taaja khabar....PNB ने अन्य बैंकों को चिट्ठी लिख किया सचेत, 10 अधिकारी निलंबित.....PNB केस की INSIDE स्टोरी: 7 साल पहले हुआ था फ्रॉड, सरकार की सख्ती से खुलासा....बिहार के आरा में आतंकियों के कमरे में धमाका, बड़ी साजिश नाकाम, 4 फरार.....तीन दिन में तीन यात्राएं, चुनावी मोड में बीजेपी, निशाना 2019 पर...मोदी केयर' पर केंद्र ने राज्यों की बुलाई बैठक, ममता पहले ही झाड़ चुकी हैं पल्ला....
नई दिल्ली, स्व‍िट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम का सम्मेलन आयोजित किया गया है. इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही नहीं, बल्क‍ि शाहरुख खान भी शामिल हुए. इस कार्यक्रम में शाहरुख खान को क्रिस्टल अवॉर्ड मिला. इसके लिए किंग खान ने WEF के आयोजकों को धन्यवाद कहा. इससे पहले उन्होंने स्व‍िट्जरलैंड की बर्फीली वादियों के बीच अपने सिग्नेचर स्टाइल में एक फोटोशूट कराया.शाहरुख ने इसके कैप्शन में लिखा है, स्व‍िट्जरलैंड आकर ये न किया तो क्या किया? अब क्रिस्टल अवॉर्ड सेरेमनी के लिए तैयार होना है. शाहरुख को इस खास सम्मान से नवाजा जा रहा है. दरअसल, शाहरुख खान दुनिया के उन तीन कलाकारों में शामिल हैं, जिनका सामाजिक कार्यों में योगदान देने के लिए सम्मान किया जा रहा है. शाहरुख के अलावा इस 48 वें वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम समिट में म्यूजिशियन एल्टन जॉन और एक्ट्रेस-प्रोड्यूसर केट ब्लैंचेट को भी क्रिस्टल अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा. शाहरुख खान ने टि्वटर पर दावोस की एक तस्वीर भी शेयर की है. इसके साथ उन्होंने लिखा है, भाईसाहब, काफी ठंड है, उम्मीद है कि कुछ प्यार और दोस्ती से गर्मी मिलेगी. सम्मान के लिए वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम का शुक्र‍िया. बता दें कि शाहरुख च्चों के हॅास्पिटल में स्पेशल वार्ड बनवाने और कैंसर का इलाज करा रहे बच्चों के लिए रहने की फ्री व्यवस्था करने में भी मदद करते हैं. इसके अलावा वे नॉन प्रॉफिट ऑर्गेनाइजेशन 'मीर फाउंडेशन' के फाउंडर हैं. ये संगठन एसिड अटैक पीड़ित महिलाओं को डॉक्टरी और कानूनी मदद, बिजनेस ट्रेनिंग, पुनर्वास और रोजगार मुहैया कराता है. ब्रिटेन के म्यूजिशियन एल्टन जॉन दुनिया के बेहतरीन सोलो म्यूजिक परफॉर्मर में शामिल हैं. 50 सालों के करियर में उन्होंने 35 गोल्ड और 25 प्लेटिनम एल्बम जारी किए. 25 करोड़ से ज्यादा रिकॉर्ड उन्होंने दुनियाभर में बेचे हैं. ऑस्ट्रेलियन एक्ट्रेस केट ब्लैंचेट UNHCR की ग्लोबल गुडविल एंबेस्डर हैं. साल शरणाथिर्यों की मदद कर रही हैं. इससे पहले केट ऑस्कर, बाफ्टा, गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड आदि जीत चुकी हैं.
