taaja khabar...रोहिंग्या की अवैध बस्तियों को बढ़ावा दे रहे तृणमूल कांग्रेस के नेता: एजेंसियां.....नरम पड़े चीन के तेवर? साझा सैन्य अभ्यास का दिया प्रस्ताव......चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को लेकर फिर सक्रिय हुए विपक्षी दल, आज बैठक.....लंदन में पीएम मोदी के सेशन से मिले साफ संकेत, क्या है बीजेपी का इलेक्शन प्लान?...कठुआ कांड के बाद किस करवट बैठेगी जम्मू-कश्मीर की सियासत?...
बीकानेर राजस्थान के बीकानेर में रॉबर्ट वाड्रा की एक जमीन पर प्रवर्तन निदेशालय ने अपना बोर्ड लगा दिया है। जानकारी के मुताबिक, ईडी ने पहले ही इस जमीन को सीज कर दिया था। वहीं जिस इलाके में जमीन स्थित है, उसके सरपंच का दावा है कि जमीन उनकी है और इसे गलत तरीके से कब्जा कर लिया गया है। गांव के सरपंच माघाराम मरोठिया ने कहा, 'यह जमीन मेरी है और इस पर रॉबर्ट वाड्रा के सहयोगी जयप्रकाश बगरवारा ने फर्जी डॉक्युमेंट्स के आधार पर कब्जा कर लिया। जब प्रवर्तन निदेशालय ने यह बोर्ड लगाया तो मैं मौके पर मौजूद नहीं था।' इस बोर्ड पर भी जयप्रकाश का ही नाम दर्ज किया गया है। नोटिस में प्रवर्तन निदेशालय ने स्पष्ट किया है कि इस जमीन पर अवैध प्रवेश वर्जित है। सरपंच ने जमीन पर अपना हक बताते हुए यह भी कहा है कि वह ईडी की इस कार्रवाई के खिलाफ कोर्ट जाएंगे। बता दें कि इससे पहले ईडी ने जमीन घोटाले के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया था। ईडी की इस कार्रवाई के बाद पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा की भी मुश्किलें बढ़ सकती हैं।
जयपुर. एससी-एसटी वर्ग के युवाओं के लिए अच्छी सूचना है। सरकार ने प्रदेश में होने वाली एसडीसी की 11,255 भर्तियों के लिए इस वर्ग के अभ्यर्थियों को लिखित परीक्षा के न्यूनतम अंकों में पांच फीसदी की शिथिलता देने का आदेश जारी किया है। अभी तक लिखित परीक्षा को पास करने के लिए न्यूनतम 40 अंक लाने अनिवार्य थे। अब इसे घटाकर 35 फीसदी करने का आदेश कार्मिक विभाग ने बुधवार को जारी कर दिया। हालांकि इसके लिए भी मेरिट सूची बनेगी। इस वर्ग में अधिक मेरिट होने पर इसका लाभ नहीं मिल पाएगा, लेकिन कम मेरिट जाने की स्थिति में इस वर्ग के युवाओं को लाभ मिलेगा। लिखित परीक्षा मे 35 फीसदी अंक पाने वाले को ही टाइप टेस्ट के लिए बुलाया जाएगा।
अलवर(राजस्थान). सेंट एंसलम स्कूल के वाइस प्रिंसिपल व कॉर्डिनेटर फादर जार्जिश ब्रिटो ने स्कूल की 9वीं की एक छात्रा को मंगलवार रात एक बजे वाट्सएप के जरिए अश्लील मैसेज भेज दिया। मैसेज में लिखा कि योर हसबैंड ऑलवेज वेटिंग फॉर यू। इसका खुलासा हाेते ही बुधवार सुबह मुल्तान नगर निवासी छात्रा के पिता और भाई अन्य लोगों के साथ स्कूल पहुंच गए और जार्जिश ब्रिटो की धुनाई कर दी। हंगामा बढ़ता देख ब्रिटो स्कूल से फरार हो गया। सूचना मिलने पर अरावली विहार थाना प्रभारी शीशराम मीणा मौके पर पहुंचे। प्रिंसिपल ने जानकारी दी कि ब्रिटो भाग चुका है। इसके बाद थाना प्रभारी ने स्कूल व उसके निवास की तलाशी भी ली। उधर, सूत्रों ने बताया कि फादर ब्रिटो को पुलिस ने इसी संस्था द्वारा संचालित एक संस्थान से हिरासत में ले लिया। मार्च में भी