taaja khabar....पोखरण में एक और कामयाबी, मिसाइल 'हेलिना' का सफल परीक्षण.....अगले 10 साल में बाढ़ से 16000 मौतें, 47000 करोड़ की बर्बादी: एनडीएमए....बड़े प्लान पर काम कर रही भारतीय फौज, जानिए क्या होंगे बदलाव...शूटर दीपक कुमार ने सिल्वर पर किया कब्जा....शेयर बाजार की तेज शुरुआत, सेंसेक्स 155 और न‍िफ्टी 41 अंक बढ़कर खुला....राम मंदिर पर बोले केशव मौर्य- संसद में लाया जा सकता है कानून...'खालिस्तान की मांग करने वालों के दस्तावेजों की हो जांच, निकाला जाए देश से बाहर'....
जयपुर राजस्थान के सीकर जिले के फतेहपुर कस्बे में डीजे बजाने को लेकर दो समुदायों के लोग भिड़ गए। पुलिस ने पथराव कर रहे लोगों को खदेड़ने के लिए हल्का बल प्रयोग किया और हवा में गोली चलाई। एहतियात के तौर पर कस्बे में निषेधाज्ञा लगाई गई है और हालात नियंत्रण में बताए जा रहे हैं। पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा ने मीडिया को बताया कि रविवार शाम कांवड़ यात्रा के दौरान कुछ लोगों का डीजे बंद करवाने को लेकर कांवड़ियों से विवाद हो गया। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर एक समुदाय के तीन युवाओं को गिरफ्तार कर लिया था। उन्होंने बताया कि सोमवार सुबह कस्बे के कुछ लोग मंदिर के बाहर एकत्रित हो गए और धरने पर बैठ गए। उत्तेजित लोगों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने हल्का बल का प्रयोग किया और एक राउंड हवा में गोली चलानी पड़ी। एएसपी डॉक्टर तेजपाल सिंह ने बताया कि रविवार रात डीजे बजाने को लेकर कांवड़ियों और दूसरे समुदाय के लोगों में विवाद हो गया। इसके चलते दूसरे समुदाय के युवकों ने कांवड़ियों पर हमला कर दिया, जिसमें आठ कांवड़िए घायल हो गए। इससे पहले कांवड़ियों पर हमले के आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर सोमवार को कुछ संगठन सड़क पर उतर आए। उन्होंने घूम-घूम कर बाजार बंद करवा दिया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए पथराव किया।
सीएमएचओ डॉ. मीणा ने किया जवाब तलब बीकानेर। जिले के ग्रामीण स्वास्थ्य केन्द्रों में गुणवत्तापूर्ण सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के क्रम में सोमवार प्रातः सीएमएचओ डॉ. बी.एल. मीणा ने श्रीडूंगरगढ़ ब्लॉक की पीएचसी शेरुणा और लखासर का आकस्मिक निरीक्षण किया। दोनों ही अस्पतालों के चिकित्सक नदारद मिले। हाजरी रजिस्टर चेक करने पर पता चला कि ये चिकित्सक तो पिछले कई दिनों से बिना सूचना गायब हैं। डॉ. मीणा ने कार्य के प्रति घोर लापरवाही के चलते शेरुणा के चिकित्साधिकारी डॉ. दौलतराम भारी और लखासर की डॉ. नीलम पांडे को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया ळें गौरतलब है कि गत शनिवार को भी तीन अस्पतालों के चिकित्सक निरीक्षण में अनुपस्थित मिले थे जिन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। डॉ. मीणा ने बताया कि चिकित्सालयों की जांच का सघन अभियान चलाकर ये सुनिश्चित करने का प्रयास किया जा रहा है कि जिले के कोने-कोने में स्वास्थ्य सेवाएं चाक-चैबंद रहें। उन्होंने बताया कि जिन पीएचसी-सीएचसी को कई-कई दिन चिकित्सक के दर्शन न हो वहां के निवासियों का स्वास्थ्य जोखिम मे पड़ सकता है। विशेषकर मानसून के चलते मौसमी बीमारियों के फैलाव के लिए ये समय अनुकूल है और चिकित्सकों को पूरी मुस्तैदी के साथ अपने सेक्टर में स्वास्थ्य सेवाओं को संभालना चाहिए। मौसमी बीमारियों की रोकथाम व फ्लैगशिप कार्यक्रमों का लाभ लाभार्थी तक पहुँचाने में किसी प्रकार की लापरवाही को गंभीरता से लिया जा रहा है।
