taaja khabar....पुलवामा अटैक पर बोले PM मोदी- जो आग आपके दिल में है, वही मेरे दिल में.....धुले रैली में पाक को पीएम मोदी की चेतावनी- हम छेड़ते नहीं, किसी ने छेड़ा तो छोड़ते नहीं.....पुलवामा हमला: मीरवाइज उमर फारूक समेत 5 अलगाववादियों की सुरक्षा वापस....भारत ने आसियान और गल्फ देशों के प्रतिनिधियों को दिए जैश-ए-मोहम्मद और पाक के लिंक के सबूत...पुलवामा हमला: बदले की कार्रवाई से पहले पाक को अलग-थलग करने की रणनीति....पुलवामा अटैक: पाकिस्तान क्रिकेट को बड़ा झटका, चैनल ने PSL को किया ब्लैकआउट..पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य कार्रवाई के डर से LoC के पास अपने लॉन्च पैड्स कराए खाली!...पाकिस्तान से आयात होने वाले सभी सामानों पर सीमाशुल्क बढ़ाकर 200 फीसदी किया गया: जेटली...पुलवामा अटैक: JeM सरगना मसूद अजहर पर अब विकल्प तलाशने में जुटा चीन....पुलवामा आतंकवादी हमले के लिए सेना जिम्‍मेदार: कांग्रेस नेता नूर बानो...
नई दिल्ली। कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने के लिए संबधित अधिकारियों को जल्द फैसला करना होगा, बुधवार को को कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को कहा कि वे अधिकारियों को जल्द से जल्द मंजूरी देने को कहें। कोर्ट ने कहा कि अधिकारी अनिश्चित काल तक फाइल को अटका कर नहीं रख सकते। कन्हैया कुमार और अन्य पर जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में देश विरोधी नारे लगाने का आरोप है। अदालत ने कन्हैया कुमार और अन्य पर मुकदमा चलाने के लिए दिल्ली पुलिस को 28 फरवरी तक का समय दिया है। कन्हैया कुमार और उसके अन्य साथियों पर आरोप है कि उन्होंने फरवरी 2016 में भारतीय संसद पर हमले के गुनहगार अफजल गुरू की दी गई फांसी के विरोध में मार्च निकाला और मार्च के दौरान देश विरोधी नारे लगाए। प्रदर्शन के 4 दिन बाद कन्हैया कुमार और उसके कुछ साथियों की गिरफ्तारी हुई थी। फिलहाल कन्हैया कुमार जमानत पर बाहर है। दिल्ली पुलिस ने इस मामले पर आरोप पत्र दाखिल कर दिए हैं लेकिन मुकदमा चलाने के लिए दिल्ली सरकार की मंजूरी चाहिए और दिल्ली सरकार ने अभी तक मुकदमा चलाने के लिए मंजूरी नहीं दी है। दिल्ली सरकार फिलहाल इस मामले पर चुप्पी साधे हुए है।
नई दिल्ली आम आदमी पार्टी (आप) और विधायक अलका लांबा के बीच चल रही नोक-झोंक अब खुलकर सामने आ गई है। आप के लिए काम न करने की धमकी देने के बाद अब अलका लांबा ने ट्विटर पर पोस्ट लिखकर आरोप लगाया है कि पार्टी में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। खुद से जुड़ी एक खबर को शेयर करते हुए अलका ने कहा कि पार्टी में कई ऐसी वजह हैं जिनके लिए उन्हें आप से अलग हो जाना