taaja khabar....राफेल डील पर नई रिपोर्ट का दावा, नियमों के तहत रिलायंस को मिला ठेका.....सीबीआई को पहली कामयाबी, भारत लाया गया विदेश भागा भगोड़ा मोहम्मद याह्या.....राजस्थान विधानसभा चुनाव की बाजी पलट कर लोकसभा के लिए बढ़त की तैयारी में BJP.......GST के बाद एक और बड़े सुधार की ओर सरकार, पूरे देश में समान स्टैंप ड्यूटी के लिए बदलेगी कानून....UNHRC में भारत की बड़ी जीत, सुषमा स्वराज ने जताई खुशी....PM मोदी के लिखे गाने पर दृष्टिबाधित लड़कियों ने किया गरबा.....मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस के साथ नहीं एसपी-बीएसपी, बीजेपी को हो सकता है फायदा....गुरुग्रामः जज की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी ने उनकी पत्नी, बेटे को बीच सड़क गोली मारी, अरेस्ट....बेंगलुरु में HAL कर्मचारियों से मिले राहुल गांधी, बोले- राफेल आपका अधिकार....कैलाश गहलोत के घर से टैक्स चोरी के सबूत मिलेः आईटी विभाग.....मेरे लिए पाकिस्तान की यात्रा दक्षिण भारत की यात्रा से बेहतर: सिद्धू....घायल रहते 2 उग्रावादियों को किया ढेर, शहादत के बाद इंस्पेक्टर को मिलेगा कीर्ति चक्र....छत्तीसगढ़: कांग्रेस को तगड़ा झटका, रामदयाल उइके BJP में शामिल....
नई दिल्ली पूरे देश में विजयादशमी का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है। शुक्रवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किला मैदान पर तीर चलाकर रावण का पुतला दहन किया। पुतला दहन से पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने संबोधन में कहा कि समाज के प्रत्येक वर्ग खासकर कमजोर समुदायों के लोगों को सम्मान देना तथा उनके लिए काम करना जितना राम के जीवन काल में प्रासंगिक था उतना आज भी है। उन्होंने आगे कहा कि बुराई पर अच्छाई और असत्य पर सत्य की जीत के रूप में यह विजयादशमी का त्योहार मानव मूल्यों एवं आदर्शों की उत्कृष्टता का प्रतीक है। यह एक ऐसा पर्व है जो समाज में सच्चाई व नैतिकता तथा मर्यादापूर्ण व्यवहार को अपनाने की प्रेरणा देता है। उन्होंने कहा कि लंकेश रावण जैसा विद्वान एवं वैभव से परिपूर्ण एक राजा के अमानवीय तथा अनैतिक कार्यों की वजह से उसका पुतला दहन किया जाता है।राष्ट्रपति ने देशवासियों को विजयादशमी की बधाई दी। केवट, सबरी का जिक्र राष्ट्रपति ने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम का आदर्श जीवन पूरे मानव समाज के लिए विजयादशमी का मुख्य संदेश है। उन्होंने कहा कि राम-केवट मिलन या गरीब आदिवासी महिला सबरी के बेर खाना ऐसे उदाहरण हैं जो समाज में संवेदनशीलता और सद्भावना जैसे मूल्यों को अनुकरणीय बनाते हैं। कोविंद ने कहा कि अनुशासित जीवनशैली हम सब को जिम्मेदारियों का बोध कराती है। राम कथा की शिक्षाएं जीवन में प्रासंगिक और उपयोगी हैं। उन्होंने कहा कि देश के समक्ष कई चुनौतियां है। इसका निराकरण धैर्य और साहस के साथ करने की जरूरत है। प्रदूषण और स्वच्छता की सीख राष्ट्रपति ने दूसरे समुदायों के त्योहारों के शुरू होने का जिक्र करते हुए कहा कि हमें वायु और ध्वनि प्रदूषण को नियंत्रित कर स्वच्छता बनाए रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनसमूह और प्रकृति के सामंजस्य के साथ प्रभु राम ने लंकापति रावण पर विजय प्राप्त की थी। आइए हम सब रावण के पुतले के साथ अहंकार, आतंकवाद और अन्य बुराइयों का भी दहन करें। दिल्ली में लव-कुश रामलीला के इस आयोजन में कई जानेमाने लोग शामिल हुए