नई दिल्ली, सलमान खान एक बार फिर साल के जाते-जाते बॉक्स ऑफि‍स पर रिकॉर्ड बना रहे हैं. उनकी फिल्म 'टाइगर जिंदा है' 2017 की दूसरी सबसे ज्यादा कमाई वाली फिल्म बन गई है. इस फिल्म का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी खास कनेक्शन है. फिल्म के निर्देशक अली अब्बास जफर ने कहा, 'यदि नोटिस किया गया हो तो फिल्म में मिशन के दौरान परेश रावल टाइगर (सलमान खान) से पूछते हैं 'पीएम साहब' को मिशन की खबर है न? फिल्‍म में असली डायलॉग था 'मोदी जी को पता है? इस डायलॉग को अब्बास ने इसल‍िए रखा था, क्योंकि वे प्रधानमंत्री का आभार जताने चाहते थे. उन्होंने इराक में बंदी बनाई गईं भारतीय नर्सों को सफलतापूर्वक छुड़ाने में अहम भूमिका निभाई थी. लेकिन बाद में इसे सेंसर बोर्ड के कहने पर हटा दिया गया. अली अब्बास जफर ने बताया, 'पूरी फिल्‍म काल्‍पनिक है. इसलिए सेंसर बोर्ड ने डायलॉग बदलकर 'पीएम साहब' करने को कहा. हमें उनका फैसला सही लगा, क्‍योंकि हम बचाव अभियान की वास्‍तविक जानकारियां नहीं दे रहे थे.' बता दें कि इस फिल्म की कहानी वास्तविक घटना पर आधारित है. फिल्म में सलमान और कटरीना 25 भारतीय नर्सों को आईएसआईएस के चंगुल से छुड़ाते नजर आए हैं. ये घटना 2014 में घटी थी. आतंकी संगठन आईएसआईएस ने इराक के तिकरित में काम करने वालीं 46 नर्सों को बंधक बना लिया था. इन्हें अस्पताल में किडनैप करके रखा गया था. अस्पताल के बाहर गोलीबारी होने से कुछ नर्सें घायल भी हो गई थीं. इन नर्सों को आईएसआईएस के कब्जे से छुड़ाना बेहद चुनौतीपूर्ण था. लेकिन इसे सरकार ने अपनी सूझबूझ से कर दिखाया. 'टाइगर जिंदा है' ने भारत में 7 दिन में 206 करोड़ रुपये कमाकर नया रिकॉर्ड बना दिया है. 206 करोड़ कमा कर फिल्म साल की दूसरी सबसे ज्यादा कमाई वाली फिल्म बन गई है. पहले नम्बर पर बाहुबली 2 है. फिल्म ने गुरुवार को 15.42 करोड़ रुपये का बिजनेस किया. 2017 की दूसरी सबसे ज्यादा कमाई वाली फिल्म अभी तक 'गोलमाल अगेन' (205.67 करोड़ रुपये) थी, लेकिन 'टाइगर जिंदा है' उससे आगे निकल चुकी है.
लंदन इन दिनों सबसे अधिक विवादों में रही संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' जहां अब भी भारत में रिलीज के लिए सेंसर बोर्ड की मंजूरी के इंतजार में है, ब्रिटेन में इसे बिना किसी कट के पास कर दिया गया है। ब्रिटिश सेंसर बोर्ड ने दीपिका पादुकोण-रणवीर सिंह स्टारर इस फिल्म को 12A ऑडियंस के लिए (12 साल और उससे ऊपर की उम्र के बच्चे, वयस्क के साथ देख सकते हैं) पास कर दिया है। बता दें कि फिल्म की रिलीज की तारीख 1 दिसंबर थी। ऐसे में माना जा रहा है कि ब्रिटेन में मंजूरी मिलने के बाद इसे वहां 1 दिसंबर से दिखाई जा सकती है। ब्रिटेन में मेकर्स ने फिल्म के इस क्लासिफिकेशन के लिए संभवतः पहले ही अप्लाई कर दिया गया था। हालांकि बाद में भारत में 'पद्मावती' को लेकर कुछ संगठनों के तीखे विरोध के बाद फिल्म के निर्माता भंसाली प्रॉडक्शन्स और viacom 18 पिक्चर्स द्वारा फिल्म की रिलीज़ को टालने का फैसला लिया गया। सेंसर बोर्ड के एक सूत्र ने बताया, 'सर्टिफिकेशन के लिए फिल्म को पिछले सप्ताह