taaja khabar....पोखरण में एक और कामयाबी, मिसाइल 'हेलिना' का सफल परीक्षण.....अगले 10 साल में बाढ़ से 16000 मौतें, 47000 करोड़ की बर्बादी: एनडीएमए....बड़े प्लान पर काम कर रही भारतीय फौज, जानिए क्या होंगे बदलाव...शूटर दीपक कुमार ने सिल्वर पर किया कब्जा....शेयर बाजार की तेज शुरुआत, सेंसेक्स 155 और न‍िफ्टी 41 अंक बढ़कर खुला....राम मंदिर पर बोले केशव मौर्य- संसद में लाया जा सकता है कानून...'खालिस्तान की मांग करने वालों के दस्तावेजों की हो जांच, निकाला जाए देश से बाहर'....
चंडीगढ़ रविवार को पंजाब के दौरे पर पहुंचे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने यहां मीडिया से बात करते एक बड़ा बयान दिया। पंजाब के संगरूर जिले में मीडिया से बात करते हुए केजरीवाल ने जहां 2019 में कांग्रेस से गठबंधन की संभावनाओं से इनकार किया, वहीं जल्द ही पार्टी में आंतरिक मतभेदों के खत्म हो जाने की बात भी कही। हालांकि केजरीवाल के दावे से इतर पंजाब में पार्टी की बैठक के दौरान आंतरिक गुटबाजी की झलक साफ तौर पर देखने को मिली। बता दें कि केजरीवाल रविवार को पंजाब के संगरूर में यहां के स्थानीय विधायक कुलवंत पंडोरी के पिता को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे थे। इस कार्यक्रम के दौरान ही मीडिया से बात करते हुए केजरीवाल ने यह बात दोहराई। बड़ी बात यह कि केजरीवाल के इस दौरे पर भी पंजाब में आम आदमी पार्टी की आपसी गुटबाजी सार्वजनिक रूप से देखने को मिली। कुलवंत पंडोरी के घर पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा के दौरान आम आदमी पार्टी के बागी विधायक सुखपाल सिंह खैरा और उनके गुट के विधायक भी मौजूद रहे, लेकिन इन सभी और केजरीवाल के बीच कोई संवाद नहीं हुआ। विधायक दल की बैठक से नदारद दिखे खैरा अरविंद केजरीवाल ने श्रद्धांजलि सभा के बाद मीडिया से बात करते हुए किसी विवाद की स्थिति से इनकार किया और मीडिया के सामने दावा किया कि पंजाब में पार्टी संगठन के भीतर सबकुछ जल्द ही सही कर लिया जाएगा। वहीं दूसरी ओर खैरा ने श्रद्धांजलि देने के बाद पार्टी नेतृत्व पर परोक्ष रूप से निशाना भी साधा। श्रद्धांजलि सभा के बाद केजरीवाल ने पार्टी विधायकों के साथ बैठक भी की, लेकिन पार्टी समन्वयक द्वारा मतभेद ना होने के दावे के बाद भी सुखपाल सिंह खैरा और उनके समर्थक विधायक इस बैठक से नदारद रहे।
चंडीगढ़ पाकिस्तान के सेना प्रमुख से गले मिलने पर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और विपक्ष की आलोचनाओं का सामना कर रहे क्रिकेटर से नेता बने नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को कहा कि जरूरत पड़ने पर वह सभी को करारा जवाब देने के लिए तैयार हैं। बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए गए थे, जिसके चलते उनकी खूब आलोचना हुई। इस बारे में सिद्धू ने कहा, ‘जब कभी जवाब देना होगा, मैं दूंगा और मैं यह सभी को दूंगा...यह एक करारा जवाब होगा।’ गौरतलब है कि अमरिंदर ने सिद्धू के पाकिस्तानी थलसेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से गले मिलने पर रविवार को अपने कैबिनेट सहकर्मी की आलोचना करते हुए कहा था, ‘मुझे लगता है कि पाकिस्तान सेना प्रमुख के लिए सिद्धू ने जो लगाव दिखाया यह उनके (सिद्धू के) लिए गलत था, मैं इसके पक्ष में नहीं हूं। तथ्य यह है कि उन्हें समझना चाहिए कि हमारे सैनिक रोज मारे जा रहे हैं। कुछ महीने पहले मेरी अपनी रेजिमेंट के एक मेजर और दो जवानों ने जान गंवाई।’ पाकिस्तान से लौटने पर सिद्धू ने अपने कदम का बचाव करते हुए कहा कि उन्हें क्या करना चाहिए था, जब कोई उनसे कहता है कि हम एक ही संस्कृति से हैं और ऐतिहासिक गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के लिए मार्ग खोलने की बात करता हो। इस बीच, आम आदमी पार्टी विधायक सुखपाल सिंह खैरा ने सोमवार को कहा कि सिद्धू ने कुछ गलत नहीं किया। उन्होंने कहा, ‘मैं गुरुद्वारा करतारपुर साहिब के लिए कॉरिडोर खोले जाने की मांग करता हूं। मैं भारत-पाक सीमा को भी खोलने की मांग करता हूं, जो पंजाब की अर्थव्यवस्था के लिए काफी फायदेमंद होगा। लोगों के बीच कोई दुर्भावना नहीं है, यह सरकारों के बीच लड़ाई है।’
चंडीगढ़ पंजाब की अंतरराष्ट्रीय सीमा की सुरक्षा अब स्मार्ट फेंसिंग करेगी। जबरदस्त सुरक्षा वाले इस कंप्रिहेंसिव इंटिग्रेटेड बॉर्डर मैनेजमेंट को अपनाने का फैसला बीएसएफ ने कर लिया है। इस तरह की फेंसिंग इस समय देश में जम्मू सेक्टर में अपनाई जा चुकी है। स्मार्ट फेंसिंग दरअसल इजरायल की तकनीक है। इजरायल की आधुनिक तकनीक वाली सुरक्षा व्यवस्था दुनियाभर में सबसे बढ़िया मानी जाती है। पाकिस्तान की सीमा से सटे पंजाब के लिए यह तकनीक वरदान साबित होगी क्योंकि यह सूबा आमतौर पर घुसपैठ और नशे की तस्करी की बड़ी समस्या से न केवल जूझता रहता है बल्कि सीमा पार से आतंकवादी हमलों की आशंकाएं भी बनी रहती हैं। साल 2016 में पठानकोट एयरबेस पर आतंकवादी हमला इसका एक बड़ा उदाहरण है। इसलिए पंजाब की सीमाओं को आधुनिक तकनीक से लैस करने की दरकार लंबे समय से महसूस की जा रही है। अब इसी काम को बीएसएफ अंजाम देने की तैयारी में है। जम्मू पैटर्न पर पंजाब की सीमाओं पर भी स्मार्ट फेंसिंग लगाए जाने की जानकारी बीएसएफ के डायरेक्टर जनरल केके शर्मा ने 72वें आजादी दिवस के मौके पर अटारी बार्डर पर लगे नए गेट के उद्घाटन करते हुए दी। उन्होंने माना कि बीएसएफ के सामने चुनौतियां काफी है लेकिन बीएसएफ के जवान हर परिस्थिति में देश की सुरक्षा में बड़ा योगदान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब सीमा पर सुरक्षा बंदोबस्त पूरी तरह मजबूत हैं और इसे और ज्यादा चाकचौबंद करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि पंजाब के कुल 554 किलोमीटर लंबे बार्डर पर स्मार्ट फेंसिंग लगाई जाएगी। उन्होंने बताया कि इस तरह की स्मार्ट फेंसिंग जम्मू में पांच जगहों पर लगाई जा चुकी है और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह जल्द इसका उद्घाटन करेंगे। क्या होगा खास स्मार्ट फेंसिंग इलेक्ट्रॉनिक सर्विवेंस से लैस होगी। इसमें नाइट विजन कैमरे, हैंड-हेल्ड थर्मल इमेजर्स, बैटल फील्ड सर्विलेंस राडार के अलावा डायरेक्शन फाइंडर, ग्राउंड सेंसर, हाई पावर टेलिस्कोप, सीसीटीवी कैमरे भी होंगे। यानि कोई घुसपैठिया अगर इस फेंसिंग के करीब भी आएगा तो उसकी पूरी जानकारी सेंट्रल