चंडीगढ़ पंजाब के अमृतसर में एक बड़े ट्रेन हादसे में 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। यह हादसा अमृतसर और मनावला के बीच फाटक नंबर 27 के पास हुआ है। यह हादसा जिस वक्त हुआ उस समय वहां रावण दहन देखने के लिए लोगों की भीड़ जुटी हुई थी। इसी दौरान डीएमयू ट्रेन नंबर 74943 वहां से गुजर रही थी। रावण दहन के वक्त पटाखों की तेज आवाज के कारण ट्रेन का हॉर्न लोगों को नहीं सुनाई पड़ा। इसकी वजह से यह हादसा हो गया। घटना के बाद पंजाब सरकार की ओर से मृतकों के परिजनों के लिए पांच-पांच लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया गया है। पिछले कई वर्षों से यहां दशहरे के अवसर पर रावण दहन का आयोजन किया जाता था। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, इस साल भी यहां रावण दहन का आयोजन किया गया था। दहन के दौरान पटाखों की आवाज तेज होने की वजह से वहां मौजूद लोग ट्रेन के हॉर्न की आवाज नहीं सुन पाए और यह घटना हो गई। घटना के बाद पुलिस, जीआरपी की टीमें मौके पर पहुंच गई हैं। इसी के साथ ही घटना स्थल पर स्थानीय लोगों की मदद से बचाव कार्य चलाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने बचाव कार्य के दिए निर्देश पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, 'अमृतसर में हुए इस हादसे के बारे में जानकर स्तब्ध हूं। सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में मदद मुहैया कराने का निर्देश दे दिया है। जिला प्रशासन को युद्धस्तर पर राहत एवं बचाव कार्य चलाने को कहा है।' बता दें कि इस हादसे के बाद कैप्टन अमरिंदर ने अपना इजरायल दौरा रद्द कर दिया है। मुख्यमंत्री शनिवार को अमृतसर पहुंचेंगे। पंजाब सरकार ने मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये मुआवजे का ऐलान किया है। जानिए, क्या बोले प्रत्यक्षदर्शी प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है, 'प्रशासन और दशहरा कमिटी की गलती है। उन्हें ट्रेन के बारे में सूचित करना चाहिए था। उन्हें यह भी तय करना चाहिए था कि यहां पर ट्रेन या तो ठहरे या धीमी हो।' नजदीकी अस्पताल में भेजे जा रहे हैं लोग रावण दहन के वक्त जोड़ा फाटक के पास अचानक भगदड़ मच गई, जिसकी वजह से कई लोग ट्रैक की तरफ दौड़ने लगे इसी दौरान पठानकोट से अमृतसर की ओर आ रही ट्रेन की चपेट में आने की वजह से कई लोगों की मौत हो गई। इस घटना में घायल हुए लोगों को आनन-फानन में नजदीकी अस्पताल में भेजा गया है। तेज रफ्तार ट्रेन की चपेट में आए लोग मामले में एनबीटी ऑनलाइन से बातचीत में जीआरपी एसएचओ बलवीर सिंह ने बताया, 'अभी मृतकों की संख्या का कुल पता नहीं चल पाया है। हम अभी राहत कार्य में जुटे हुए हैं। कुछ देर बाद पूरी तस्वीर साफ हो पाएगी।' एक प्रत्यक्षदर्शी का कहना है, 'ट्रेन काफी रफ्तार से आ रही थी। इसी दौरान कई लोग ट्रेन की चपेट में आ गए।'
नई दिल्ली, 19 अक्टूबर 2018,महाराष्ट्र के शिरडी में स्थित साईं मंदिर में पूजा करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैली को संबोधित किया. प्रधानमंत्री ने यहां किसानों के लिए बड़ी राहत का भी ऐलान किया. PM ने यहां कहा कि मेरी जानकारी में है कि राज्य के एक हिस्से पर वरुण देव की कृपा कुछ कम हुई है. प्रधानमंत्री बोले कि मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के माध्यम से तो आपको जल्द से जल्द राहत मिलेगी ही, इसके अतिरिक्त भी महाराष्ट्र सरकार जो कदम उठाएगी उसमें केंद्र पूरा सहयोग करेगा. मोदी ने किसानों को राहत देते हुए कहा कि पानी के इसी संकट से देश के किसानों को निकालने के लिए, सरकार प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत बरसों से अटकी हुई परियोजनाओं को पूरा करने का काम कर रही है. इसके तहत महाराष्ट्र में भी अनेक बड़े प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है. उन्होंने कहा कि फसल अधिक भी हो और उसका उचित दाम भी मिले, इसके लिए भी निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं. ये हमारी ही सरकार है जिसने MSP को लेकर किसानों की बरसों पुरानी मांग को पूरा किया है. PM बोले कि सरकार ने गन्ने समेत खरीफ और रबी की 21 फसलों के समर्थन मूल्य में लागत के ऊपर 50 प्रतिशत का लाभ तय किया है. 