी पार्टी की पंजाब यूनिट में खासी नाराजगी है। पंजाब आप के नेता सुखपाल सिंह खैरा ने कहा कि केजरीवाल ने पार्टी से चर्चा किए बगैर यह कदम उठाया है। वहीं, पार्टी के नाराज नेता कुमार विश्वास ने भी इसे लेकर अरविंद केजरीवाल पर तंज कसा है। लंबे समय से अपनी ही पार्टी से नाराज कुमार विश्वास ने बेहद तीखा कटाक्ष करते हुए कहा, 'हम उस शख्स पर क्या थूकें जो खुद थूक कर चाटने में माहिर है!' कुमार विश्वास का ट्वीट उस समय आया जब केजरीवाल ने बिक्रम मजीठिया से लिखित में माफी मांगी। वहीं पंजाब से विधायक और विपक्ष के नेता सुखपाल सिंह खैरा ने भी ट्वीट कर कहा, 'अरविंद केजरीवाल के माफी मांगने से हम पूरी तरह स्तब्ध हैं। हमें इस बात को स्वीकार करने में कोई गुरेज नहीं है कि हमसे इस बारे में कोई चर्चा नहीं की गई।' सुखपाल सिंह के इस ट्वीट को पार्टी में उठते बागी सुर के तौर पर देखा जा रहा है। सुखपाल ने कहा, 'हम कल चंडीगढ़ में इस मामले को लेकर मीडिया से मिलेंगे और वादा करते हैं कि ड्रग्स के खिलाफ हमारी जंग जारी रहेगी।' उन्होंने कहा, 'मैं ऐसे समय में केजरीवाल की माफी का कारण भी समझ नहीं पा रहा हूं, जब पजांब एसटीएफ ने हाई कोर्ट से कहा है कि ड्रग्स के मामले में बिक्रम मजीठिया के खिलाफ उनके पास पुख्ता सबूत हैं।' वहीं पार्टी के एक अन्य विधायक कंवर संधु ने कहा, 'अगर आप सत्य के लिए खड़े होते हैं तो मानहानि के दावों का सामना करना पड़ता है। मैं अभी तक पंजाब केबल माफिया द्वारा दाखिल किए गए केस का सामना कर रहा हूं। हम अंत तक लड़ेंगे। अरविंद केजरीवाल की मजीठिया से माफी ने लोगों को शर्मिंदा किया है, खास तौर पर पंजाब के युवाओं को। पार्टी की पजांब यूनिट से इस बारे में कोई चर्चा नहीं की गई। हमारी लड़ाई जारी रहेगी।' बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अकाली दल के नेता बिक्रम मजीठिया द्वारा उनपर किए गए मानहानि केस में माफी मांग ली है। पंजाब में चुनाव प्रचार के दौरान केजरीवाल ने उन्हें ड्रग माफिया बताया था। इस संबंध में लिखित माफी अदालत में जमा कराई गई है। दरअसल, आम आदमी पार्टी (AAP) अब अपने नेताओं पर चल रहे मानहानि के सभी केस खत्म कराने की कोशिश में जुट गई है। पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान केजरीवाल सहित पार्टी के दूसरे नेताओं ने मजीठिया पर ड्रग्स व्यापार में शामिल होने का आरोप लगाया था। मजीठिया ने गुरुवार को चंडीगढ़ में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उस लिखित माफी का लेटर रिलीज किया जो केजरीवाल की तरफ से अमृतसर कोर्ट में जमा कराया गया है।
गुड़गांव गुरुग्राम के सेक्टर-15 स्थित एक निजी होटल में रविवार रात आयोजित समारोह में चार साल की बच्ची से रेप का मामला सामने आया है। बच्ची खेलते-खेलते पुरुषों के टॉइलट में चली गई थी। आरोप है कि वहां मौजूद डीजे ने बच्ची को अकेले पाकर उसका यौन उत्पीड़न किया। बाहर आकर मासूम ने पिता को बैड टच के बारे में बताया तो सचाई सामने आई। पिता की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपित को अरेस्ट कर लिया। पुलिस के अनुसार क्रॉस रोड होटल में रविवार रात एक व्यवसायी के बेटे का लगन समारोह था। पार्टी में पलवल निवासी रोहित बतौर डीजे आया था। देर रात करीब साढ़े 12 बजे रोहित टॉइलट गया था। इसी दौरान पार्टी में आई चार साल की बच्ची भी गलती से जेंट्स टॉइलट चली गई। आरोप है कि बच्ची को अकेला पाकर रोहित ने उसका यौन उत्पीड़न किया। बच्ची ने शोर मचा दिया। इसी दौरान टॉइलट में अन्य व्यक्ति आ गया। इसके बाद लोगों ने आरोपित को पकड़कर सूचना पुलिस को दी। सिविल लाइंस थाना एसएचओ नरेंद्र ने बताया कि बच्ची के पिता की शिकायत पर पॉक्सो ऐक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। आरोपित को अरेस्ट कर मैजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया। यहां से उसे न्यायिक हिरासत में भोंडसी जेल भेज दिया गया है। बैड टच की जानकारी आई काम डीजे ऑपरेटर के गंदी हरकत करने के बाद बच्ची बाथरूम से बाहर आकर सीधे पिता के पास गई। उसने पिता को बैड टच के बारे में बताया। इस पर पिता