भेजा गया था। जैसा कि आमतौर पर करते हैं, हमने दस्तावेजों की जांच की। फिल्ममेकर्स को यह बता दिया गया है कि उनका आवेदन अधूरा है। उन्हें इसे दूर करना होगा और फिर इसे ठीक कर वापस भेजना होगा, जिसके बाद हम उसे फिर से देखेंगे।' बता दें कि सेंसर बोर्ड ने आवेदन को अधूरा बताते हुए निर्माताओं को लौटा दिया गया था। फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे संगठनों का कहना है कि इस फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है। संगठनों का कहना है कि 'पद्मावती' में सपने के एक दृश्य में अलाउद्दीन और पद्मावती को आपत्तिजनक स्थिति में दिखाया गया है। हालांकि फिल्म के निर्माता संजय लीला भंसाली लगातार इस बात को खारिज कर रहे हैं। गौरतलब है कि पहले 'पद्मावती' को 1 दिसंबर को रिलीज किया जाना था, लेकिन अब निर्माता खुद ही इस तारीख से पीछे हट चुके हैं। इस बीच प्रॉडक्शन हाउस के अधिकारियों ने पद्मावती को ब्रिटिश सेंसर बोर्ड के ग्रीन सिग्नल को एक सामान्य प्रक्रिया बताया है। उनके मुताबिक फिल्म को ब्रिटेन के अलावा कई और देशों के सेंसर बोर्ड के पास भेजा गया है।
नई दिल्ली,गोवा अंतराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में 'न्यूड' और 'एस दुर्गा' फिल्म को नहीं दिखाए जाने के फैसले के बाद. इस फेस्टिवल के जूरी के प्रमुख सुजॉय घोष ने भले ही विरोधस्वरूप अपना इस्तीफा दे दिया हो, लेकिन सरकार इसके बावजूद अपने रूख पर कायम है. ये दोनों फिल्में किसी भी हालत में फिल्म फेस्टिवल में नहीं दिखाई जाएंगी. सुजॉय घोष के इस्तीफे को लेकर श्याम बेनेगल समेत कई बड़ी फिल्मी हस्तियों ने सरकार की आलोचना की है. लेकिन सूचना प्रसारण मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक उनके इस्तीफे से सरकार बिल्कुल दबाव में नहीं आएगी और इन फिल्मों के बारे में सरकार का फैसला नहीं बदलेगा. सूत्रों के मुताबिक, सुजॉय घोष भले ही जूरी के अध्यक्ष हो लेकिन उन्हें पता होना चाहिए कि फिल्म समारोह में फिल्म दिखाए जाने के बारे में सरकार के नियम साफ करते हैं कि असाधारण परिस्थितियों में सूचना और प्रसारण मंत्रालय के पास अधिकार है कि वो किसी भी ऐसी फिल्म को दिखाए जाने पर रोक लगा सके जिससे देश की एकता, अखंडता, सुरक्षा को खतरा पैदा हो सकता हो या फिर कानून व्यवस्था या पड़ोसी देशों के साथ संबंध पर असर पडता हो. सूत्रों के मुताबिक, S Durga फिल्म का नाम अब बदलने से कोई फर्क नहीं पड़ताक्योंकि जूरी के पास जब फिल्म भेजी गयी थी तब उसका नाम Sexy Durga ही था. मंत्रालय ने इस फिल्म को मुंबई फिल्म फेस्टिवल में नहीं दिखाए जाने के बारे में फिल्म महोत्सव की डायरेक्टर अनुपमा चोपड़ा को 19 सितंबर को चिठ्टी लिखी थी. उसमें कहा गया है कि दुर्गा हिन्दुओं की एक प्रमुख देवी का नाम है और मंत्रालय का मानना है कि अगर इस फिल्म को फिल्म फेस्टिवल में दिखाए जाने की अनुमति दी जाती है तो इससे लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचेगी. वहीं कानून व्यवस्था को लेकर समस्या पैदा हो सकती है. इस फिल्म को 12 से 18 अक्टूबर 2017 को मुम्बई फिल्म फेस्टिवल