चाहिए, लेकिन वह जनप्रतिनिधि की तरह अपनी सेवाएं जारी रखना चाहती हैं। दरअसल, मीडिया में खबरें थी कि अलका लांबा आप छोड़ना चाहती हैं और इसके लिए वाजिब वजह ढूंढ रही हैं। इसका जवाब देते हुए अलका ने ट्विटर पर लिखा, 'कारण खोजने की मुझे ही नहीं बल्कि बहुत से दूसरे विधायकों को भी कोई जरूरत नहीं है, पहले से ही बहुत से ऐसे कारण मौजूद होने के बावजूद भी मेरी तरह दूसरे विधायक आज भी पार्टी से जुड़े हुए हैं, इसे ही विधायकों की कमजोरी समझा जा रहा है, जनप्रतिनिधि के तौर पर मैं जानता के लिए अपनी सेवाएं जारी रखूंगी। क्या है विवाद अलका लांबा और आप पार्टी के बीच विवाद की वजह राजीव गांधी से जुड़ा एक प्रस्ताव था। दरअसल, एक आप विधायक ने 1984 दंगों का जिक्र कर कहा था कि राजीव गांधी को दी गई भारत रत्न की उपाधि को वापस लिया जाना चाहिए। इस प्रस्ताव के पक्ष में विधानसभा में बोलने के लिए अलका लांबा को भी कहा गया, लेकिन वह वॉक-आउट कर गईं। इसके बाद से अलका पार्टी पर खुद को अलग-थलग करने का आरोप लगाती रही हैं। पहले उन्हें नैशनल काउंसिल की मीटिंग में नहीं बुलाने की बात सामने आई थी। इसके बाद अलका ने आरोप लगाया कि दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर पर उन्हें अनफॉलो कर दिया है। उन्होंने पार्टी से कहा था कि उनकी वहां क्या जगह है यह साफ किया जाए।
नई दिल्ली, लंदन में EVM हैकिंग के दावे के बीच कांग्रेस ने कहा है कि वे चाहते हैं कि ईवीएम को फुलप्रूफ बनाया जाए. कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने आज कहा कि इस समय दुनिया में कुछ देश ही हैं जहां EVM बचा है. जो देश इसका प्रयोग करते थे, उन्होंने भी इसे अब बन्द कर दिया. हैकर के दावे पर सिंघवी ने कहा कि ये गंभीर हैं. चुनाव आयोग को इसकी जांच करनी चाहिए. VVPAT का इस्तेमाल 50% हो सिंघवी ने कहा कि हम चाहते हैं चुनाव फिर से पेपर बैलट पर हो. लेकिन इतनी जल्दी नहीं जा सकते. इसलिए हम EVM को फुलप्रूफ बनाने की मांग कर रहे हैं. अभी VVPAT का सिर्फ 1 प्रतिशत इस्तेमाल हो रहा. हम मांग कर रहे हैं कि VVPAT के बड़े सैम्पल यानि 50% जांच होना चाहिए. EVM का दुरुपयोग आंशिक मशीनों में किया जाता है. इतना भयानक संदेह है तो उसको दूर करना चाहिए. इससे देश आश्वस्त होगा. आई, मी, माइसेल्फ वाली मोदी सरकार इससे पहले जेटली और जावड़ेकर के बयान पर सिंघवी ने कहा कि इस बार लड़ाई मोदी बनाम भारत है. मोदी के ठग-बंधन और जन-बंधन के बीच लड़ाई है. मोदी सरकार आई, मी, माइसेल्फ वाली है. सिंघवी ने बताया कि जावड़ेकर ने कहा था कि मोदी के बाद अराजकता होगी. अहंकार की चरम सीमा के बाद ऐसे बयान आते हैं. ये सरकार आई, मी, माइसेल्फ वाली है. ये घबराहट है.