14 जिलों में है संकट आपको बता दें कि इस बार महाराष्ट्र के विदर्भ इलाके में बारिश कम हुई है, जिसके कारण कई क्षेत्रों में सूखे जैसे हालात हैं. कई इलाकों में पानी की भारी किल्लत हैं, जिसकी वजह से किसान परेशान हैं. कम बारिश के कारण ही इस इलाके में मौजूद बांधों का जलस्तर भी घट गया है. सूखे का असर महाराष्ट्र के करीब 14 जिलों में पड़ा है. आपको बता दें कि रैली के दौरान प्रधानमंत्री ने गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घरों की चाभी सौंपी. इसके अलावा शिरडी के साईं मंदिर से जुड़े कई प्रोडेक्ट्स की नींव रखी. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने यहां नए भवन, 159 करोड़ रुपये की लागत से विशाल शैक्षणिक भवन, ताराघर, मोम संग्रहालय, साईं उद्यान और थीम पार्क समेत प्रमुख परियोजनाओं का भूमिपूजन किया.
अहमदनगर/शिरडी साईं समाधि के सौ वर्ष पूरे होने पर शिरडी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबों के घर के बहाने कांग्रेस पार्टी पर तीखा हमला बोला। उन्‍होंने कहा कि उनकी सरकार ने चार साल में गरीब को झुग्गी से निकालकर घर देने का काम किया है जबकि पहले इस तरह के प्रयास का उद्देश्‍य एक विशेष परिवार के नाम का प्रचार करना अधिक होता था। इस दौरान पीएम मोदी ने एनडीए सरकार की उपलब्धियां भी गिनाईं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साईं मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद यहां नए भवन, 159 करोड़ रुपये की लागत से विशाल शैक्षणिक भवन, प्लेनेटोरियम, वैक्स म्यूजियम, साईं उद्यान और थीम पार्क समेत अन्य प्रमुख परियोजनाओं का लोकार्पण करने के साथ ही भूमिपूजन भी किया। संबोधन में पीएम ने कहा कि साईं धाम आकर जनसेवा की प्रेरणा व उत्साह मिलता है। कांग्रेस को घेरते हुए पीएम ने कहा कि पहले एक परिवार के प्रचार के लिए घर बनते थे। पीएम ने ओम साईंनाथ से अपने संबोधन की शुरुआत की। उन्होंने देशवासियों को विजयादशमी की बधाई देते हुए कहा, 'जैसे सब अपनों के साथ त्योहार मनाना चाहते हैं, वैसे ही मेरा प्रयास रहता है कि हर त्यौहार देशवासियों के बीच जाकर मनाऊं। आपका अपनत्व ही मेरी सामर्थ्य है और आपका प्यार मुझे शक्ति देता है।' प्रधानमंत्री ने कहा, 'थोड़ी देर पहले मैंने साईं बाबा के दर्शन किए और आशीर्वाद मिला। मैं जब भी उनके दर्शन करता हूं, जनसेवा की भावना और इसके लिए खुद को समर्पित करने का उत्साह मिलता है।' उन्होंने कहा, 'शिरडी तात्या पाटील, माधवराव देशपांडे और तुकाराम जैसे महापुरुषों की धरती है और मैं इन्हें नमन करता हूं।' ढाई लाख परिवारों को घर का तोहफा साईं महिमा पर पीएम ने कहा, 'सबका मालिक एक है, साईं के ये चार शब्द समाज को एक करने का सूत्र वाक्य बन गए हैं, साईं समाज के थे और समाज साईं का था।' पीएम मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने गरीबों के कल्याण के लिए कई योजनाओं का आज पावन जगह से शिलान्यास किया, इसके लिए राज्य सरकार बधाई की पात्र है। पीएम ने यहां लॉन्च हुईं योजनाओं को लेकर कहा कि इस दशहरा साईं बाबा ट्रस्ट की ओर से मिले ये अनेक तोहफे हैं। उन्होंने कहा, 'मैं खुश हूं