में दिखाए जाने की अनुमति नहीं दी गई थी. तब भी मंत्रालय ने ही इस फिल्म को दिखाए जाने के बारे में MAMI (Mumbai Academy of Film Image) के अनुरोध को ठुकरा दिया था . सुजॉय घोष ने तब इस मामले पर कुछ नहीं कहा था और चुप क्यों रहे. मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक एस दुर्गा फिल्म में मलयाली भाषा के कई बेहद ही आपत्तिजनक अश्लील शब्दों का प्रयोग किया गया है. ऐसी फिल्म को फिल्म महोत्सव में नहीं दिखाया जा सकता. 'न्यूड' फिल्म के बारे में मंत्रालय का तर्क है कि ये फिल्म तकनीकी तौर पर पूरी नहीं है. पर सूत्रों के मुताबिक सरकार को इसके पोस्टर पर आपत्ति थी जिसमें नग्नता दिखाई गई है. सूत्रों के मुताबिक, गोवा फिल्म फेस्टिवल से बाहर होने के बाद इस फिल्म के डायरेक्टर शशिधरन काफी हंगामा मचा रहे हैं. लेकिन इसी साल दिसम्बर में होने वाले केरल के अंतराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव से शशिधरन ने खुद अपनी फिल्म वापिस कर ली थी क्योंकि इस फिल्म को उस समारोह में महत्वपूर्ण फिल्मों की श्रेणी में शामिल नहीं किया गया था. जानकारों के मुताबिक सरकार इस बात से भी नाराज है कि इस फिल्म को लेकर चल रहे विवाद के बीच शशिधरन ने विरोध जताते हुए फेसबुक पर जिन शब्दों की इस्तेमाल किया था. My Durga is not your powerful goddess. My Durga is the common Indian girl on the street, for whom you have no sentiment at all. सरकार को उनके विरोध की ये भाषा नागवार गुजरी है.
vनई दिल्ली फिल्म 'पद्मावती' की रिलीज को लेकर छिड़े विवाद के बीच मूवी की लीड ऐक्ट्रेस दीपिका पादुकोण ने कहा है कि कोई भी चीज इस फिल्म के प्रसारण पर रोक नहीं लगा सकती। दीपिका ने कहा, 'हम जिसके प्रति जवाबदेह हैं, वह सिर्फ सेंसर बोर्ड है। मैं जानती हूं और मेरा विश्वास है कि इस फिल्म की रिलीज को कोई रोक नहीं सकता।' दीपिका ने कहा कि फिल्म इंडस्ट्री का सपॉर्ट बताता है कि 'यह सिर्फ पद्मावती की बात नहीं है। हम इससे कहीं बड़ी लड़ाई लड़ रहे हैं।' इस बीच बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने दीपिका की डच नागरिकता का हवाला देते हुए उन पर निशाना साधा है। उन्होंने दीपिका पर हमला बोलते हुए कहा कि आखिर दीपिका पादुकोण कैसे हमारी निंदा कर सकती हैं, जबकि वह भारतीय भी नहीं हैं। स्वामी ने ट्वीट कर कहा, 'अभिनेत्री दीपिका पादुकोण हमें पिछड़ेपन को लेकर लेक्चर दे रही हैं! यह देश तभी विकास कर सकता है, जब उनकी नजर में वह पीछे जा रहा हो।' पद्मावती के विरोध को लेकर दीपिका ने कहा, 'यह डराने वाला है, निसंदेह बहुत भयभीत करने वाला है। हमने खुद को कैसा बना लिया है? एक राष्ट्र के तौर पर हम कहां पहुंच गए हैं?' पद्मावती संजय लीला भंसाली की ऐसी तीसरी फिल्म है, जिसमें दीपिका पादुकोण ने उनके डायरेक्शन में काम किया है। इससे पहले दीपिका ने उनके साथ गोलियों की रासलीला, रामलीला और ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर बनी बाजीराव मस्तानी में उनके साथ काम किया है। दीपिका ने अपने किरदारों को लेकर कहा कि ये स्वतंत्र व्यक्तित्व थे और बेहद