5 चिकित्साधिकारियों को थमाए नोटिस बीकानेर। सीएमएचओ डॉ. बी.एल. मीणा ने शुक्रवार प्रातः ग्रामीण स्वास्थ्य केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर सेवाओं का हाल जाना। निरीक्षण में जहां पीएचसी बम्बलू पर ताला मिला तो पीएचसी शेरेरां, नौरंगदेसर व सीएचसी कालू से चिकित्सक नदारद मिले। ग्रामीण क्षेत्र में आवश्यक सेवाओं के प्रति ऐसी लापरवाही से नाराज डॉ. मीणा ने ताबड़तोड़ कार्यवाही करते हुए चारों अस्पतालों के प्रभारी चिकित्साधिकारियों सहित कुल 5 चिकित्सकों को कारण बताओ नोटिस जारी किए है। डॉ. मीणा ने बताया कि हॉलिडे के बावजूद अस्पताल को सुबह 2 घंटे खुलना होता है लेकिन अस्पतालों पर ताला मिलना या डॉक्टर की अनुपस्थिति घोर लापरवाही है। सीएमएचओ द्वारा अस्पताल में साफ-सफाई, बायोमेडिकल वेस्ट निस्तारण, दवाओं की उपलब्धता, आई.ई.सी. सामग्री के प्रदर्शन, लक्ष्यों के विरुद्ध उपलब्धियां, मौसमी बीमारियों की रोकथाम, गम्बुसिया हैचरी के रख-रखाव व फ्लैगशिप योजनाओं की प्रगति की जानकारी लेकर आवश्यक निर्देश दिए गए। इन्हें किया जवाब तलब सीएमएचओ डॉ. मीणा ने बंद मिली पीएचसी बम्बलू की प्रभारी डॉ. शाहिना कोहरी सहित अनुपस्थित मिले पीएचसी शेरेरां के प्रभारी डॉ. अश्विनी कुमार, नौरंगदेसर की डॉ. नेहा दाधीच, सीएचसी कालू के प्रभारी डॉ. गोविन्द राम व डॉ. इरफान कुरैशी को कारण बताओ नोटिस भेज दिए है। नोटिस का संतोषजनक जवाब न मिलने पर कड़ी अनुशासनात्मक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।
जयपुर।पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का एम्स में लंबी बीमारी के बाद गुरुवार शाम को निधन हो गया। देश के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर प्रदेश में सरकारी दफ्तर, कॉलेज व स्कूलों में एक दिन का अवकाश रहेगा। प्रदेश में सात दिन का राजकीय शोक रखा गया है। इस दौरान सरकारी भवनों पर राष्ट्रीय झंडा आधा झुका रहेगा। वाजपेयी के निधन के बाद राज्य सरकार ने यह आदेश जारी किया। इससे पहले दोपहर को ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे गुरुवार सुबह दिल्ली पहुंच गईं थी। इसके बाद बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी भी दिल्ली के लिए रवाना हो गए। इसके चलते राजस्थान गौरव यात्रा का दूसरा चरण स्थगित कर दिया गया। यह गुरुवार से शुरू होने वाला था। अब दूसरे चरण की यात्रा की नई तारीख की घोषणा बाद में होगी। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदनलाल सैनी ने यात्रा स्थगित होने के बारे में सवाईमाधोपुर में बताया। पूर्व में तय कार्यक्रम के अनुसार राजे को सुबह सवाईमाधोपुर पहुंचना था। यात्रा का पहला चरण हाल ही उदयपुर संभाग में पूरा हुआ है। पहले चरण की यात्रा चार अगस्त को राजसमंद जिले के चारभुजा जी से शुरू हुई थी। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने यात्रा को रवाना किया था। यात्रा का समापन 30 सितंबर को अजमेर में होगा। अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस यात्रा रथ से पूरे प्रदेश की परिक्रमा 40 दिन में पूरी होनी है। एक संभाग की यात्रा पूरी करने के बाद और दूसरे संभाग में यात्रा शुरू होने से पहले बीच-बीच में यात्रा को विराम दिया जा रहा है। यह था यात्रा का कार्यक्रम- संभाग दिनांक उदयपुर 4 से 10 अगस्त (पूरा हुआ) भरतपुर 16, 17, 19, 20 अगस्त जोधपुर 23 से 29 अगस्त बीकानेर 2 से 7 सितंबर कोटा 10 से 13 सितंबर जयपुर 16 से 20 सितंबर अजमेर 23, 24 और 26 से 30 सितंबर