कि मुझे राज्य के करीब ढाई लाख भाई-बहनों को उनका घर सौंपने का अवसर मिला है। एकसाथ गृहप्रवेश कराने जैसी गरीब भाई-बहनों की सेवा से बढ़कर दशहरे की पूजा और क्या हो सकता है।' योजनाओं को लेकर कांग्रेस पर निशाना आवास योजना को लेकर पीएम ने कहा, 'बीते चार साल में गरीब को झुग्गी से निकालकर घर देने का काम किया गया है। पहले भी कोशिशें हुईं लेकिन उन कोशिशों का लक्ष्य घर देने के बजाय एक विशेष परिवार का प्रचार करना था।' कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जब किसी योजना में राजनीतिक स्वार्थ के बजाय सिर्फ गरीब का कल्याण होता है तो काम की गति कैसे बढ़ती है, यह सामने है। पीएम ने कहा, 'पिछली सरकार ने चार साल में 25 लाख घर बनाए थे और हमने अपने चार साल में एक करोड़ 25 लाख घर बनाए हैं। इतने के लिए उन्हें 20 साल लग जाते और आपको इंतजार करना पड़ता।' उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य 2022 तक घर व्यक्ति को उसका पक्का घर देने का है और अगर नीयत साफ हो, भावना अच्छी हो, तो उन्हीं संसाधनों और उन्हीं लोगों के साथ काम तेज गति से होता है।
नई दिल्ली, 18 अक्टूबर 2018, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे एनडी तिवारी का निधन हो गया है. उन्होंने दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली. एनडी तिवारी का निधन उनके जन्मदिन के दिन हुआ है. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एनडी तिवारी के निधन पर शोक जताया है. उन्होंने ट्वीट किया, 'उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री पंडित नारायण दत्त तिवारी के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त करता हूं. ईश्वर से उनकी दिवंगत आत्मा की शांति व परिजनों को दुःख सहने की प्रार्थना करता हूं.' रावत ने कहा, 'एनडी तिवारी का जाना मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है. विरोधी दल में होने के बावजूद उन्होंने दलगत राजनीति से ऊपर रहकर सदैव अपना स्नेह बनाए रखा. तिवारी के जाने से भारत की राजनीति में जो शून्य उभरा है, उसकी भरपाई कर पाना मुश्किल है. तिवारी देश के वित्तमंत्री, उद्योग मंत्री और विदेश मंत्री जैसी अहम जिम्मेदारियां निभा चुके हैं.' सीएम रावत ने कहा, 'उत्तराखंड तिवारी के योगदान को कभी नहीं भुला पाएगा. नवोदित राज्य उत्तराखंड को आर्थिक और औद्योगिक विकास की रफ़्तार से अपने पैरों पर खड़ा करने में तिवारी ने अहम भूमिका निभाई.' इसके अलावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी नारायण दत्त तिवारी के निधन पर शोक जताया है. यूपी सीएमओ ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के निधन पर शोक व्यक्त किया है. सीएम योगी ने नारायण दत्त तिवारी के शोक संतप्त परिजनों के प्रति भी संवेदना व्यक्त की है. हाल ही में कांग्रेस नेता नारायण दत्त तिवारी को तबीयत बिगड़ने के बाद दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी ने खुद ट्वीट कर अपने पिता एनडी तिवारी की हालत गंभीर होने की बात कही थी. यूपी-उत्तराखंड के रहे सीएम एनडी तिवारी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे हैं. बतौर यूपी सीएम उन्होंने साल 1976-77, 1984-85 और 1988-89 तक तीन बार गद्दी संभाली. इसके बाद 2002 से 2007 तक उन्होंने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के तौर पर पांच साल का कार्यकाल पूरा किया. एनडी तिवारी केंद्र सरकार में भी मंत्री रहे हैं. साल 1986-87 तक वो राजीव गांधी कैबिनेट में विदेश मंत्री रहे. साथ ही साल 2007 से 2009 तक वो आंध्र प्रदेश के राज्यपाल भी रहे.