मजबूत किरदार थे। शाहिद कपूर और रणवीर सिंह जैसे दो अभिनेताओं की मौजूदगी के बाद भी लीड भूमिका कर रहीं दीपिका पादुकोण ने कहा कि किसी अभिनेत्री के करियर में ऐसे अवसर बहुत कम आते हैं। दीपिका ने कहा, 'एक महिला के तौर पर मुझे इस फिल्म का हिस्सा होने पर गर्व महसूस होता है। इस स्टोरी के बारे में जो बताने की जरूरत है, वह बताना चाहिए।' गौरतलब है कि कुछ दक्षिणपंथी संगठनों ने फिल्म में कहानी को तोड़मरोड़कर पेश करने और रानी पद्मावती को अपमानित करने का आरोप लगाया है। इतिहास में रानी पद्मावती का जिक्र मलिक मोहम्मद जायसी की प्रसिद्ध रचना पद्मावत में मिलता है।
नई दिल्ली, बॉलीवुड के तीन ख्यात प्लेबैक सिंगर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है. इन पर पैसा लेकर म्यूजिक कॉन्सर्ट न करने का आरोप है. ये सिंगर है अंकित तिवारी, शिल्पा राव और आकृति कक्कड़. ये मामला दो साल पुराना है. एक यूएस बेस्ड कंपनी ने अंकित तिवारी, शिल्पा राव और आकृति कक्कड़ पर आरोप लगाया है कि उन्होंने 30 लाख रुपए की फीस लेने के बाद भी परफॉर्म नहीं किया. इसी आरोप के चलते इन सिंगर्स पर ओशिवारा पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई गई है. इन्हें नोटिस भेजकर तत्काल अपने बयान दर्ज कराने के लिए समन जारी कि‍या गया है. लेकिन फिलहाल ये तीनों सिंगर मुंबई में नहीं है. रेप के आरोप में 'आशिकी 2' के गायक अंकित तिवारी गिरफ्तार बता दें कि अंकित तिवारी पहले भी विवादों का हिस्सा बने हैं. दो साल पहले लॉयंस गोल्ड अवार्ड्स समारोह में अंकित तिवारी को अवार्ड से नवाजा जाना था, पर जब उनका नाम पुकारा गया तो वो मंच पर नहीं पहुंचे. चौंकाने वाली बात यह है कि वो अवार्ड समारोह में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे भी थे. लेकिन अवार्ड्स धीरे-धीरे सभी को दिए जा रहे थे, साथ में परफॉर्मेंस भी हो रही थी और इस विलंब को अंकित तिवारी बर्दाश्त नहीं कर पाए, और बिना अवार्ड लिए ही चले गए. अंकित तिवारी पर 2014 में हुए युवती ने शादी के झूठे सपने दिखाने का आरोप लगाया था.इवेंट मैनेजमेंट कंपनी में काम करने वाली पीड़िता ने खुलासा किया है कि अंकित ने उसे धमकी दी थी कि अगर उसने अपना मुंह खोला तो वह रेप वीडियो सार्वजनिक कर देगा.इस मामले में अंकित को गिरफ्तार किया गया था. पीड़िता ने कहा था, 'मैं अंकित से करीब एक साल पहले अक्टूबर 2012 में दुर्गा पूजा के दौरान मिली थी. उसके वकील का ये दावा कि मैंने दो साल पहले उससे शादी की थी. यह सरासर झूठ है.' पीड़िता ने इस बात से भी इनकार किया कि उसने अंकित से तीन करोड़ रुपए ऐंठने की कोशिश की थी. उसने कहा, 'मैं अंकित से तब मिली थी जब वह स्ट्रगलर था. मैंने उसके लिए मोबाइल फोन खरीदा था और उसके टेलीफोन बिल्स भरे हैं. अगर आपने आज तक एक करोड़ रुपए भी नहीं कमाए तो आप कैसे किसी पर तीन करोड़ रुपए ऐंठने का आरोप लगा सकते हैं? मैं एक कंपनी की वीपी हूं और मुझे पैसों की जरूरत नहीं है.' आपको बता दें कि ये वही अंकित तिवारी हैं जिन्‍होंने 2013 की सुपरहिट फिल्‍म 'आशिकी 2' के लिए हिट गाना 'सुन रहा है न तू...' गाया था.