सर्विलेंस सिस्टम को मिल जाएगी। यहां लगाए जाने वाले राडार 360 डिग्री कोण से हर गतिविधि की नजर रखेंगे। घुसपैठ की घटनाओं में आई कमी डीजी शर्मा ने सीमा पार से होने वाली घटनाओं पर दावा किया कि बीएसएफ की चौकसी के कारण तस्करी व घुसपैठ की घटनाओं में कमी आई है। भारत-पाक संबंधों के बारे में उनका कहना है कि हम हमेशा ही दोस्ती के हामी हैं लेकिन पड़ोसी की तरफ से गड़बड़ होती है और उसका मुंहतोड़ जवाब भी दिया जाता है।
नई दिल्ली, पाकिस्तान में इमरान खान की ताजपोशी में शरीक होने के लिए नवजोत सिंह सिद्धू ने वीजा के लिए आवेदन कर दिया है. अब फैसला भारत सरकार को लेना है कि उन्हें शपथ ग्रहण समारोह में जाने दिया जाए या नहीं. क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू को इमरान खान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्योता दिया है. शपथ ग्रहण समारोह 18 अगस्त को होना है. इस संबंध में सिद्धू सोमवार को दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्च आयोग गए और उन्होंने इस यात्रा को लेकर कुछ जरूरी औपचारिकताएं पूरी कीं. उन्होंने कहा, 'मैंने सरकार से अनुमति के लिए आवेदन किया है. अब सब कुछ भारत सरकार की अनुमति पर निर्भर करता है.' गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय ने माना है कि उसे सिद्धू की ओर से वीजा के लिए आवेदन किए जाने का अनुरोध पत्र प्राप्त हो गया है. उनके प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है. पाकिस्तान में क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान 18 अगस्त को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं और इस खास दिन के लिए उन्होंने कई दिग्गज हस्तियों समेत भारत के 3 पूर्व क्रिकेटरों (सुनील गावस्कर, कपिल देव और सिद्धू) और आमिर खान को निमंत्रित किया है. हालांकि गावस्कर ने व्यस्तता का हवाला देते हुए शपथ समारोह में नहीं शामिल होने की बात बता दी है. गावस्कर ने बताया कि अपनी कमेंट्री की व्यस्तता की वजह से वह इस शपथ समारोह में शामिल नहीं हो सकते. हालांकि उन्होंने भविष्य में उनसे मुलाकात की उम्मीद जताई. इमरान खान ने 1983 में वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान कपिल देव और सिद्धू को भी न्योता दिया था, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया. पाकिस्तान की नवनिर्वाचित संसद की पहली बैठक आज हो रही है जिसमें नई सरकार को सत्ता सौंपने की प्रक्रिया शुरू होगी. पाकिस्तान में गत 25 जुलाई को हुए चुनावों में इमरान खान की पार्टी पीटीआई सबसे बड़े दल के रूप में उभरी. उसे 116 सीटें मिली थीं. इसमें नौ निर्दलीय सदस्यों के शामिल होने के बाद यह संख्या बढ़कर 125 हो गई है. महिलाओं के लिए आरक्षित 60 सीटों में से 28 सीटों के साथ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ की सीटों की संख्या 158 पहुंच गई है. इसके बाद भी 342 सदस्यों के सदन में बहुमत के लिए 172 सीटें चाहिए. पीटीआई इस आंकड़े से 14 कम है, लेकिन कई छोटे दलों का उन्हें समर्थन है और स्पीकर, डिप्टी स्पीकर और प्रधानमंत्री के चुनाव में उसे कम से कम 180 सदस्यों का समर्थन मिलने की उम्मीद है.