हुई थी छात्रा व फादर की चैटिंग भास्कर ने पूरे मामले की पड़ताल की तो सामने आया कि यह छात्रा फादर ब्रिटो के संपर्क में काफी समय से थी। इसकी स्कूल के अधिकांश स्टाफ को जानकारी थी। छात्रा की चैट हिस्ट्री में स्पष्ट है कि छात्रा की फादर से मार्च में भी बात हुई थी। इन बातों से जाहिर है कि दोनों का काफी समय से संपर्क था। छात्रा के साथ फादर ब्रिटो के कई फोटो भी सामने आए हैं। बेटी को धर्म परिवर्तन के लिए भी उकसाया- पिता का आरोप - पुलिस के मुताबिक, मुल्तान नगर निवासी छात्रा के पिता ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि उसकी बेटी सेंट एंसलम स्कूल में कक्षा 9वीं में पढ़ती है। रात को जब वे अपनी दुकान से आते हैं तो बेटी मोबाइल लेती है। जूनियर फादर जार्जिश ब्रिटो उसकी बेटी को चैटिंग व मैसेज करने के लिए उकसाता है। - मंगलवार रात करीब 1 बजे आरोपी ने उसकी बेटी को मैसेज किए। बेटी ने तंग आकर इसकी जानकारी दी। जब हमने बेटी को ब्रिटो द्वारा भेजे गए मैसेज चैक किए तो सचाई सामने आई। - पिता ने रिपोर्ट में लिखा कि बेटी ने उसे बताया कि जूनियर फादर ने उसके साथ स्कूल में भी कई बार अश्लील हरकत की। साथ ही उसकी बेटी को धर्म परिवर्तन के लिए भी उकसाता रहता है। - छात्रा के पिता ने ब्रिटो के खिलाफ नाबालिग बेटी को मोबाइल पर अश्लील मैसेज भेजने, छेड़छाड़ करने, लज्जा भंग करने सहित पॉक्सो एक्ट और धर्म परिर्वतन के लिए उकसाने का मामला दर्ज कराया है। पिता का आरोप- स्कूल प्रबंधन ने आरोपी को भगाया लड़की के पिता का आरोप है कि स्कूल प्रबंधन ने आरोपी काे भगाने में पूरी वफादारी निभाई। आरोपी को स्कूल के पिछले गेट से भगाया गया और इसके बाद यह काफी समय तक स्कूल स्टाफ के संपर्क में रहा। स्कूल स्टाफ से ही उसके दौसा में होने का पता चला। यहां से पुलिस ने उसे हिरासत में लिया। स्कूल प्रबंधन ने पुलिस को सीसीटीवी फुटेज दिखाने से भी इनकार कर दिया। स्कूल प्रबंधन ने कहा-बेहद शर्मनाक मामला, जूनियर फादर को पद से हटा दिया है सेंट एंसलम स्कूल के प्रिंसिपल फादर पॉल ने कहा कि यह बेहद शर्मनाक मामला है। मुझे इस मामले की सूचना सुबह करीब साढ़े नौ बजे मिली। सूचना मिलने के बाद जूनियर फादर ब्रिटो को स्कूल से हटा दिया गया है। इस मामले में आगे की कार्रवाई अब पुलिस की ओर से की जाएगी। स्कूल पहुंचकर हंगामा करन वाले संगठन के कार्यकताओं पर भी मामला दर्ज इससे पहले मामले की सूचना मिलने पर शहर विधायक बनवारीलाल सिंघल के अलावा पार्षद विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ता भी स्कूल में पहुंचे और स्कूल में हंगामा किया। पार्षदों ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए आरोपी को भागने देने का आरोप भी लगाया। इस मामले में पुलिस ने 11 लोगों के खिलाफ धमकाने, बिल्डिंग को आग लगाने व पुलिस के कार्य में बाधा डालने का मामला दर्ज कराया है। विधायक ने की छात्रा को इंसाफ दिलाने की मांग उधर, विधायक सिंघल ने कहा कि बच्ची अबोध है और किसी भी प्रकार से उसे पक्ष में करना दंडनीय अपराध है। मैंने स्कूल प्रबंधन से ऐसे व्यक्ति का सहयोग नहीं करने और पुलिस को कानून के अनुसार कार्रवाई कर छात्रा को न्याय दिलाने के लिए कहा है।