बच्ची को साथ लेकर टॉइलट गया तो आरोपित वहीं था। बच्ची ने उसे पहचान लिया। सीसीटीवी फुटेज में दिखा आरोपित पुलिस ने होटल में लगे सीसीटीवी फुटेज को भी केस में आरोपित के खिलाफ सबूत बनाया है। टॉइलट के बाहर गैलरी में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में साफ दिखाई दिया है कि बच्ची टॉइलट के अंदर से बाहर घबराई हुई सी बाहर आई। यहां बच्ची को अपना चचेरा बड़ा भाई मिला जो करीब 15 साल का है। बच्ची ने उसे कुछ नहीं बताया। बच्ची के जाने के बाद यह किशोर टॉइलट गया तो उसे अंदर डीजे ऑपरेटर युवक दिखा। तब तक अन्य लोग यहां बच्ची के साथ आ गए और ऑपरेटर को पकड़ा गया।
चंडीगढ़ खुफिया अलर्ट के बाद अंबाला में सेना ने ‘रेड अलर्ट’ घोषित कर दिया है। सैन्य क्षेत्र में प्रवेश करने वाले मार्गों पर जवानों को तैनात कर अस्थाई चौकियां भी बना दी गई है। इसके अलावा माल रोड स्थित कोर हेडक्वार्टर के आसपास के क्षेत्र को सुरक्षित किले में तब्दील कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक सेना को गत दिनों ही खुफिया अलर्ट मिला था कि अंबाला में संदिग्ध दाखिल हो सकते हैं। इसको लेकर सुरक्षा का यह पहरा बढ़ाया गया है जोकि आगामी कुछ दिनों तक जारी रहेगा। हालांकि शुक्रवार को भी सेना ने चेकिंग शुरू कर दी थी, अब शनिवार को चेकिंग का दायरा पहले से ज्यादा बढ़ा दिया गया है। इतना ही नहीं कैंटोनमेंट बोर्ड ने भी शनिवार को पब्लिक नोटिस जारी कर नागरिकों को रेट अलर्ट होने की जानकारी दी है और उनसे सुरक्षा में सहयोग का आह्वान किया है। बोर्ड ने साथ ही लोगों को यह हिदायत भी दी है कि यदि वह सैन्य इलाके में प्रवेश करें तो अपना पहचान पत्र साथ अवश्य रखें। सूत्र बताते हैं कि सेना को खुफिया इनपुट मिला था कि अंबाला में राष्ट्र विरोधी कुछ संदिग्ध दाखिल हो सकते हैं। यह इनपुट मिलने के बाद सेना अलर्ट पर आ गई। शनिवार को सेना ने मुख्य माल रोड के अलावा एलेक्जेंड्रा रोड, सेना नगर से कैंट में प्रवेश करने वाले मार्ग, कैपिटल चौक, काली पलटून पुल, आनंद मार्केट, सैन्य क्षेत्र के साथ लगते कौलां आदि क्षेत्रों में अस्थाई चौकियां बना ली है। यहां पर हथियारबंद जवानों को उपकरणों के साथ तैनात कर दिया गया है।
नई दिल्ली, पंजाब की नाभा जेल से साल 2016 में कैदियों के भागने के सनसनीखेज मामले के मुख्य आरोपी कुख्यात गैंगस्टर रमनजीत सिंह रोमी को हांग कांग में गिरफ्तार किया गया है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी इसकी पुष्टि की है और बताया कि उसे एक डकैती के सिलसिले में हांग कांग में गिरफ्तार किया गया। अधिकारी के अनुसार पंजाब पुलिस ने उसके प्रत्यर्पण की कार्रवाई शुरू करने के लिए विदेश मंत्रालय के समक्ष यह मामला उठाया है. रोमी को इससे पहले 2016 में गिरफ्तार किया गया था. उसे बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया, उसी दौरान वह हांग कांग भाग गया. रोमी के लापता होने के बाद उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था. शक इस बात का भी है कि साल 2016-17 में जालंधर और लुधियाना में हुई हत्याओं में भी उसकी भूमिका थी. पंजाब पुलिस के मुताबिक वह गैंगस्टर गुरप्रीत सिंह शेखों के संपर्क में था. गुरप्रीत उन 6 लोगों में शामिल था जो नवंबर, 2016 में नाभा जेल से भाग गये थे. गुरप्रीत इस कांड का मुख्य साजिशकर्ता था. पुलिस का कहना है कि माना जाता है कि रोमी ने जेल से भागने वालों को इस काम के लिए पैसे मुहैया कराये थे. साथ ही उसने हांग कांग में बैठकर जेल ब्रेक की पूरी साजिश रची थी. जेल से फरार हुए थे 6 कैदी बता दें कि 27 नवंबर 2016 को पटियाला की नाभा जेल से 6 कैदी फरार हो गए थे, जिनमें 2 आतंकी और 4 कुख्यात गैंगस्टर शामिल थे. जेल ब्रेक में फरार खालिस्तानी लिबरेशन फोर्स के चीफ हरमिंदर सिंह मिंटू को पुलिस ने कुछ घंटों बाद ही गिरफ्तार कर लिया था. लेकिन एक अन्य आतंकवादी कश्मीर सिंह अभी भी पुलिस पहुंच से बाहर है. इस कांड में शामिल मुख्य आरोपी गैंगस्टर विक्की गौंडर पिछले दिनों पुलिस एनकाउंटर में मारा जा चुका है.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/