नई दिल्ली,2019 लोकसभा चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल का गाय प्रेम अचानक से बढ़ गया है. बाहरी दिल्ली के बवाना में गौशाला का निरीक्षण करने के बाद अब केजरीवाल हरियाणा में गौशालाओं का दौरा करने जा रहे हैं. दिल्ली से लेकर हरियाणा तक अब आम आदमी पार्टी गाय के मुद्दे पर बीजेपी को घेरने की तैयारी कर रही है. दिल्ली में सरकार के कामकाज को प्रचार का हिस्सा बनाने का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी के मुखिया का फोकस इन दिनों गाय पर है. इससे पहले 11 जनवरी को अरविंद केजरीवाल दिल्ली के बवाना में स्थित श्रीकृष्ण गौशाला के निरीक्षण के लिए गए थे. वहां उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा था कि "गाय के नाम पर वोट मांगने वाले गाय को चारा भी नहीं देते. हम गाय के नाम पर राजनीति नहीं करते. गाय के नाम पर वोट नहीं मांगते. गाय की सेवा करते हैं." लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अरविंद केजरीवाल हरियाणा की 10 लोकसभा सीटों के स्कूल-अस्पताल में रैली भी कर रहे हैं. पार्टी द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक केजरीवाल रविवार 13 जनवरी को सोनीपत के गांव सैदपुर अठगामा गौशाला, सोमवार 14 जनवरी को रोहतक के गांव मोखरा, श्रीकृष्ण गौशाला समिति और मंगलवार 15 जनवरी को हिसार के श्री गौशाला का दौरा करने जाएंगे. आम आदमी पार्टी का आरोप है कि हरियाणा में भाजपा लावारिस गोवंशों के लिए गौशालाएं बनाने, किसानों को नंदियों से मुक्ति दिलाने, गौशाला आयोग बनाने और गौ माता की सेवा के लिए अनेक कार्यक्रम चलाने के नाम पर सत्ता में काबिज हुई थी. आप नेताओं का आरोप है कि बीजेपी सत्ता में आने के बाद गाय को भूल गई है. पार्टी ने आंकड़ें साझा करते हुए आरोप लगाया है कि हरियाणा में 1 लाख 5 हजार से ज्यादा लावारिस गोवंश सड़कों पर घूम रहे हैं और जींद से लेकर साहाबाद की गौशालाओं में दर्जनों गायों की मौत हो चुकी है. आम आदमी पार्टी ने दावा किया है कि हरियाणा गौ सेवा आयोग द्वारा प्रदेश की गौशालाओं को 22 करोड़ 97 लाख 71 हजार 366 रुपये की अनुदान राशि दी गई है. पहले प्रदेश में 360 गौशालाएं थी जिनमें 2 लाख 65 हजार गौवंश थे. पिछले तीन सालों में प्रदेश में 160 गौशालाएं खोलने का कार्य किया गया है जिससे प्रदेश की सभी गौशालाओं में अब लगभग 3 लाख 85 हजार गौवंश का पालन पोषण हो रहा है. आम आदमी पार्टी का आरोप है कि हरियाणा की खट्टर सरकार एक गाय के लिए रोजाना 39 पैसे देती है. साथ ही पार्टी का दावा है कि दिल्ली में गौशालाओं को प्रति गाय रोजाना 40 रुपये दिया जाता है. आपको बता दें कि आम आदमी पार्टी ने दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और गोवा में लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. चुनावी प्रचार के दौरान अक्सर मोदी सरकार को घेरने वाले केजरीवाल पहली बार गौशालाओं का दौरा करने के साथ-साथ गाय के मुद्दे पर बीजेपी पर वार कर रहे हैं.
नई दिल्ली दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित (80) के हाथ में फिर से प्रदेश कांग्रेस की कमान आ गई है। अजय माकन के इस्तीफे के बाद से ही इस बात की उम्मीद की जा रही थी कि अनुभवी दीक्षित को ही पार्टी की कमान सौंपी जाएगी। कांग्रेस नेता पीसी चाको ने शीला दीक्षित को दिल्ली कांग्रेस का चीफ बनाए जाने की घोषणा की। उन्होंने बताया कि हारून यूसुफ, राजेश लिलोठिया, देवेंद्र यादव को वर्किंग प्रेजिडेंट बनाया गया है। माना जा रहा है कि माकन ने आप के साथ गठबंधन की संभावना