दिल्ली/जयपुर.उपचुनाव में 3-0 की हार के बाद राजस्थान में बुधवार को सियासी घटनाक्रम तेजी से बदला। कई दिनों से प्रदेश अध्यक्ष को बदलने को लेकर जो कयास लग रहे थे, वे बुधवार सुबह सच हो गए। पार्टी प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने इस्तीफा दे दिया। जोधपुर सांसद और केंद्र में मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत का प्रदेशाध्यक्ष बनना तय माना जा रहा है, लेकिन उनके विदेश में होने के कारण उनके नाम की घोषणा नहीं की गई। गुरुवार को प्रदेश अध्यक्ष के नाम की घोषणा हो सकती है। राज्य मंत्रिमंडल में बदलाव के संकेत हालांकि, एक और केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल का नाम भी प्रदेशाध्यक्ष के लिए चर्चा में बना हुआ है। लेकिन इस पर केंद्रीय और राज्य के नेतृत्व के बीच सहमति नहीं बन पा रही थी। देर रात संघ भी सक्रिय हो गया। इस बीच यह भी संकेत हैं कि राज्य के मंत्रिमंडल में बदलाव होगा। मंत्रिमंडल में फेरबदल की चर्चा राज्य मंत्रिमंडल में एक बार फिर फेरबदल की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया है। नए अध्यक्ष के आने के बाद कुछ मंत्रियों को संगठन में भेजा जा सकता है। नए चेहरों को शामिल किए जाने की संभावना है। परनामी को भी मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। हैल्थ और यूडीएच मंत्री बदले जा सकते हैं। 01 अप्रैल को ही तय हो गया था पद से हटाए जाएंगे परनामी - राज्य में प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी को हटाने को लेकर एक अप्रैल को दिल्ली में अमित शाह और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बीच हुई बैठक में सहमति बन गई थी। वसुंधरा का तर्क था कि पार्टी के प्रदेश संगठन में अगर बदलाव होता है तो उन राज्यों में भी बदलाव होना चाहिए, जहां उपचुनाव में पार्टी हारी है। - मध्यप्रदेश में बुधवार को ही नंद कुमार सिंह चौहान को प्रदेशाध्यक्ष पद से हटाकर उनकी जगह जबलपुर के सांसद राकेश सिंह को नया अध्यक्ष बनाना भी इसी के तहत हुआ है। बैठक में राजस्थान के प्रदेशाध्यक्ष के लिए अर्जुन मेघवाल का नाम भी तय हुआ था, लेकिन प्रदेश नेतृत्व की स्पष्ट सहमति नहीं थी। मेघवाल की भी इस पद पर आने की चाहत नहीं थी। इसी असहमति के बाद गजेंद्र सिंह का नाम - सामने आया। संघ को भी इस नाम पर आपत्ति नहीं है।
जयपुर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता अशोक परनामी ने बुधवार को राजस्थान के पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। उन्हें पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति का सदस्य बनाया गया है। इस्तीफा देने के बाद परनामी ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि यह फैसला उन्होंने निजी कारणों के चलते लिया है। परनामी ने संवाददाताओं से कहा, 'मैंने अपना इस्तीफा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को 16 अप्रैल को दे दिया था। मैं पार्टी के अनुशासित कार्यकर्ता के रूप में कार्य करता रहूंगा। पिछले चार सालों में मैंने पार्टी को सशक्त करने का कार्य किया है और भविष्य में भी अपनी जिम्मेदारी निभाता रहूंगा। हमारी पार्टी में जिम्मेदारी देने की व्यवस्था है। राष्ट्रीय अध्यक्ष का धन्यवाद करना चाहूंगा कि उन्होंने राष्ट्रीय कार्यकारिणी में स्थान दिया है तो निश्चित रूप से अपनी क्षमताओं के अनुसार मैं अपना कार्य करूंगा।’ बता दें कि राजस्थान में इस साल राज्य विधानसभा के लिए चुनाव होने हैं। इसी साल उपचुनावों में पार्टी को मिली हार के बाद से ही पार्टी की राज्य इकाई में परनामी और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खिलाफ विरोध के स्वर उठने लगे थे। यहां तक कि पार्टी नेता और राजस्थान के कोटा से जिला परिषद चेयरमैन अशोक चौधरी ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को चिट्ठी लिखकर प्रदेश में पार्टी नेतृत्व, राजे और परनामी को हार का जिम्मेदार ठहराया था। वहीं परनामी से पहले हाल ही में आंध्र प्रदेश में पार्टी के अध्यक्ष हरि बाबू और मध्य प्रदेश में नंदकुमार चौहान के हाथ से बागडोर जाने को एक साथ जोड़कर देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि जो राज्य जल्द ही विधानसभा चुनावों के लिए जाने वाले हैं, बीजेपी वहां नेतृत्व में बड़े परिवर्तन कर रणनीति बनाने में लग गई है। गौरतलब है कि राजस्थान और मध्य प्रदेश में इसी साल चुनाव होने हैं जबकि आंध्र प्रदेश में अगले साल मई में मौजूदा सरकार का कार्यकाल खत्म होगा। अशोक परनामी को फरवरी 2014 में राजस्थान बीजेपी का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। जयपुर के पूर्व मेयर रहे परनामी वर्तमान में जयपुर के आदर्श नगर विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक हैं।
बीकानेर। 14 अप्रैल से 5 मई तक चलने वाले ग्राम स्वराज अभियान के अंतर्गत जिले में 23 व 24 अप्रैल को सघन मिशन इन्द्रधनुष कार्यक्रम का विशेष राउंड चलाया जाएगा जिसमे भारत सरकार द्वारा चयनित 31 गाँवों में बच्चों व गर्भवती महिलाओं का शत-प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित किया जाएगा। “ग्राम स्वराज अभियान-सबका साथ, सबका गांव, सबका विकास कार्यक्रम” का उद्देश्य सामाजिक सौहार्द को बढ़ावा देना, गरीब परिवारों तक पहुंच कायम करना और केंद्र सरकार की विभिन्न जन-कल्याणकारी योजनाओं तथा कार्यक्रमों से वंचित रह गए सभी लोगों को इनके दायरे में लाकर लाभान्वित करना है। अभियान के दौरान देश भर के 21,058 गांवों के लिए गरीब समर्थक पहलों में मिशन इन्द्रधनुष, उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना, उजाला, प्रधानमंत्री जन-धन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का शत प्रतिशत आच्छादन किया जाएगा। मंगलवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन की बीकानेर इकाई के सहयोग से स्वास्थ्य भवन सभागार में इन 31 गाँवों से सम्बंधित चिकित्साधिकारी, एल.एच.वी. व ए.एन.