चंडीगढ़ ऑल इंडिया ऐंटी टेररिस्‍ट फ्रंट के चेयरमैन एमएस बिट्टा ने खालिस्‍तान समर्थकों पर जनमत संग्रह 2020 के लिए हमला बोला है। बिट्टा ने कहा कि खालिस्‍तान ना कभी बना था, ना बनेगा और ना बनने देंगे। उन्‍होंने कहा कि यह देश एक है और पंजाब हमेशा से ही भारत का हिस्‍सा रहा है। यह आगे भी बना रहेगा। बिट्टा ने कहा कि इस जनमत संग्रह के पीछे पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी का हाथ है। बिट्टा ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, 'खालिस्‍तान ना कभी बना था, ना बनेगा और ना बनने देंगे। यह देश एक है। पंजाब हमेशा से ही भारत का हिस्‍सा रहा था और आगे भी बना रहेगा। पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई इसके पीछे है और इसका खुलासा हो चुका है। भारत की जनता उन्‍हें सफल नहीं होने देगी।' बता दें कि लंदन के मेयर सादिक खान ने ट्रैफलगर स्क्वेयर पर खालिस्तान समर्थक रैली को मंजूरी दे दी है। यह रैली स्थानीय समयानुसार 12 अगस्त को दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे तक होनी है। हालांकि, इसी दिन दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक भारत के समर्थन में होने जा रही रैली को मंजूरी नहीं दी गई है। TOI को लंदन मेयर के प्रवक्ता ने इस बात की जानकारी दी कि भारत समर्थक रैली को इजाजत नहीं दी गई है क्योंकि उनके पास जरूरी मंजूरी नहीं थी। खालिस्तान समर्थक रैली, लंदन डेक्लेरेशन का आयोजन अमेरिका स्थित सिख फॉर जस्टिस (SFJ) की ओर से किया जा रहा है। इस रैली का मकसद पंजाब की स्वतंत्रता के लिए 2020 में एक गैर बाध्यकारी जनमत संग्रह की मांग को लेकर जागरूकता फैलाना है। रैली को पूर्व सांसद जॉर्ज गैलोवे संबोधित करेंगे। दूसरी तरफ, भारत समर्थन में होने वाली रैली का प्रचार मुख्य तौर पर फेसबुक पर किया गया है। 'वी इंडियंस' नाम के एक समूह ने सोशल मीडिया पर दावा किया है कि वह रविवार को ट्रैफलगर स्क्वेयर पर ही भारत की आजादी की 71वीं वर्षगांठ मनाने के लिए रैली आयोजित कर रहा है। यह ग्रुप 6 महीने पहले ही बना है। हालांकि, इस समूह का कहना है कि रैली का आयोजन स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने के लिए किया जा रहा है, लेकिन समूह के संयोजक मनोज खन्ना ने कहा कि यह SFJ की रैली के विरोध में किया जा रहा है।
चंडीगढ़ : पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) के बागी नेताओं ने आज अपनी एड हॉक राजनीतिक विषयक समिति (पीएसी) की घोषणा की और कहा कि यह समिति राज्य में पार्टी संगठन को पुनर्गठित करेगी तथा प्रदेश इकाई के लिए नया अध्यक्ष चुनेगी. यह कदम बागियों द्वारा दो अगस्त में बठिंडा में की गयी बैठक के बाद उठाया गया है. बठिंडा में 'स्वयंसेवी सम्मेलन' में उन्होंने राज्य की वर्तमान पार्टी संगठन को भंग कर दिया था और आप की पंजाब इकाई के लिए स्वायत्तता की घोषणा की थी. इस एड हॉक पीएसी में आठ आमंत्रित सदस्य भी होंगे. पीएसी पार्टी संगठन की देखरेख और इसमें हर तरह की नियुक्ति भी करेगी. इसके तहत जिले, विधानसभा, ब्लॉक स्तर पर संगठन खड़ा किया जाएगा. एमएलए कंवर संधू ने कहा कि एक बार पार्टी के राज्य संगठन खड़ा हो जाने के बाद एड हॉक पीएसी और एड हॉक स्टेट एग्जेक्यूटिव को भंग कर दिया जाएगा और एक नई स्टेट एग्जेक्यूटिव का निर्माण किया जाएगा. पार्टी नेताओं के इस कदम पर संगरूर से सांसद भगवंत मान ने प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि इन नेताओं पर अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए पार्टी सोच सकती है. बागी समूह द्वारा एड हॉक कमेटी गठित करने की घोषणा करने के कुछ ही देर बाद भगवंत मान ने एमएलए मीत हेयर ने कहा कि सुखपाल सिंह खैरा ने अपने बेटे को ऐसे वॉलंटियर कार्यक्रम में लॉन्च किया जहां किसी वॉलंटियर को बोलने का मौका ही नहीं दिया गया. सांसद मान ने खैरा और कंवर संधू पर आप को कमजोर करने के लिए पार्टी स्वयंसेवियों को भावनात्मक रुप से ब्लैकमेल करने का आरोप भी लगाया. बागी समूह आप के राष्ट्रीय नेतृत्व द्वारा पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता पद से सुखपाल सिंह खैरा को हटाये जाने से खासा नाराज है. समूह ने राज्य में 20 विधायकों में से आठ का समर्थन होने का दावा किया है. बागियों ने आज प्रमुख आप सांसद भगवंत मान को भी निशाने पर लिया. इससे पहले दो अगस्त को आप के कुछ विधायकों ने खैरा के नेतृत्व में पंजाब पार्टी यूनिट को स्वतंत्र करार दिया था और वर्तमान संगठनात्मक ढ़ांचे को भंग कर दिया था.