को देखते हुए इस्तीफा दिया। मध्य प्रदेश और राजस्थान में अनुभवी पुराने कांग्रेसियों को कमान देने की तर्ज पर ही राहुल गांधी ने दिल्ली की कमान शीला दीक्षित को सौंपी है। वहीं, अजय माकन ने ट्वीट कर शीला दीक्षित को फिर से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर बधाई और शुभकामनाएं दीं। आपको बता दें कि 20 साल बाद शीला दीक्षित दिल्ली की पीसीसी चीफ बनेगी। माकन ने लिखा, 'मुझे विश्वास है कि शीलाजी की अगुआई में हम, मोदी+केजरीवाल सरकारों के विरोध में एक सशक्त विपक्ष की भूमिका निभाएंगे।' पार्टी संगठन में फिर से जान फूंकना चुनौती दिल्ली में कांग्रेस को एक ऐसे हाथ की जरूरत है, जो पार्टी को तीसरे स्थान से ऊपर ले जा सके। अजय माकन ने स्वास्थ्य कारणों का जो हवाला दिया है, उसके बाद कांग्रेस को दिल्ली के लिए शीला दीक्षित से बेहतर नाम अभी नहीं दिख रहा था। शीला का कद और अनुभव सब पर भारी पड़ता दिखा। आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी राहुल गांधी ने कांग्रेस के पुराने वफादारों कमलनाथ और अशोक गहलोत को ही कुर्सी सौंपी। युवाओं को भी देंगे मौका सूत्रों के मुताबिक, आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में शीला को नेतृत्व सौंपा है। साथ ही युवा नेता भी नाराज ना हों और शीला की उम्र व स्वास्थ्य को देखते हुए तीन वर्किंग प्रेजिडेंट बनाए गए हैं।
नई दिल्ली दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित (80) के हाथ में फिर से प्रदेश कांग्रेस की कमान आ गई है। अजय माकन के इस्तीफे के बाद से ही इस बात की उम्मीद की जा रही थी कि अनुभवी दीक्षित को ही पार्टी की कमान सौंपी जाएगी। कांग्रेस नेता पीसी चाको ने शीला दीक्षित को दिल्ली कांग्रेस का चीफ बनाए जाने की घोषणा की। उन्होंने बताया कि हारून यूसुफ, राजेश लिलोठिया, देवेंद्र यादव को वर्किंग प्रेजिडेंट बनाया गया है। माना जा रहा है कि माकन ने आप के साथ गठबंधन की संभावना को देखते हुए इस्तीफा दिया। मध्य प्रदेश और राजस्थान में अनुभवी पुराने कांग्रेसियों को कमान देने की तर्ज पर ही राहुल गांधी ने दिल्ली की कमान शीला दीक्षित को सौंपी है। वहीं, अजय माकन ने ट्वीट कर शीला दीक्षित को फिर से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर बधाई और शुभकामनाएं दीं। आपको बता दें कि 20 साल बाद शीला दीक्षित दिल्ली की पीसीसी चीफ बनेगी। माकन ने लिखा, 'मुझे विश्वास है कि शीलाजी की अगुआई में हम, मोदी+केजरीवाल सरकारों के विरोध में एक सशक्त विपक्ष की भूमिका निभाएंगे।' पार्टी संगठन में फिर से जान फूंकना चुनौती दिल्ली में कांग्रेस को एक ऐसे हाथ की जरूरत है, जो पार्टी को तीसरे स्थान से ऊपर ले जा सके। अजय माकन ने स्वास्थ्य कारणों का जो हवाला दिया है, उसके बाद कांग्रेस को दिल्ली के लिए शीला दीक्षित से बेहतर नाम अभी नहीं दिख रहा था। शीला का कद और अनुभव सब पर भारी पड़ता दिखा। आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी राहुल गांधी ने कांग्रेस के पुराने वफादारों कमलनाथ और अशोक गहलोत को ही कुर्सी सौंपी। युवाओं को भी देंगे मौका सूत्रों के मुताबिक, आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली में शीला को नेतृत्व सौंपा है। साथ ही युवा नेता भी नाराज ना हों और शीला की उम्र व स्वास्थ्य को देखते हुए तीन वर्किंग प्रेजिडेंट बनाए गए हैं।