एम. के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. देवेन्द्र चौधरी ने स्पष्ट किया कि अभियान की सीधी मोनिटरिंग प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा की जा रही है इसलिए इस अभियान को सर्वोत्तम प्राथमिकता के साथ चलाया जाएगा। चूक और लापरवाही के लिए कोई स्थान नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिले के मात्र 31 गाँव में अभियान चलना है इसलिए शत-प्रतिशत टीकाकरण के लिए पूरा जोर लगा दें। उन्होंने प्रत्येक ग्रामवार समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए। आरसीएचओ डॉ. रमेश गुप्ता ने वैक्सीन की आपूर्ति समय पर कर लेने, समस्त दवाईयों व जांच किट का स्टॉक रखने और उपकरण चालू हालत में रखने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी बीसीएमओ व चिकित्साधिकारियों को समस्त गाँव स्वयं भ्रमण कर तैयारियों की समीक्षा करने के निर्देश दिए। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एसएमओ डॉ. मंजूलता शर्मा ने अभियान से सम्बंधित कार्यों व रिपोर्टिंग का विस्तृत प्रशिक्षण दिया। उन्होंने हेड काउंट सर्वे के सत्यापन, सत्र स्थल के सही चयन, सही आईईसी प्रदर्शन व गुणवत्तापूर्ण टीकाकरण सेवाओं के लिए सटीक माइक्रोप्लानिंग पर जोर दिया।
जयपुर| पंचायतीराज विभाग ने बुधवार को 48 विकास अधिकारियों की सूची जारी की। इनमें 9 बीडीओ को एपीओ किया गया है। पंचायतीराज विभाग ने बुधवार को 48 विकास अधिकारियों की सूची जारी की। इनमें 9 बीडीओ को एपीओ किया गया है। एपीओ चल रहे 26 बीडीओ को पोस्टिंग दी तो 14 अफसरों के तबादले किए गए हैं। पंचायतीराज विभाग के संयुक्त सचिव इकबाल खान के अनुसार 9 बीडीओ को एपीओ किया है। वहीं 26 एपीओ को पोस्टिंग दी है। रानू इंकिया को देसूरी, भानू प्रताप सिंह हाड़ा को कोटड़ी, अभिषेक शर्मा को घड़साना, उदयसिंह मीणा को बामनवास, हेमंत चांदोलिया को घाटोल, अर्जुन सिंह को सांचौर, भंवर सिंह चारण को रानीवाड़ा, अनु फोगाट को रामगढ़ अलवर, सुशीला पाटन को सीकर, नरेंद्र कुमार मीणा को अरथूना, गुलाब सिंह गुर्जर को करौली, बाबूलाल यादव को गोविंदगढ़, पवन कुमार भातरा को बुहाना, संतकुमार मीणा को सरदारशहर, रमणिका कौर को विजयनगर, भगवान अरविंद को रिया बाड़ी और दीपक कुमार को बाप पंचायत समिति में बीडीओ लगाया है।
धौलपुर.बुधवार शाम आए तेज अंधड़ ने भरतपुर और धौलपुर जिलों में तबाही मचा दी। हिंडौन-धौलपुर हाईटंेशन लाइन टूटने से भरतपुर और धौलपुर जिलों की बिजली गुल हो गई। यह लाइन कल सुबह तक शुरू होने की संभावना है। 600 से ज्यादा बिजली के खंभे और तीन दर्जन से ज्यादा ट्रांसफार्मर गिर गए है। हाईटेंशन लाइन मकानों पर गिरने से आए करंट की वजह से कई लोग झुलस गए। अंधड़ में अनेक बड़े-बड़े पेड भी धराशायी हुए। जिसमें मरने वालों की संख्या गुरुवार को 14 तक पहुंच गई। इससे पहले धौलपुर में मरने वालों की संख्या 3 बताई जा रही थी, लेकिन अब ये आंकड़ा 14 तक पहुंच गया है। कच्ची दीवारें और मकान गिरने से पशुओं के साथ-साथ कुछ लोग भी घायल हुए। कहीं दीवार गिरने तो कहीं पेड़ के नीचे दबने से मौत - धौलपुर में सैपउ के कुरेन्दा गांव में दीवार गिरने से भगवती, गांव निधेरकला में दीवार गिरने से 35 साल की खिलौनी, बजरगढ़ में 18 साल की पिंकी की पेड़ के नीचे दबने से और नगला खरगपुर में पेड़ के नीचे दबने से 60 साल के सूरजभान की मौत हुई। वहीं सैपउ कस्बे में आगरा से रिश्तेदार के घर रहने आई हुई गुड्डी और 7 साल की बच्ची पूनम की दीवार गिरने से हुई मौत। इसके अलावा राजपुर