स्वच्छता पखवाड़े का हुआ आगाज बीकानेर। 72 वां स्वाधीनता दिवस चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा हर्षोल्लास, नवीन संकल्पों व स्वच्छता पखवाड़े के आगाज के साथ मनाया गया। जिला स्वास्थ्य भवन सहित पूरे जिले के स्वास्थ्य केन्द्रों पर स्वाधीनता दिवस को लेकर आयोजन हुए। स्वास्थ्य भवन में झंडारोहण बीकानेर जोन के संयुक्त निदेशक डॉ. हरबंस सिंह बराड़ ने किया। इस अवसर पर सीएमएचओ डॉ. बी.एल. मीणा ने आजादी के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते हुए सच्ची श्रद्धांजलि स्वरुप ईमानदारी से अपने हिस्से के कर्म और कर्तव्य का शत-प्रतिशत निर्वहन करने का संकल्प दिलाया। इस अवसर पर उपनिदेशक डॉ. संदीप अग्रवाल, आरसीएचओ डॉ. रमेश गुप्ता, डिप्टी सीएमएचओ डॉ. इंदिरा प्रभाकर, डॉ. नवल किशोर गुप्ता, लेखाधिकारी विजय शंकर गहलोत व डीपीएम सुशील कुमार ने भी अपने विचार रखे। स्वच्छता से स्वास्थ्य स्वास्थ्य भवन सहित पूरे जिले के स्वास्थ्य केन्द्रों पर स्वच्छता की शपथ लेते हुए सभी अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा स्वच्छता पखवाड़े का आगाज किया गया। सभी ने अपने परिसरों में श्रमदान किया। संयुक्त निदेशक डॉ.एच.एस. बराड़ ने स्पष्ट किया कि स्वच्छता सभी कार्यालय व परिसरों के प्रभारियों की जिम्मेदारी रहेगी इस दौरान सभी अपने कमरे साफ-स्वच्छ करेंगे और स्वच्छता समिति द्वारा इसका नियमित निरीक्षण किया जाएगा। डॉ. मीणा ने जानकारी दी कि 30 अगस्त तक चलने वाले स्वच्छता पखवाड़े के दौरान पुराने रिकॉर्ड का नष्टीकरण व अनुपयोगी सामान की नीलामी भी प्राथमिकता के साथ की जाएगी और शहर से लेकर गाँव तक स्वच्छता से स्वास्थ्य परिदृश्य को को संबल दिया जाएगा।
जयपुर. बुधवार की सुबह जयपुर के एसएमएस स्टेडियम में 72वां स्वतंत्रता दिवस मनाया गया। यहां राज्य स्तरीय स्वतंत्रता दिवस मनाया गया। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ध्वजारोगण कर कार्यक्रम की शुरुआत की। इस दौरान यहां सभी बड़े अफसर और नेता मौजूद रहे। मुख्यमंत्री राजे ने प्रदेश के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में बिजली, पानी और सड़क के लिए काम हुए। हमने सभी वर्ग के लिए काम किए। साथ ही करीब 17 लाख युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाए गए। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि जनता ने हमे सेवा का मौका दिया था। हमारी सरकार ने बिना किसी भेदभाव के प्रदेश में काम किए। राजस्थान में बिजली, पानी और सड़क सभी के लिए काम हुए। सरकारी स्कूलों में सुचारू व्यवस्था की गई। टीचर्स की भर्ती की गई। टीचर्स की कमी को लगभग पूरा कर दिया गया। स्टूडेंट्स निजी स्कूल से सरकारी स्कूलों में आने लगे। पिछले पांच सालों में सरकारी स्कूलों में नामांकन में भारी वृद्धि हुई। - गरीबों के बेहतर इलाज के लिए सरकार ने पहल की। जिससे भामाशाह योजना से बेहतर इलाज संभव हुआ। हमने सभी वर्ग के लिए काम किया। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर दी बधाई - मुख्यमंत्री ने लिखा कि सभी देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं। आज हम विश्व के मानचित्र पर जो दैदीप्यमान भारत देख रहे हैं, उसके पीछे शहीदों की शहादत, स्वतंत्रता सेनानियों का खून-पसीना और राष्ट्र के विकास के प्रति समर्पित राष्ट्रभक्तों की कठोर तपस्या है। एसएमएस स्टेडियम में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का हुआ आयोजन - स्वतंत्रता दिवस के मौके पर एसएमएस स्टेडियम में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। यहां बच्चों ने डांस और परेड जैसे कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। इसके साथ भारतीय सेना के जवानों ने भी अपने कौशल का प्रदर्शन किया।
- अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान थैलीसीमिया पीडि़तों से मिले थे खन्ना, एक साल से नहीं मिल रही थी दवाईयां, अब मिलेगी तुंरत दवाई व टीका जयपुर/श्रीगंगानगर। गत दिनों अपने दो दिवसीय दौरे पर श्रीगंगानगर आये भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व रेडक्रास सोसायटी के राष्ट्रीय पदाधिकारी अविनाश खन्ना थैलीसीमिया पीडि़तों की आवाज बनकर उभरे हैं, क्योंकि वे गत दिनों इन पीडि़तों से मिले थे ओर उनकी पीड़ा सुनी थी, जिसमें पीडि़त व उनके परिजनों ने स्पष्ट रूप से शिकायत की थी कि उन्हें करीब एक साल से जिला अस्तपाल में दवाईयां नहीं मिल रही थी। जिस कारण मजबूरीवंश उन्हें बाहर अन्य अस्पतालों का सहारा लेना पड़ता, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति ओर खराब होती जा रही हैं। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं रेडक्रास सोसायटी के राष्ट्रीय पदाधिकारी अविनाश खन्ना ने केन्द्र सरकार के सामने रखा, जिस पर अब केन्द्र सरकार ने निदेशालय चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग (स्वास्थ्य भवन, जयपुर) के निदेशक को निर्देशित किया हैं कि अगर दवाईयां स्टॉक में नहीं हैं तो बाजार से जायज दाम पर इसे खरीद कर थैलीसीमिया पीडि़तों नि:शुल्क को दी जाये, जिससे पीडि़त की जान बच सकें। वहीं इस मामले में केन्द्र में उच्चाधिकारी वनश्री सिंह को इस मामले को कोर्डिनेट करने के लिये डयूटी लगाई हैं ओर शहर के वरिष्ठ शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. दर्शन आहुजा से प्रतिदिन इस मामले में फीडबैक लेने के निर्देश भी दिये गये हैं। दूसरी ओर इस आदेश की कॉपी जिला चिकित्सालय की पीएमओ सुनीता सरदाना के पास भी पहुंच गये ओर वे अब इन दवाईयों की व्यवस्थाओं में लग गई हैं। थैलीसीमिया पीडि़तों के दवाईयां मामले में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व रेडक्रास सोसायटी के राष्ट्रीय पदाधिकारी अविनाश खन्ना द्वारा उनकी आवाज उठाने से अब पीडि़तों को राहत की सांस मिली हैं।
जयपुर केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के मंदिर जाने पर चुटकी लेते हुए कहा है कि जब मुश्किल आती है तो नानी भी याद आ जाती है। इससे पहले राठौड़ ने युवाओं के साथ अपने संसदीय क्षेत्र जयपुर ग्रामीण में बाइक पर सवार होकर तिरंगा यात्रा निकाली। जयपुर के जवाहर कला केन्द्र में सरकार की उपलब्धियों पर आयोजित प्रदर्शनी के उद्घाटन के बाद मीडिया से बातचीत में सिंह ने कहा, 'जब मुश्किल आती है तो नानी भी याद आती है।' इस वर्ष के अंत में होने वाले राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस का चुनावी अभियान शुरू करने जयपुर के एकदिवसीय दौरे पर आए कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार को पार्टी कार्यकर्ताओं की एक बैठक के बाद गोबिंद देव जी के मंदिर में दर्शन करने गए थे। केन्द्रीय मंत्री ने राजस्थान पर्यटन मुहिम के तहत प्रचलित टैग लाइन 'जाने क्या दिख जाए' का उल्लेख करते हुए कहा कि राजस्थान सुंदर प्रदेश है और पर्यटन के नक्शे पर मशहूर है और यहां कांग्रेस अध्यक्ष का स्वागत है। एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, 'जब प्रदेश में बीजेपी सत्ता में नहीं थी, तभी से प्रदेश बीजेपी समर्थक रहा है। बीजेपी ने 20 राज्यों में सरकारें बनाई है और प्रत्येक ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के काम करने की शैली को देखा है और उनके नेतृत्व में आगे बढ़ना चाहते हैं।'