चंडीगढ़ हरियाणा में चंडीगढ़ के एक बड़े होटेल से 27 रसूखदार व्यापारी जुआ खेलते हुए गिरफ्तार किए गए। बुधवार तड़के पुलिस ने इस होटेल पर मारा छापा, इसके बाद पिछले पांच दिनों से होटेल में रुके व्यापारियों का पता चला। ये सभी बाहर से यहां आए थे। गिरफ्तार किए गए जुआरी पंजाब के राजपुरा जीरकपुर और पंजाब के अन्य जिलों से है और इनके कई राजनेताओं से अच्छे संबंध बताए जा रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार, चंडीगढ़ के सेक्टर 17 में शिवालिक व्यू होटेल में जुए का बड़ा खेल चल रहा था। यहां रसूखदार व्यापारी हर दांव पर 20 से 40 लाख रुपये का जुआ खेल रहे थे। शिवालिक व्यू होटेल चंडीगढ़ प्रशासन के सीआईटीसीओ (सिटको) का उपक्रम है। सूत्रों के अनुसार होटेल प्रबंधन को होटेल में ठहरे व्यापारियों पर शक हुआ और उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने देर रात डीएसपी कृष्ण कुमारी की अगुवाई में छापा मारा। जुआरियों में भगदड़ सी मच गई रात में अचानक पुलिस को सामने देख रसूखदार व्यापारी जुआरियों में भगदड़ सी मच गई। पुलिस ने छापे में करीब 15 लाख रुपये कैश बरामद किया है और रकम के साथ कुछ अन्य चीजें भी बरामद कीं। आरोपियों के खिलाफ सेक्टर 17 थाने में गैंबलिंग ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। रसूखदार व्यापारी पिछले पांच दिनों से होटेल में रुके हुए थे। बताया जा रहा है कि ये लोग जुआ खेलने के लिए कमरे बुक कराते थे।
चंडीगढ़, पंजाब के राजनीतिक दलों ने पाकिस्तान की आईएसआई द्वारा समर्थित संस्था सिख फॉर जस्टिस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. पंजाब कांग्रेस, बीजेपी और सीपीआई सिख फॉर जस्टिस द्वारा 12 अगस्त को लंदन के ट्राफलगर स्क्वायर में आयोजित की जा रही लंदन डिक्लेरेशन के खिलाफ खड़े हो गए हैं. उन्होंने सिख फॉर जस्टिस संस्था पर भारत विरोधी षड्यंत्र रचने का आरोप लगाया है. सिख और जस्टिस के कर्ता-धर्ता गुर पटवन्त सिंह पनुन को आड़े हाथ लेते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उससे पूछा है कि वह बताएं कि सिख भारत के कौन से राज्य में बेहतर काम नहीं कर रहे हैं. मुख्यमंत्री ने उस पर आरोप लगाया कि वह सिखों की धार्मिक भावनाएं भड़का कर उनसे पैसा इकट्ठा कर रहा है, जिससे कुछ होने वाला नहीं है क्योंकि पंजाब के लोग शांति और विकास चाहते हैं. भाजपा ने कहा, सिखों की भावनाओं को भड़काने की कोशिश उधर भारतीय जनता पार्टी ने सिख फॉर जस्टिस को पाकिस्तान की आईएसआई का फ्रंटल ऑर्गनाइजेशन बताते हुए कहा है कि वह न केवल सिखों की भावनाओं को भड़का रहा है बल्कि रेफरेंडम के नाम पर हिंदू सिखों के भीतर वैमनस्य पैदा करने की कोशिश भी कर रहा है. भाजपा नेता विनीत जोशी ने कहा कि इससे पहले क्यूबेक और कैटेलोनिया जैसे कई देशों में रेफरेंडम की कोशिश की जा चुकी है लेकिन नतीजे शून्य रहे. उन्होंने कहा कि जब सयुंक्त राष्ट्र संघ भारत को कश्मीर के मुद्दे पर जनमत करवाने पर मजबूर नहीं