में 2 साल के बच्चे मनीष की भी दीवार गिरने से मौत हो गई। - धौलपुर के मुगलवारा अंधड़ की चपेट में आने से 7 साल के उमेश उर्फ मुकेश की मौत। राजाखेड़ा कस्बे के खारपुरा गांव में मकान की दीवार गिरने से निर्मला नाम की महिला की मौत। - बसेडी के गांव कुनकुटा में मकान की पट्टी के नीचे दबने से सुमन नाम की महिला की मौत। वहीं बसईनबाय कस्बे के कासगंज गांव में मकान की पट्टी गिरने से 2 साल के मतलाना और 5 माह की गुड़िया की मौत हो गई। - मनिया कस्बे के लुला का पुरा गांव में दीवार गिरने से 18 साल के मनोज की मौत। बसेड़ी कस्बे के जारगा गांव में आंधी में लोहे की टीन गिरने से 42 साल के रामअवतार की मौत। बुधवार देररात मची तबाही - बता दें कि बुधवार को राजस्थान के चार जिलों भरतपुर, धौलपुर, भीलवाड़ा और उदयपुर में देर रात आंधी के साथ तेज बारिश हुई। कई जगह खंभे, मकान और पेड़ गिर गए। इनसे जुड़े हादसों में धौलपुर के अलावा 8 की मौत हो गई। धौलपुर जिले में 600 और भरतपुर में 400 से ज्यादा बिजली के खंभे गिर गए। इससे इन इलाकों में बिजली गुल हो गई। कहां हुई कितनी मौतें? -भरतपुर जिले में 5 लोगों की जान चली गई। इस जिले के अजान गांव में खेत का एक कमरे का मकान ढहने से विशंभर जाट (65), रारह में झोपड़ी टूटने से कमला (60), कुम्हेर के उबार में टिन-शेड गिरने से रामश्री (70) नाम के शख्स की मौत हो गई। - भीलवाड़ा, उदयपुर में दो लोगों की मौत हुई है। टोंक के आवां क्षेत्र में लड़के के मारे जाने की खबर है। इन इलाकों में आंधी से कई मकानों के टिन-टप्पर उड़ गए। कहीं पेड़ के नीचे दबा घर तो कहीं उड़ गई छत, आंधी की तबाही से ऐसे हुआ हालात
स्वास्थ्य केन्द्रों-कार्यालयों में चला विशेष सफाई अभियान *********** बीकानेर। “स्वच्छता से सिद्धि” पखवाड़े के अंतर्गत बुधवार को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में विशेष सफाई अभियान चलाया गया। स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशानुसार 1 से 15 अप्रेल 2018 तक स्वच्छ भारत मिशन व कायाकल्प कार्यक्रम के तहत ‘‘स्वच्छता से सिद्धि’’ पखवाड़ा जिले के सभी चिकित्सा संस्थानों व कार्यालयों पर मनाया जा रहा है। जिला मुख्यालय से लेकर गाँवों तक स्वास्थ्य केन्द्रों-चिकित्सालयों व कार्यालयों में अधिकारियों-कर्मचारियों ने श्रम दान किया और ऐसे स्थानों को भी साफ किया जहां नियमित सफाई कर्मचारी आमतौर पर नहीं पहुँच पाता। स्वास्थ्य भवन प्रांगण में स्वच्छता की सामूहिक शपथ दिलाते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. देवेन्द्र चौधरी ने सभी अधिकारियों-कर्मचारियों को अपने-अपने कमरे व परिवेश को स्वच्छ करने, फाइलों का सुव्यवस्थित संधारण करने, कबाड़ के निस्तारण करने व सौन्दर्यीकरण करने का आह्वान किया। उन्होंने बताया कि अस्पतालों में हाईजीन पर विशेष ध्यान देते हुए उन्हें संक्रमण मुक्त करने, पुराने पोस्टर, फटे बैनर व अन्य खराब प्रचार सामग्री हटाकर नई लगाने, बायो मेडिकल कचरा प्रबंधन पुख्ता करने, शौचालय उपयोग को बढ़ावा देने व सफाईकर्मियों की निःशुल्क स्वास्थ्य जांच करने के निर्देश जारी किए गए हैं। लेखाधिकारी विजय शंकर गहलोत ने बताया कि स्वास्थ्य