आजकल अपनी कमबैक फिल्म 'भूमि' के प्रमोशन में व्यस्त संजय दत्त ने इस बात पर खुशी जताई है कि उनकी जिंदगी पर बन रही बायॉपिक में उनका किरदार रणबीर कपूर निभा रहे हैं। हाल में एक इवेंट के दौरान संजय दत्त ने कहा, 'मैं बहुत खुशनसीब हूं एक ऐसे आदमी पर बायॉपिक बनाई जा रही है जो अभी तक जिंदा है।' रणबीर के बारे में संजय ने कहा, 'रणबीर ने बहुत बेहतरीन काम किया है और डायरेक्टर के तौर पर राजकुमार हिरानी से बेहतर कोई नहीं हो सकता है।' बता दें कि जब से इस फिल्म में रणबीर कपूर के लुक की कुछ फोटो इंटरनेट पर वायरल हुईं, तभी से यह फिल्म चर्चा का विषय बन गई। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि यह फिल्म अगले साल मार्च में रिलीज़ होगी। इस फिल्म में परेश रावल, सुनील दत्त और मनीषा कोइराला, नरगिस दत्त की भूमिका निभा रही हैं। इस फिल्म में दिया मिर्जा, सोनम कपूर, करिश्मा तन्ना और अनुष्का शर्मा भी महत्वपूर्ण भूमिकाओं में नज़र आएंगी।
नई दिल्ली,टीवी की दुनिया से एक हैरान करने वाली खबर है. एक रिपोर्ट के मुताबिक कुमकुम फेम जूही परमार और श्रीकृष्ण की भूमिका से दर्शकों के दिल में बसने वाले सचिन श्रॉफ अब तलाक लेने वाले हैं. दोनों ने अलग होने का फैसला कर लिया है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक टीवी की दुनिया का ये सुपरहिट कपल रियल लाइफ में पिछले एक साल से अलग रह रहा है. दोनों के बीच पिछले काफी समय से कुछ ठीक नहीं चल रहा है और अब दोनों तलाक लेने वाले हैं. दोनों की शादी को आठ साल हो चुके हैं. साल 2009 में हुई थी शादी बता दें कि साल 2009 में जूही परमार और सचिन श्रॉफ की शादी हुई थी. उनकी एक चार साल की बेटी भी है. उसका नाम समायरा है. कुछ समय पहले भी इस इस तरह की खबरें सामने आई थीं कि वो अलग होने वाले हैं, लेकिन दोनों ने ही इस तरह की खबरों को अफवाह बताया था. हालांकि दोनों के बीच अलगाव का अंदाजा उस वक्त भी लगाया गया जब कुछ समय पहले ही शुरू हुए जूही के कमबैक शो कर्मफल दाता शनि की लॉन्चिंग के मौके पर सचिन कहीं नजर नहीं आए थे. मगर अब ये साफ हो चुका है कि दोनों ने अलग होने का मन बना लिया है. पांच महीने में हो गया था प्यार जूही और सचिन की मुलाकात एक टीवी शो के दौरान ही हुई थी. पहली मुलाकात के पांच महीने बाद ही दोनों को प्यार हो गया और उन्होंने शादी का फैसला कर लिया. सचिन ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था, 'हम काफी समय तक दोस्त की तरह रहे. लेकिन कुछ ही महीने बाद हमें ऐसा लगा जैसे हम एक-दूसरे को प्यार करते हैं. हम दोनों ही साथ रहना चाहते थे और हमने शादी कर ली. जयपुर के एक महल में दोनों की शादी हुई थी. इसे एक शाही शादी के तौर पर याद किया जाता है. एक साल से अलग रह रहे हैं दोनों बताया जाता है कि शुरुआत में सब कुछ काफी अच्छा था, लेकिन धीरे-धीरे उनकी जिंदगी में मनमुटाव होने लगे. अब जब ये मनमुटाव इतने बढ़ गए हैं, कि दोनों ने अलग होने का फैसला कर लिया है, तो उनके फैंस के लिए काफी निराश करने वाली खबर है. पिछले एक साल से जूही बेटी समायरा के साथ सचिन से अलग ही रह रही हैं. अब कहा जा रहा है कि वह जल्द ही डिवोर्स की अर्जी देने वाली हैं. हालांकि रिपोर्ट के मुताबिक जूही और सचिन दोनों से ही इस मुद्दे पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है.