नई दिल्ली राजधानी दिल्ली में ठंड बढ़ने लगी है और बुधवार को यहां का न्यूनतम तापमान महज 3.6 डिग्री दर्ज हुआ। यह इस साल का सबसे ठंडा दिन रहा, लेकिन पिछले तीन सालों के दौरान दिल्ली कभी इतनी ठंडी नहीं हुई। इससे पहले इसी साल 23 दिसंबर को न्यूनतम तापमान 3.7 डिग्री रहा था। दिल्ली के कई क्षेत्रों में न्यूनतम तापमान 3 डिग्री के आसपास ही दर्ज किया गया। इनमें लोदी रोड पर 3.4, जफरपुर में 3.6, मंगेशपुर में 3.7 और पूसा में 3.5 डिग्री रहा। न्यूनतम तापमान सामान्य से 4 डिग्री कम चल रहा है। मौसम विभाग के अनुसार अभी ठंडक इसी तरह रहेगी। कोहरा भी सितम ढहाता रहेगा। 30 दिसंबर तक दिल्ली में घने कोहरे का अलर्ट जारी किया गया है। 1 जनवरी को तापमान अधिकतम 21 और न्यूनतम 4 डिग्री रह सकता है। पिछले करीब एक हफ्ते से राजधानी शीतलहर की चपेट में है। इतने लंबे समय तक शीतलहर का प्रकोप पहले कभी नहीं देखा गया। पिछले 10 सालों के दौरान दिसंबर में 4 डिग्री से कम तापमान सिर्फ 4 मौकों पर ही देखा गया। ये मौके भी दिसंबर के अंतिम दिनों में आए। ऐसे में अनुमान है कि इस साल दिसंबर के अंतिम दिनों में तापमान 2 डिग्री तक भी जा सकता है।
नई दिल्ली दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार ने विधायकों को अपने क्षेत्रों में सरकारी कोष से सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित कराने के अधिकार दिए हैं। सरकार के इस कदम का मकसद ज्यादा से ज्यादा लोगों को कलाकारों की प्रतिभाओं से रूबरू कराना है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। आमतौर पर इस प्रकार के कार्यक्रम लुटियन दिल्ली जैसे मंडी हाउस इलाके में आयोजित होते हैं। यहां अनेक सभागार हैं। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की अध्यक्षता में हाल में आयोजित बैठक में यह निर्णय लिया गया। इस फैसले के अनुसार सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित कराने के इच्छुक विधायक को संबंधित अकादमी के सचिव को एक प्रस्ताव पेश करना होगा। फिर वह कार्यक्रम का बजट बनाकर विधायक को धन सौंपेंगे। एक अधिकारी ने बताया कि सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में सालाना सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए 25 लाख रुपये अलग रखे गए हैं। खर्च का अनुमान लगाए जाने के बाद विधायक को कला, संस्कृति तथा भाषा विभाग (एसीएल) के मंत्री के पास अर्जी भेजनी होगी। फिलहाल सिसोदिया के पास यह मंत्रालय है। एक अन्य अधिकारी ने बताया,‘ उदाहरण के तौर पर अगर किसी विधायक को किसी खास क्षेत्र में सिख समुदाय के लोगों के लिए कार्यक्रम आयोजित कराना है तो उसे पंजाबी अकादमी से संपर्क करना होगा।’ उन्होंने कहा, ‘एक बार प्रस्ताव एसीएल मंत्री के पास पहुंच जाए फिर विभाग उस विधानसभा क्षेत्र के लिए धन की उपलब्धता का पता लगाकर कार्यक्रम के लिए धन जारी कर देगा।’
नई दिल्ली दिल्ली के संस्कार आश्रम फॉर गर्ल्स (SAG) से नौ लड़कियों के गायब होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। सरकारी आश्रम से बच्चियों के गायब होने की जानकारी होने पर दिल्ली महिला आयोग (DCW) ने उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को बताया। उपमुख्यमंत्री ने नॉर्थ-ईस्ट डिस्ट्रिक्ट के महिला और बाल विकास विभाग के अफसर और आश्रम के सुपरिंटेंडेंट को सस्पेंड कर दिया। जीटीबी एनक्लेव पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति जय हिंद ने इस घटना पर रोष जताते हुए मामले की जांच क्राइम ब्रांच से कराने की मांग की है। मामला एक दिसंबर की रात का है। दिलशाद गार्डन स्थित संस्कार आश्रम से 9 लड़कियां गायब हो गईं। आश्रम के अधिकारियों को बच्चियों के गायब होने की जानकारी तक नहीं लगी। दो दिसंबर