कर पाया तो पंजाब के बारे में सवाल ही पैदा नहीं होता. सीपीआई ने बताया सिख फॉर वायलेंस उधर कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया ने सिख फॉर जस्टिस को सिख फॉर वायलेंस का नाम देते हुए कहा कि यह संस्था कनाडा और ब्रिटेन जैसे देशों में बैठकर भारत के विरुद्ध षड्यंत्र रच रही है जिसे सहन नहीं किया जाएगा. सीपीआई राष्ट्रीय काउंसिल के सदस्य डॉक्टर जोगेंद्र दयाल ने कहा कि पंजाब ने बहुत कुछ खोकर शांति हासिल की है जिसे इस राज्य के लोग आसानी से गंवाना नहीं चाहते, लेकिन विदेशों में बैठे कुछ लोग देश को बांटने की कोशिश कर रही है जिनको मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा. गौरतलब है कि सिख फॉर जस्टिस नामक संस्था लंदन में 12 अगस्त को लंदन डिक्लेरेशन का आयोजित कर रही है जिसके आधार पर वह रेफरेंडम 2020 करवाना चाहती है. भारत सरकार ने इस कार्यक्रम को रोकने की कोशिश की लेकिन ब्रिटेन सरकार ने इस आयोजन पर यह कहकर रोक लगाने से इंकार कर दिया कि जब तक आयोजन शांतिपूर्ण है तब तक इस पर रोक नहीं लगाई जा सकती. सूत्रों के मुताबिक सिख और जस्टिस संस्था इस कार्यक्रम के लिए बकायदा पंजाब से भर्तियां तक करती आई हैं. कुछ लोगों को मुफ्त में लंदन की हवाई यात्रा के टिकट भी दिए गए हैं.
चंडीगढ़ 2019 लोकसभा चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी (आप) की पंजाब इकाई में उथल-पुथल जारी है। नेता विपक्ष और विधायक दल के नेता पद से निलंबित सुखपाल सिंह खैरा के नेतृत्व में कुछ AAP विधायकों ने बठिंडा में गुरुवार को कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया। यहां उन्होंने कहा कि पार्टी की पंजाब इकाई के वर्तमान ढांचे को भंग कर 'स्वायत्त' किया जाएगा। यही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी की राज्य इकाई में शीर्ष नेतृत्व का दखल नहीं होगा। गुरुवार को बठिंडा में खैरा के नेतृत्व में बागी विधायकों ने कहा कि वह पार्टी में रहकर ही शीर्ष नेतृत्व की तानाशाही को चुनौती देंगे। इससे पहले इस सम्मेलन को दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और पार्टी के पंजाब मामलों के इनचार्ज मनीष सिसौदिया ने ऐंटी पार्टी घोषित किया था। दिलचस्प बात यह है कि कंवेंशन के आयोजक अपनी कानूनी टीमों के साथ काम करते दिख रहे हैं ताकि वह AAP के संविधान में बने रहकर विरोध करें। यही नहीं प्रवक्ताओं के अरविंद केजरीवाल पर जुबानी हमला बोलने के बाद भी उनकी तस्वीरें आयोजन स्थल के सभी पोस्टरों में लगाई गई थीं। स्वयंसेवक पार्टी की रीढ़ हैं' खैरा के अलावा यहां कंवर संधू, जगदेव सिंह कमलू, नजर सिंह मनसहिया, पीरमल सिंह खालसा, बलदेव सिंह और जगतर सिंह जग्गा हिस्सोवाल भी शामिल हुए थे। खैरा ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, 'अगर केंद्रीय नेतृत्व को ऐसा लगता है कि वॉलनटिअर्स को इकट्ठा करके जो कि पार्टी की रीढ़ हैं, वह एक पार्टी विरोधी कार्य है तो हम इस तरह की ऐक्टिविटी से नहीं डरते हैं। हमें केवल स्वयंसेवकों की चिंता है जिन्होंने इस पार्टी के लिए पसीना बहाया है। आज हमने पंजाब इकाई को पार्टी से अलग करने और इसे केंद्रीय नेतृत्व के दखलअंदाजी से दूर करने के लिए एक आंदोलन चलाया है।' 