बॉलिवुड ऐक्टर अनिल कपूर, अनुपम खेर और फिल्मकार मधुर भंडारकर जैसी कई बॉलिवुड हस्तियों ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 67वें जन्मदिन पर बधाई दी। अनुपम खेर ने कहा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जन्मदिन की बधाई। आप आने वाले वर्षों में ईमानदारी, निस्वार्थ भाव और कड़ी मेहनत के साथ हमारे देश का नेतृत्व करते रहें, जय हो। अनिल कपूर ने कहा: एक नेता वह होता है जो रास्ता जानता है, उस रास्ते पर चलता है और रास्ता दिखाता है। भारत को महानता की ओर प्रेरित करने वाली शक्ति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की बधाई। एकता कपूर: उत्कृष्ट प्रधानमंत्री को जन्मदिन की बधाई। भूमि पेडनेकर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सर को जन्मदिन की शुभकामनाएं। कैलाश खेर: हमारे देश की सबसे शानदार शख्सियत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी को जन्मदिन की शुभकामनाएं। आपके अच्छे स्वास्थ्य के लिए शुभकामनाएं और प्रार्थना।
कलाकारआयुष्मान खुराना, भूमि पेडनेकर, ब्रजेंद्र काला, सीमा पाहवा निर्देशक आर.एस. प्रसन्ना मर्द को कभी दर्द नहीं होता, यह कहावत तो आपने सुनी होगी। लेकिन मर्द की मर्दानगी से जुड़े सवालों को हल्के-फुल्के अंदाज में छूती इस फिल्म में लीड कैरेक्टर आयुष्मान मर्द की नई परिभाषा बताती है कि मर्द वह होता है, जो ना दर्द देता है और ना किसी को देने देता है। फिल्म शुभ मंगल सावधान दिल्ली बेस्ड मुदित शर्मा ( आयुष्मान खुराना) की कहानी है, जिसकी सगाई दिल्ली की ही सुगंधा (भूमि पेडनेकर) से हो जाती है। सगाई से शादी के बीच के दिनों में मुदित और सुगंधा एक-दूसरे के करीब आते हैं, तो उन्हें पता लगता है कि मुदित को सेक्सुअल प्रॉब्लम है। यह पता लगते ही सुगंधा के पैरंट्स शादी के खिलाफ हो जाते हैं। लेकिन मुदित किसी भी हालत में सुगंधा से शादी करना चाहता है और इसके लिए हर मुमकिन कोशिश करता है। इसमें सुगंधा भी उसका पूरा साथ देती है। मजेदार घटनाक्रम और तमाम नोक-झोंक के बीच आखिरकार मुदित और सुगंधा की शादी हो पाती है या नहीं यह आपको थिअटर में जाने पर ही पता लगेगा। शुभ मंगल सावधान 2013 में आई तमिल फिल्म कल्याण समायल साधम् की हिंदी रीमेक है। इसके तमिल वर्जन के डायरेक्टर आर. एस. प्रसन्ना ही थे। इसलिए शुभ मंगल सावधान के निर्माता और अपनी तनु वेड्स मनु और रांझणा जैसी देसी अंदाज वाली फिल्मों के लिए मशहूर आनंद एल राय ने इसके डायरेक्शन की कमान प्रसन्ना