नई दिल्ली, मध्य प्रदेश में बीजेपी के 15 साल के शासन को कांग्रेस की तरफ से मिल रही चुनौती का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को माखौल उड़ाते हुए कहा कि कांग्रेस में मुख्यमंत्री पद के तीन उम्मीदवार हैं, जो एक-दूसरे की टांग खीचते रहते हैं, उनके पास राज्य के लिए कोई सोच नहीं है. दरअसल प्रधानमंत्री मोदी बीजेपी के 'मेरा बूथ, सबसे मजबूत' अभियान के तहत होशंगाबाद, चत्रा, पाली, गाजीपुर और उत्तरी मुंबई के बीजेपी बूथ कार्यकर्ताओं को नमो ऐप के जरिए संबोधित कर रहे थे. इस दौरा उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस के 3-3 सीएम उम्मीदवार हैं और एक दर्जन से ज्यादा लाइन में है. कांग्रेस के पास विकास की ना तो नीति है और ना ही नीयत. ये बस एक दूसरे की टांग खींचते रहते हैं. पीएम मोदी ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान सरकार मे मध्य प्रदेश को 'बीमारू' से 'बेमिसाल' राज्य में बदल दिया. लेकिन कांग्रेस के नेता इस उपलब्धि को नीचा दिखाने के लिए पाकिस्तान और बांग्लादेश की तस्वीरों का इस्तेमाल कर रहे हैं और फर्जी खबरों का सहारा भी ले रहे हैं. बता दें कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ ने सोमवार को एक फोटो ट्वीट की जिसमें राज्य की सड़कों को खराब बताते हुए उन्होंने बीजेपी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ के ट्वीट पर जवाब हेते हुए ट्वीट किया कि हमारे कांग्रेसी मित्रों का क्या कहना...पहले दिग्विजय जी पाकिस्तान के पुल को भोपाल ले आए और अब कमलनाथ जी बांग्लादेश की सड़क को मध्य प्रदेश ले आए. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पास इस चुनावी राज्य में कोई मुद्दा नहीं है और सत्तारूढ़ प्रदेश सरकार द्वारा किये गए चौमुखी विकास कार्यों से वह हताश हो गई है. पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने एक टीवी कार्यक्रम में देखा कि राज्य के सागर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाली और पहली बार मतदाता बनी लड़कियों में से 90 फीसदी ने भाजपा का समर्थन किया.
नई दिल्ली, 17 अक्टूबर 2018, #MeToo के लपेटे में आए एमजे अकबर ने विदेश राज्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. उनके ऊपर अब तक 20 महिला पत्रकारों ने #MeToo अभियान के तहत आरोप लगाए हैं. अकबर पर पहला आरोप वरिष्ठ पत्रकार प्रिया रमानी ने लगाया था, जिसमें उन्होंने एक होटल के कमरे में इंटरव्यू के दौरान की अपनी कहानी बयां की थी. रमानी के आरोपों के बाद अकबर के खिलाफ आरोपों की बाढ़ आ गई और एक के बाद एक कई अन्य महिला पत्रकारों ने उन पर संगीन आरोप लगाए. अकबर पर ताजा आरोप एक विदेशी महिला पत्रकार ने लगाया कि 2007 में जब वो इंटर्नशिप के लिए आईं तो वो सिर्फ 18 साल की थीं और उनके साथ एमजे अकबर ने गलत हरकत करने की कोशिश की. यह पहली बार है, जब मोदी सरकार के किसी मंत्री ने किसी विवाद में घिरने के बाद अपने पद से इस्तीफा दिया है. इस्तीफे से पहले अजीत डोभाल ने उनसे मुलाकात की थी और फिर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को