भवन परिसर में सुचारू निकासी, नए डस्टबीन लगवाने, पार्किंग सुधार, कंडम सामग्री का निस्तारण जैसे लंबित कार्य भी पूर्ण करवाए जाएंगे। डीपीएम सुशील कुमार के अनुसार पखवाड़े के अंत में चिकित्सा संस्थानों व कार्यालयों की विशेष स्वच्छता ऑडिट होगी और कायाकल्प करने में विशेष योगदान देने वाले संस्थानों व व्यक्तियों को पुरस्कृत भी किया जाएगा। स्वास्थ्य भवन परिसर में आरसीएचओ डॉ. रमेश गुप्ता, डिप्टी सीएमएचओ डॉ. इंदिरा प्रभाकर, डॉ. राधेश्याम वर्मा, सहायक लेखाधिकारी अनिल आचार्य, डीएनओ मनीष गोस्वामी, नन्द व्यास, नवनीत आचार्य, अमित बोयल, दिनेश श्रीमाली व दाऊलाल ओझा सहित समस्त कर्मचारियों ने श्रमदान किया।
नई दिल्लीः राजस्थान पब्लिक सर्विस कमीशन (आरपीएससी), अजमेर की ओर से 8162 सीनियर टीचर (नॉन- टीएसपी क्षेत्र) पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। इसके लिए इच्छुक उम्मीदवार ऑफिशल वेबसाइट https://rpsc.rajasthan.gov.in/ पर जाकर 9 जून, 2018 तक आवेदन कर सकते हैं। महत्वपूर्ण तिथियां: -ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू होने की तिथि: 10 मई 2018 -ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि: 9 जून 2018 (12 बजे) -ऑनलाइन भूल सुधार तारीखः 10 जून से 16 जून (2018) आयु सीमा (जनवरी 1, 2018 तक): 18 से 40 वर्ष आयु सीमा में छूटः -SC/ ST/ OBC उम्मीदारों (राजस्थान निवासी) के लिए: 5 वर्ष -SC/ ST/ OBC महिला उम्मीदारों (राजस्थान निवासी) के लिए: 10 वर्ष -Gen (PH) उम्मीदारों के लिए: 10 वर्ष -OBC (PH) उम्मीदारों के लिए: 13 वर्ष -SC/ ST (PH) उम्मीदारों के लिए: 15 वर्ष पदों का विवरणः विषय के साथ पद संख्या इस प्रकार हैं- संस्कृतः 1952 सामाजिक विज्ञानः 1878 हिंदीः 1507 विज्ञानः 1128 अंग्रजीः 788 गणितः 699 उर्दूः 117 पंजाबीः 89 सिंधीः 04 कुल संख्याः 8162 शैक्षणिक योग्यताः सीनियर टीचर (हिंदी, अंग्रेजी, गणित, संस्कृत, उर्दू, पंजाबी और सिंधी): उम्मीदवार को संबंधित विषय को ऑप्शनल विषय के रूप में रखने के साथ ग्रेजुएट होना चाहिए। इसके साथ ही नैशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन द्वारा मान्यता प्राप्त डिग्री या डिप्लोमा होना भी अनिवार्य है। सीनियर टीचर (विज्ञान): उम्मीदवार को संबंधित विषयों में से किन्हीं दो में जैसे फिजिक्स, केमिस्ट्री, ज़ूऑलजी, बॉटनी, माइक्रो बॉटनी, बॉयो-टेक्नॉलजी और बॉयो-केमिस्ट्री के ऑप्शनल विषय के रूप में रखने के साथ ग्रेजुएट होना चाहिए। इसके साथ ही नैशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन द्वारा मान्यता प्राप्त डिग्री या डिप्लोमा होना भी अनिवार्य है। सीनियर टीचर (सामाजिक विज्ञान): उम्मीदवार को संबंधित विषयों में से किन्हीं दो में जैसे हिस्ट्री, जिऑग्रफ़ी, इकनॉमिक्स, पॉलिटिकल साइंस,सोसिऑलजी, पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन और फ़िलॉसफ़ी के ऑप्शनल विषय के रूप में रखने के साथ ग्रेजुएट होना चाहिए। इसके साथ ही राजस्थान सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त डिग्री या डिप्लोमा होना भी अनिवार्य है।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/