को सौंपी। प्रसन्ना ने भी आनंद को निराश नहीं किया और हिंदी के दर्शकों के लिहाज से मजेदार कॉमिडी पेश की है। खास बात यह है कि उन्होंने मौजूदा समाज में स्ट्रेस के चलते लड़कों के बीच सेक्सुअल प्रॉब्लम और शादी के बाद इसे झेलने वाली वाली तमाम लड़कियों की परेशानी को बेहद खूबसूरती से मजेदार अंदाज में पर्दे पर उतारा है। बेशक, सिनेमा समाज का दर्पण होता है और सिनेमा का असर समाज पर काफी हद तक पड़ता है। ऐसे में, इस फिल्म को देखने वाले युवा लड़के-लड़कियों में निश्चित तौर पर एक ऐसे विषय को लेकर जागरूकता बढ़ेगी, जिसके बारे में हमारे समाज में बात करने से अमूमन बचा जाता है। खासकर प्रसन्ना ने कुछ सीरियस चीजों को महज सीन या डायलॉग से बेहद खूबसूरत अंदाज में पर्दे पर दिखाया है। हालांकि कहीं-कहीं डबल मीनिंग डायलॉग कुछ ज्यादा ही हो जाते हैं। लीक से हटकर सब्जेक्ट के चलते यंगस्टर्स के बीच चर्चित शुभ मंगल सावधान के क्रेज का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस फिल्म के ट्रेलर को एक करोड़ से ज्यादा लोग देख चुके हैं। विकी डोनर, दम लगा के हईशा और बरेली की बर्फी में मजेदार रोल के बाद शुभ मंगल सावधान में भी बेहतरीन ऐक्टिंग करके आयुष्मान खुराना ने दिखा दिया है कि वह देसी जोनर की फिल्मों के एक्सपर्ट बन चुके हैं। वहीं दम लगा के हईशा और टॉयलेट एक प्रेमकथा जैसी देसी फिल्मों में अपनी ऐक्टिंग का लोहा मनवाने वाली भूमि पेडनेकर ने भी दिखा दिया कि वह बॉलिवुड में लंबी पारी खेलने के लिए आई हैं। आने वाले दिनों में देसी जोनर की फिल्मों के कई रोल भूमि को ऑफर हो सकते हैं। दम लगा के हईशा के बाद आयुष्मान और भूमि की जोड़ी फिर से खूब जमी है। सुगंधा के ताऊ जी के रोल में ब्रिजेंद्र काला हमेशा की तरह लाजवाब हैं। वहीं सुगंधा की ममी के रोल में सीमा पाहवा ने बरेली की बर्फी के बाद एक बार फिर बेहतरीन ऐक्टिंग की है। फिल्म के राइटर हितेश केवलय ने ऐसे मनोरंजक डायलॉग लिखे हैं, जो थिअटर में दर्शकों को पेट पकड़कर हंसने पर मजबूर देते हैं। फिल्म का फर्स्ट हाफ आपको खूब गुदगुदाता है। हालांकि इंटरवल के बाद से फिल्म जरूर थोड़ी सीरियस हो जाती है। फिल्म के गाने अच्छे लगते हैं और कहानी का हिस्सा ही लगते हैं। वहीं अनुज राकेश धवन की सिनेमटाग्रफी भी अच्छी है। खासकर गानों का फिल्मांकन भी खूबसूरती से किया गया है। इस वीकेंड आप इस फिल्म को देखने जायेंगे, तो यह आपको निराश नहीं करेगी।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/