इसकी रिपोर्ट दी थी. हालांकि एमजे अकबर ने अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से खारिज किया है. उनका कहना है कि वो अपनी लड़ाई कोर्ट में लड़ेंगे. एमजे अकबर के इस्तीफे के बाद प्रिया रमानी ने कहा, 'अकबर के इस्तीफे से हम महिलाएं खुद को दोषमुक्त महसूस कर रही हैं. मुझे उस दिन का इंतजार है, जब कोर्ट में मुझे न्याय भी मिलेगा.' अकबर के इस्तीफे को लेकर बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने भी ट्वीट किया. पूरा मामला क्या है? दरअसल, विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर कई अखबारों के संपादक रहे हैं. उनके ऊपर अब तक कई महिला पत्रकारों ने #MeToo कैंपेन के तहत आरोप लगाए हैं. अकबर पर पहला आरोप प्रिया रमानी नाम की वरिष्ठ पत्रकार ने लगाया था जिसमें उन्होंने एक होटल के कमरे में इंटरव्यू के दौरान की अपनी कहानी बयां की थी. रमानी के आरोपों के बाद अकबर के खिलाफ आरोपों की बाढ़ आ गई और एक के बाद एक कई अन्य महिला पत्रकारों ने उन पर संगीन आरोप लगा रही हैं. जिसके कारण सोशल मीडिया और विपक्ष की ओर से लगातार उनके इस्तीफे की मांग उठ रही है.
नई दिल्ली, आर्थिक अपराधियों पर नकेल कसने की दिशा में भारत को बड़ी सफलता हाथ लगी है. बैंक धोखाधड़ी के 7 मामलों में भगोड़ा कारोबारी विनय मित्तल का इंडोनेशिया से भारत प्रत्यर्पण किया गया है. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. मित्तल का नाम प्रमुख भगोड़े आर्थिक अपराधियों की सरकारी लिस्ट में शामिल है. इसमें विजय माल्या, नितिन संदेसारा, नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और जतिन मेहता सरीखे भगोड़े आर्थिक अपराधियों के नाम भी हैं. सीबीआई ने कॉरपोरेशन बैंक और पंजाब नेशनल बैंक के आग्रह पर 2014 और 2016 में मित्तल के खिलाफ मामले दर्ज किए थे. अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई ने दिल्ली और गाजियाबाद की अदालतों में मित्तल के खिलाफ सात आरोपपत्र दाखिल किए थे, इसके बाद मित्तल देश छोड़कर भाग गया था. उन्होंने बताया कि अदालत ने मित्तल को भगोड़ा घोषित कर दिया. एजेंसी उसके खिलाफ एक रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर चुकी है. अधिकारियों ने बताया कि गहन खोज के बाद मित्तल इंडोनेशिया के बाली में अपने परिवार के साथ मिला. उन्होंने बताया कि इंडोनेशियाई प्रशासन ने रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर मित्तल को जनवरी 2017 में गिरफ्तार किया था. अधिकारियों ने बताया कि हाल में इंडोनेशियाई राष्ट्रपति ने उद्योगपति के भारत प्रत्यर्पण को मंजूरी दी. इसके बाद, उसे इस माह भारत भेज दिया गया. भारत पहुंचने के बाद मित्तल को गिरफ्तार कर लिया गया और न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. उसके प्रत्यर्पण के बाद सीबीआई ने 46 लाख रुपये की बैंक धोखाधड़ी के मामले में बहरीन से मोहम्मद यह्या के प्रत्यर्पण में कामयाबी मिली. हालांकि नीरव मोदी और विजय माल्या जैसे बड़े आर्थिक अपराधी अब भी भारत की पहुंच से बाहर हैं.