जयपुर, राजस्थान में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का शो शनिवार को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के नाम रहा. कांग्रेस की इस चुनावी सभा के बाद एक तरह से साफ हो गया है कि राजस्थान में कांग्रेस के पायलट सचिन पायलट ही रहेंगे. एयरपोर्ट से लेकर रामलीला मैदान तक हर जगह सचिन पायलट के नारे गूंजते रहे. पायलट और राहुल गांधी में जिस तरह करीबी देखी गई उसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं में चर्चा आम है कि अब सचिन पायलट चुनाव में कांग्रेस का चेहरा रहेंगे. इस बात पर भी लोगों का भरोसा है कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है सचिन पायलट मुख्यमंत्री बनेंगे. सचिन पायलट को मिली तरजीह बता दें कि पिछले दो दिनों से राहुल गांधी के रोड शो और कार्यकर्ता सम्मेलन की तैयारी चल रही थीं. सड़कों पर कहीं भी पोस्टरों में अशोक गहलोत नहीं दिखाई दिए. अशोक गहलोत जिंदाबाद के नारे लगाते हुए भी बहुत कम दिखे. जयपुर की सड़क पर हर तरफ सचिन पायलट जिंदाबाद के नारे लग रहे थे. राहुल गांधी ने भी सचिन पायलट को तरजीह दी और लगातार बातचीत करते रहे. कांग्रेस कार्यकर्ताओं में चर्चा रही कि सचिन पायलट और राहुल गांधी करीबी हैं, हो सकता है सचिन पायलट आज की सभा के बाद फ्री हैंड मिले. अशोक गहलोत कांग्रेस के संगठन महासचिव हैं लेकिन सचिन पायलट से पहले उनका भाषण करवाया गया. ऐसे में मंच पर भी सचिन पायलट को अहमियत मिलती दिखाई दी. गौरलतब है कि जयपुर का यह कार्यक्रम कांग्रेस के लिए चुनावी शंखनाद की सभा थी. राहुल ने गहलोत-पायलट को मिलवाया गले अशोक गहलोत दिल्ली में कांग्रेस के महासचिव बन चुके हैं लेकिन फिर भी कहते रहते हैं कि मैं राजस्थान से दूर नहीं हूं. वहीं जयपुर की सभा में अशोक गहलोत कटे-कटे दिखाई दिए. हालांकि राहुल गांधी जानते हैं कि चुनाव में जीत के लिए दोनों का साथ होना जरूरी है. लिहाजा मंच पर बैलेंस बनाते दिखे. जब सभा की शुरुआत हुई तो एक तरफ सचिन पायलट को बैठाया तो दूसरी तरफ अशोक गहलोत को बैठाया और अंत में दोनों को गले मिलवाया. गहलोत पार्टी के लिए करते रहेंगे काम बता दें कि अशोक गहलोत दो बार प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और दो बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं. ऐसे में पार्टी पर उनकी पकड़ है लेकिन सचिन पायलट के साढे़ चार साल के कांग्रेस के अध्यक्ष रहने के दौरान जिस तरह से पार्टी ने बीजेपी सरकार के खिलाफ संघर्ष किया है पायलट को उसका फायदा मिलता दिख रहा है. राहुल गांधी ने कहा है कि पार्टी में जो संघर्ष करेगा उसको फल मिलेगा. इशारे-इशारे में गहलोत ने कह दिया कि उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया जाता है तो पार्टी के लिए काम करते रहेंगे.aajtak
जयपुर, राजस्थान में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस ने अपने चुनाव प्रचार का शंखनाद कर दिया है. शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राजस्थान की राजधानी जयपुर पहुंचे और रोड शो किया. इसके बाद उन्होंने रामलीला मैदान में पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि चुनाव में दूसरे दलों से आने वाले लोगों को विधायक का टिकट नहीं दिया जाएगा. चुनाव के बाद कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता की सरकार बनेगी और सरकार में कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता की सुनवाई होगी. इस बीच राहुल गांधी ने राफेल डील, महिला सुरक्षा, किसान आत्महत्या और जीएसटी को लेकर पीएम मोदी पर तो हमला बोला, लेकिन उनके भाषण से स्थानीय मुद्दे गायब रहे. बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले इसी साल राजस्थान में विधानसभा चुनाव होने हैं. इसके चलते कांग्रेस और बीजेपी अपने चुनावी अभियान की शुरुआत कर चुके हैं. शनिवार को जयपुर पहुंचकर राहुल गांधी ने रोड शो किया और फिर रामलीला मैदान पहुंचे, जहां उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. इस दौरान उनके साथ पार्टी के कई नेता और कार्यकर्ता भी मौजूद हैं. इससे पहले एयरपोर्ट पर पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं ने राहुल गांधी का स्वागत किया. रामलीला मैदान पर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और लोगों को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर सीधा हमला बोला. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि जवान इस देश के लिए लड़ते हैं और मरते हैं. युवा हिंदुस्तान की रक्षा के लिए सेना में जाना चाहता है. हिंदुस्तान के लाखों युवा एचएएल में काम करने का सपना देखते हैं. 56 इंच की छाती के चौकीदार के सामने संसद में राफेल की बात उठती है और भ्रष्टाचार पर सवाल पूछे जाते हैं, तो डेढ़ घंटे के भाषण में एक मिनट के लिए भी जवाब नहीं देते. राफेल डील को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा कि राफेल खरीद के सौदे का कॉन्ट्रैक्ट उस कंपनी को मिलता है, जो महज सात दिन पहले बनाई जाती है. उन्होंने PM मोदी से सवाल किया कि मोदी सरकार ने 45 हजार करोड़ के कर्जदार अनिल अंबानी की कंपनी को राफेल कॉन्ट्रैक्ट कैसे दे दिया. उन्होंने कहा कि अंनिल अंबानी की सबसे बड़ी योग्यता यह है कि वो पीएम मोदी के दोस्त हैं, जिसके चलते उनकी कंपनी को हवाई जहाज खरीदने का करार दिया गया. वो भी कंपनी सिर्फ सात दिन पहले ही बनी थी. इस कंपनी ने कभी कोई हवाई जहाज तक नहीं बनाया था. उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार ने एक हवाई जहाज को 540 करोड़ रुपये में खरीदा था, जबकि पीएम मोदी ने फ्रांस की कंपनी से एक हवाई जहाज 1600 करोड़ रुपये में खरीदा. उन्होंने कहा कि जो हवाई जहाज हिंदुस्तान में बनना चाहिए थे, अब वो हवाई जहाज हिंदुस्तान में नहीं सीधे फ्रांस में बनेगा और पूरा का पूरा फायदा नरेन्द्र मोदी के दोस्त अनिल अंबानी को मिलेगा. इस दौरान उन्होंने राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर भी निशाना साधा. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे कहती हैं कि लाखों युवाओं को मैंने रोजगार दिया, लेकिन सच्चाई राजस्थान के युवाओं को मालूम है. वायदा 24 घंटे बिजली का किया था, लेकिन सिर्फ पांच घंटे बिजली मिलती है. राजस्थान में हर रोज किसान आत्महत्या करता है. पूरे हिंदुस्तान में किसान एक के बाद एक किसान आत्महत्या कर रहा है. राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर अपना वादा नहीं पूरा करने का आरोप लगाया. साथ ही जीएसटी के मुद्दे पर भी मोदी सरकार को घेरा. उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से कहा कि आप लोग छोटे व्यापारियों के पास जाइए और उनसे कहिए कि हमारी सरकार आते ही मोदी सरकार द्वारा लाए गए गब्बर सिंह टैक्स को हटाकर जीएसटी लाएंगे. यह कानून देश में एक कर व्यवस्था लागू करने के लिए लाई जाएगी. इस दौरान राहुल गांधी ने कहा कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह हत्या के आरोपी हैं. उन्होंने कहा कि अमित शाह के बेटे को अचानक कई गुना फायदा हो जाता है. राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने बताया कि राहुल कांग्रेस पार्टी के चुनावी अभियान को शुरू करने के लिए जयपुर आए हैं. वो पार्टी के कार्यकताओं को विधानसभा चुनाव में जीत दिलाने का संदेश दे रहे हैं. साथ ही उन्हें बता रहे हैं कि अगले तीन महीने किस तरह से चुनावी अभियान को चलाया जाएगा.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/