की सुबह इस बारे में पता चला। इस मामले में जीटीबी एनक्लेव पुलिस थाने में 2 दिसंबर को एक एफआईआर दर्ज की गई। स्वाति जय हिंद ने कहा कि दिल्ली की एक सरकारी शेल्टर होम से 9 लड़कियों के गायब होने की घटना चौंकाने वाली है। उन्होंने कहा कि उन्हें जानकारी मिली है कि इसमें से कई लड़कियां वे हैं जिन्हें महिला आयोग ने अलग-अलग मानव तस्करों के गिरोह से छुड़ाया था। स्वाति ने कहा कि जो भी लोग इसमें शामिल हैं, उन्हें पकड़ा जाए, लड़कियों को खोजा जाए और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले। उन्होंने कहा कि बहुत दुख की बात है कि महिला आयोग जान पर खेलकर बच्चियों को मानव तस्करों के गिरोह से छुड़ाता है और कुछ अधिकारी और लोग इन्हें वापस मानव तस्करी के दलदल में धकेल देते हैं। दिल्ली महिला आयोग का कहना है कि इन नौ लड़कियों को बाल कल्याण समिति-VII के आदेश पर 4 मई 2018 को द्वारका के एक शेल्टर होम से संस्कार आश्रम फॉर गर्ल्स में लाया गया था। ये सभी मानव तस्करी और देह व्यापार की शिकार थीं। इससे पहले भी आयोग में बाल कल्याण समिति-V की पूर्व सदस्य ने संस्कार आश्रम फॉर गर्ल्स, दिलशाद गार्डन में व्याप्त अव्यवस्थाओं के बारे में एक शिकायत दर्ज करवाई थी। न्होंने बताया था कि एक लड़की के साथ आश्रम के अधिकारियों ने दुर्व्यवहार किया है। इसमें कहा गया कि बच्ची के साथ गलत बर्ताव होता था। उसे मारा-पीटा जाता था। बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष और सदस्य को इस मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा। उन्होंने होम के अधीक्षक के खिलाफ बच्ची को मारने के मामले में एक लिखित शिकायत की थी। दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस और दिल्ली सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग को नोटिस जारी किया था और मामले में जुवेनाइल जस्टिस रूल्स, 2016 के नियम 54(2) के तहत एफआईआर दर्ज न होने का कारण बताने को कहा था।
नई दिल्ली, 03 दिसंबर 2018, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया ने राम मंदिर पर चल रहे विवाद के बीच कहा है कि उस स्थान पर एक यूनिवर्सिटी बनवा देना चाहिए. सिसोदिया ने कहा कि सही मायनों में राम राज्य शिक्षा से आएगा, न कि वहां भव्य मंदिर बनाकर. एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में सिसोदिया ने कहा कि दोनों पक्ष अगर राजी हो जाएं तो वहां एक विश्वविद्यालय बनना चाहिए. राम मंदिर पर आम आदमी पार्टी के स्टैंड के सवाल पर सिसोदिया ने कहा कि हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई और फॉरेन स्टूडेंट्स भी यहां शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं. अपने बच्चों को पढ़ाकर हम राम राज्य ला सकते हैं. इस समय जाति पर हो रही राजनीति के सवाल पर उन्होंने कहा कि ऐसी राजनीति को सिर्फ शिक्षा से ही रोका जा सकता है. सिसोदिया ने कहा कि अभी हाल ही में मैं जापान गया था. वहां जिस दिन हाइड्रोजन से कार चलाने के नए सिस्टम पर चर्चा की जा रही थी, उसी दिन हमारे देश में ट्विटर पर हनुमान की जाति पर बहस हो रही थी. ये बेहद निराश करने वाला है. इसे सिर्फ शिक्षा से ही बदला जा सकता है. लोकसभा चुनाव के सवाल पर सिसोदिया ने कहा कि आम आदमी पार्टी दिल्ली की सभी 7 लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ेगी. सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली के अलावा उनकी पार्टी पंजाब और हरियाणा में भी पूरा ध्यान दे रही है.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/