नई दिल्ली, 17 अक्टूबर 2018,मीटू के खिलाफ चल रहे देशव्यापी आंदोलन के बीच केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने ऐसे मामलों की जांच के लिए एक कमेटी गठित करने का ऐलान किया था, लेकिन अब इसमें बदलाव किया गया है. महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि सरकार ऐसे मामलों की जांच के लिए अब मंत्रियों का एक समूह बनाने पर विचार कर रही है. यह समूह ही #MeToo कैंपेन से जुड़ी शिकायतों पर हर पहलू से संज्ञान लेगा. देश भर में #MeToo कैंपेन के तहत आ रहीं यौन शोषण की शिकायतों के बीच महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने एक हफ्ता पहले ही ऐसे मामलों की जांच करने के लिए एक कमेटी गठित करने का ऐलान किया था. बताया गया था कि रिटायर्ड जज की अगुवाई में विधि विशेषज्ञों की एक कमेटी ऐसे सभी मामलों की जांच करेगी. लेकिन मेनका के मंत्रालय के इस प्रस्ताव में बदलाव किया गया है और अब इसकी जगह मंत्रियों का समूह (GoM) बनाने पर विचार किया जा रहा है, जो मीटू से जुड़े मामलों की पड़ताल करेगा. सूत्रों के मुताबिक इस मंत्री समूह की अध्यक्षता वरिष्ठ महिला मंत्री करेंगी. जो मीटू अभियान में उठे सवालों और कार्यस्थल पर महिलाओं के उत्पीड़न रोकने के लिए बने कानून-नियमों की कमियों को दूर करने के उपाय तलाशेंगी. बता दें कि दुनियाभर में चल रहा कैंपेन भारत में काफी जोर पकड़ रहा है. सबसे पहले बॉलीवुड अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता नाना पाटेकर के खिलाफ आवाज उठाई थी. उन्होंने बाकायदा पुलिस में भी 10 साल पुरानी एक घटना के संबंध में शिकायत दर्ज कराई है. इस मामले के बाद बॉलीवुड के और लोगों के खिलाफ महिलाओं ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए. यहां तक कि इस कैंपेन की आंच मोदी कैबिनेट तक भी पहुंच गई, जब कुछ पत्रकारों ने केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर के खिलाफ यौन उत्पीड़न और अश्लील हरकत करने जैसे गंभीर आरोप लगाए. अब जबकि एमजे अकबर पर इस्तीफे का दबाव बनाया जा रहा है, वैसे में इन मामलों की जांच के लिए जो कमेटी गठित करने की बात कही गई थी, उसी को झटका लग गया है.
नई दिल्ली भारत के ताकतवर मिसाइल सिस्टम ब्रह्मोस के सीक्रेट जान पाने में विफल होने के बाद अब पाकिस्तान दूसरे तरीके से भारत की बराबरी करना चाहता है। अब वह चीन से ऐसी मिसाइल खरीदने में दिलचस्पी दिखा रहा है जो ब्रह्मोस से ज्यादा तेज बताई जा रही है। ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने एक सुपरसॉनिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया है, जिसे पाकिस्तान ने खरीदने की इच्छा जताई है। रिपोर्ट के मुताबिक, पाक के साथ-साथ कई मध्य एशियाई देशों ने भी इसमें रुचि दिखाई है। मिसाइल सिस्टम की तारीफ में पेइचिंग के एक मिलिट्री ऐनालिस्ट से जुड़े वेई डोंगजू ने कहा कि ब्रह्मोस मिसाइल इसके मुकाबले ज्यादा महंगी और कम उपयोगी है। बता दें कि ब्रह्मोस को भारत ने रूस के साथ मिलकर तैयार किया है। पाकिस्तान द्वारा नई मिसाइल के लिए चीन का रुख करने की एक और वजह भी है। दरअसल, ब्रह्मोस मिसाइल बनानेवाली कंपनी वह मिसाइल सबको देती नहीं है। इसी साल फरवरी में ब्रह्मोस के बारे में एक प्रवक्ता ने कहा था, 'सिर्फ जिम्मेदारी समझनेवाले देशों को यह बेची जाती है। साथ ही उसके भारत और रूस के साथ दोस्ताना संबंध भी होने चाहिए।' बता दें कि चीन ने इस मिसाइल को वहां की हॉन्गडा कंपनी ने बनाया है। इस सुपरसॉनिक मिसाइल को एचडी-1 नाम दिया गया है। इसे नवंबर में होनेवाले चीन के एयर शो 2018 में दिखाया जाएगा। वेई डोंगजू के मुताबिक, इसमें कम ईंधन की खपत होती है और यह हल्की होने की वजह से तेजी से उड़ती है। ऐसी सुपरसॉनिक मिसाइल काफी कम है। भारत ने जुलाई 2018 में ही सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण किया था।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/