'फैसला खुद लेंगे, जानकारी केंद्र ने्तृत्व को देंगे' इसके बाद संधू ने कहा, '2017 विधानसभा चुनाव में टिकटों के गलत बंटवारे की वजह से हमें 50 सीटों पर नुकसान हुआ था। टिकटों के बंटवारे में पैसा भी लगने लगा लेकिन हमें इसके खिलाफ आवाज उठाने से रोका गया जिसका खामियाजा पार्टी को भुगतना पड़ा।' बागी विधायकों ने कहा कि अबसे वह अपने फैसले खुद लेंगे और शीर्ष नेतृत्व को उनकी जानकारी दे देंगे। खैरा के समर्थकों ने कहा कि आम आदमी पार्टी को केवल केजरीवाल के जरिए ही नहीं जानना चाहिए बल्कि पार्टी में स्वयंसेवकों को प्राथमिकता देनी चाहिए। विधायकों ने कहा कि अगर केजरीवाल दिल्ली में केंद्र सरकार से स्वायत्त की मांग करते हैं तो उन्हें वैसे ही आजादी पार्टी की पंजाब यूनिट को भी देनी चाहिए। नाराज विधायकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं चाहते केजरीवाल! बता दें कि नेता विपक्ष के पद से सुखपाल सिंह खैरा को हटाने के फैसले के बाद से विवाद शुरू हुआ। उनकी जगह हरपाल सिंह चीमा की नियुक्ति हुई। हालांकि बठिंडा में हुए कंवेंशन में नेताओं ने चीमा की नियुक्ति को स्वीकार न करते हुए एक हफ्ते के अंदर मीटिंग बुलाने की मांग जहां नेता प्रतिपक्ष चुना जाएगा। दिल्ली के बाद पंजाब ही एकमात्र ऐसी जगह है जहां पार्टी विधानसभा में मौजूद है। ऐसे में नाराज विधायकों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए खुद अरविंद केजरीवाल भी इच्छुक नहीं हैं। उन्होंने बठिंडा में कंवेंशन के दौरान ही दिल्ली में 11 विधायकों के साथ अलग मीटिंग की। उन्होंने यह भी कहा कि वह स्वयंसेवकों से मिलने पंजाब जाएंगे।
सिरसा : घग्घर नदी में जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। हालांकि किसी प्रकार का कोई खतरा यहां नहीं है। 25000 क्यूसेक की क्षमता के मुकाबले आज मध्यरात्रि तक 14000 क्यूसेक पानी घग्घर में पहुंच जाएगा। शाम तक घग्घर में पानी 3600 क्यूसेक के करीब चल रहा था। लेकिन गुहला चीका में 14000 क्यूसिक पानी पहुंचा है। जो मध्यरात्रि के बाद सिरसा पहुंच जाएगा। इस पानी को ओटू वीयर में पहुंचते ही सिरसा जिला की घग्घर से जुड़ी नहरों में छोड़ा जाएगा ताकि किसानों को इसका लाभ मिल सके। यमुना उफान पर है और हथिनी कुंड बैराज में पानी के बढ़ते जलस्तर से हरियाणा ही नहीं बल्कि साथ लगती दिल्ली के गांवों में भी दहशत है,वहां बाढ़ आने का खतरा मंडरा रहा है। इधर सिरसा क्षेत्र में हालात अभी सामान्य है और लोग पानी को तरस रहे हैं। बरसात अच्छी हो रही है, किसान खुश है। अगर घग्घर का जलस्तर बढ़ता भी है तो कोई खतरे की बात नहीं है बल्कि यह पानी किसानों के लिए खुशहाली की सौगात ही लेकर आएगा।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/